Thursday, 19 September 2013

What is Corruption ?



No no , don’t think that I am going to tell you any theory about corruption or any philosophy of corruption, “what is Corruption?” is title of a story, yes today I am going to tell you a story of a King, who was known for his excellence ruling system.

Long time ago, there was a democratic state where people themselves would like to chose who would become next king from the Royal family, there was a situation when King was no more and people have to select their next king but Prince was very immature to become king and Queen was from other state so people decided that royal family’s most loyal and most honest minister should be crowned as king, and they did.

King was ruling the state under the guidance of Queen; meanwhile Prince was becoming young and playful, he was popular amongst other loyal friends of Royal family.
Everything was going fine, but suddenly there was a massive chaos in the state about corruption and scams. Everywhere people were saying that Corruption is increasing day by day and everywhere it is causing problem for common man.
One day King held a meeting with all courtiers, discussed with them that people are crying about corruption, people are saying that they see everywhere corruption, I haven’t seen yet, have you seen ever? If anybody of you has seen corruption then tell me, how it looks like? Is it a worm, virus or a bacteria or it is something sent by our enemy states?
All courtiers said in one voice, “my lord, when it is not visible to you then how we can see it?”
King said, “No, it’s not like that, sometimes something which is not visible to me, you might see, such as I don’t see any nightmare but you must have seen.”

Courtiers said, “Yes we see nightmares but that is all about dreams, here it is reality sir.”

King said, “all right then, go and search for Corruption in whole state, if you find somewhere then bring a sample for me, I want to see how it looks like.”

Then one Minister said, “Sir, we will not be able to see corruption, we heard that it is very small and you know that we all are working under Queen’s big umbrella, and her personality is so huge that we are used to see huge things only and we can not see small things.”

Then another minister interrupted, “by chance if corruption comes in front of us even then we will see only madam’s image in it, we could not see anything else.”

one of the courtier said that he knows the solution, he said, “sir, I know there is a species called CBI in our state, they are able to find such small things, they are expert so I request you to invite them and ask them to find CORRUPTION.”

King did the same, he appointed 5 people from that special tribe called CBI, he asked them to find out about corruption and scam, and if they find it then bring a sample to court room. CBI people started finding the desired thing; they kept for searching for 2 months and then returned to King.

King asked them, “Experts, have you finished your enquiry?”
“Yes, sir!”
“Did you find corruption in our state?”
“Yes, we found lots of CORRUPTION in your state.”
King extended his palm towards them and asked, “Give me a little bit, let’s see, how it looks like?”
Experts said, “sir, you can not hold it in your hands, it is not substance, it is Imperceptible, inapprehensible and supersensible, but it is omnipresent, which can not be seen, and not be touched you can only feel it, smell it.”

After hearing these many big words for corruption, king lost in his thoughts for some time and came back to experts, “you said it is omnipresent and impalpable, but these are qualities of god, so you mean corruption is god?”

“Yes sir, now corruption has become god for many people in your state.”

Then a courtier asked “but where it is, how it smells like?”

Experts replied, “it is everywhere, it is in this building, on the roads, gardens of your state, it is in bridges, it is in schools, in offices, in coal mines, in commonwealth games grounds, in railways, in administration, it is even in weapons, in the chair of queen, PM and you all courtiers it is also in shirt of the King.”

Is it in my shirt?? Where? King swiftly jumped out from his chair and stripped in the front of all courtiers.

Experts covered the king with a shawl and said,
“Yes sir, it is in your shirt, last time when you gave contract for all your dresses then the bill which was generated and presented in court was fake bill with 10 times increased price value. There are mediators involved in your government, they mostly eat money in between, and there is corruption in all your administration.”

King was very worried, he asked to experts about the remedy of this disease, can it be cured?

Experts said, “absolutely sir, it can be cured, you just need to change the system, you have to eliminate the opportunities of corruption, you have to speak against it sir.”
“what? I have to speak ? no no, I cant do that, madam will punish me.” King said.

Then Experts explained him that he has to speak to madam and not to the public, so King was ready to talk to madam.
you said there are opportunities of corruption everywhere, how it is ? I cant see it.” King asked to Experts.
“sir, there are opportunities for example, if there are contracts then contractors and if there are contractors so there is bribe for bureaucrats in the same way if there are big projects under government then there is opportunity for the concerned ministry.”
King said to them “okay you submit your report to PMO, we will review and discuss in our ministerial meetings”.

King discussed the same with Queen Madam, madam was also worried that how to eliminate this corruption, people will not believe in royal family if they were unable to remove this bug.

Queen asked to her most qualified law makers on this situation, how to deal with it? People said,” madam, do not worry, people are used to of it now, they know that there is corruption, and it is part of their life now, so we should not worry, burn the CBI report and files. No one will ask what happened, we will say that corruption is like some black magic and it is imaginary.”

Other courtiers also said that to change the system is not possible it would be a new problem, everything will be turned down, all arrangements will be disturbed, we need such solution that we don’t need to change anything and corruption also can be removed.
Queen reciprocated the concern, “yes, I too wanted to find such solution, our ancestors knew some black magic to eliminate any problem, that is why they could rule this state for so long but what I do now?”



And here comes the master piece….

One of her family friend said “madam, we should do the same trick, what your ancestors used to perform, we should show the huge rich-poor gap to people, we should show sympathy to one specific group of people who are expanding day by day, we should declare them special tribe and we should feed them, give them land and security but not education and job, the other tribes will be jealous and instead of asking their right from us they will fight to the special tribe and all these fool people will fight each other and forget about CORRUPTION. This is the trick all your royal family used to perform, they learnt it from previous emperor, who did the same with this whole Ireland and divided it into so many small states.”
Queen was impressed with this solution, some courtiers objected then queen showed them the corruption report and threatened them that “CBI Experts” will find out more about you if you do not agree with me.
All courtiers agreed to madam, and they did what madam said.


Then once again the Royal family showed the Black Magic which is also called secularism, and the people of that state can be seen fighting everyday, they fight with each other, burn homes of each other, they abuse each other, they do not bother if they are unemployed, if they are uneducated, if they are hungry, but since their tribe is special, they will fight for it and here Royal family are having worry free and lavish dinner everyday which is cooked in the fire generated when these innocence and ignorant people torch each other's homes.

I am hopeful that One day this black magic will be exposed, and people will understand that fighting with each other is not the solution, but we have to fight against the hunger, unemployment, poverty and illiteracy.


Note: 
यह कहानी भारत की वर्तमान परिस्थितीयों से तथा श्री हरिशंकर परसाई जी की हिन्दी रचना "सदाचार का तावीज़" से प्रेरित है|
                                                                                                                                           

                                                                                                               Images Sourced from Internet

Thursday, 12 September 2013

Future of India....भारत का भविष्य




दोस्तो आज कल जहा देखो वहाँ राजनैतिंक चर्चाएँ होती दिखाई दे रही है, हर कोई कॉंग्रेस, BJP की बातें करता मिलता है, लोगो को राजनीति मे इतनी रूचि पहले कभी नही हुई होगी जितनी अब हो रही है|
आजकल तो बच्चे भी चोर-पोलीस का खेल ना खेल के के कॉंग्रेस-बीजेपी का खेल खेलने लगे है.

अभी कुछ दीनो पहले मेरे 7 साल के भतीजे ने मुझ से पुछा की चाचा अगले साल चुनाव है और अगर फिर से कॉंग्रेस जीत गयी तो हमारा प्रधान मंत्री हमारे जैसा होगा, है ना? मेने पूछा बेटा वो कैसे? तुम्हारे जैसा कैसा होगा? तो वो तपाक से बोला की हमारी टीचर कहती है की अगर कॉंग्रेस जीती तो राहुल गाँधी हमारा प्रधानमंत्री होगा और वो बिल्कुल हमारे जैसा है, उसे भी पोगो चेनल पे छोटा भीम देखना अच्छा लगता है, वो उसकी मम्मी की आगे पीछे ही घूमता रहता है, मम्मी के मना करने पर भी बाहर दूसरे लोगो का दिया हुआ खाना खा लेता है, इसलिए वो हमारे जैसा ही हुआ ना…..??
 में क्या कहता, मेने कहा हाँ बेटा, वो तुम्हारे जैसा ही है|
अब उस नन्हे से बचे को कैसे कहे की वो तुमसे भी गया गुज़रा है….
परंतु इस बात ने मुझे यह सोचने पे विवश कर दिया की अगर सच मे अगली सरकार फिर से कॉंग्रेस की बन गयी ( जो की होना संभव है), और सच मे राहुल गाँधी प्रधानमंत्री बन गया तो देश का क्या द्रश्य होगा??



सबसे पहले तो जैसे माँ ने उसका सपना पूरा किया फुड सेक्यूरिटी बिल लाकर, वैसे बेटा अपना सपना पूरा करेगा एक बहुत ही महत्वाकांक्षी योजना, “वाइफ सेक्यूरिटी बिल” लाकर|
जी हाँ, देखिए अब यह लोग कहते है की देश मे 67 करोड़ जनता ऐसी है जिसे पेट भर खाना नही मिलता तो यह लोग फुड सेक्यूरिटी बिल ले आए, अब देश मे अगर लिंग अनुपात की चर्चा करे तो यह भी बहुत कम है 1000 पुरुषो पर 940 महिलाएँ, याने की  6% पुरुष बेचारे ऐसे है जो विदाउट वाइफ बिताते है अपनी लाइफ.
बेचारे राहुल गाँधी जैसे ही कितने पुरुष होंगे जो 40 की उमर पार कर गये परंतु अब तक वाइफ नही मिली, इसीलिए राहुल बाबा का सबसे बड़ा सपना ये ही है, संसद मे वाइफ सेक्यूरिटी बिल को कैसे भी करके पास करवाना, ताकि उनके जैसे कई पुरुष जो बगैर वाइफ के जीवन बसर कर रहे है उन्हे भी घर बसाने का मौका मिले.
अब आप पूछेंगे की  इस बिल को लागू( इंप्लिमेंट) कैसे करेंगे, तो मित्रो जैसे फुड सेक्यूरिटी बिल लागू होगा वैसे ही यह भी हो जाएगा.
ज़्यादा कुछ नही कर पाए तो वेट्रेस इम्पोर्ट करवा लेंगे इटली से…..


राहुल बाबा के दीमाग मे और भी काई योजनाएँ कुलबुला रही है जिन्हे वो जल्द से जल्द लागू करवाना चाहते है जैसे की:
१. दूरदर्शन को बंद कर के पोगो चैनल को राष्ट्रीय चैनल घोषित किया जाए|
२. कौन बनेगा करोड़पती मे सारे सवाल वही पूछे जाए जिनका जवाब राहुल बाबा को पता हो, मतलब KBC के प्रतियोगियों और MTV Roadies के प्रतियोगियों मे कोई अंतर नही रहेगा|
३.हमारे देश मे बिकने वाले सारे शब्दकोषों ( Dictionaries) से भ्रष्टाचार, ग़रीबी, अपराध, बलात्कार, आतंकवाद और काला पैसा जैसे शब्दो को हटाया जाएगा, और अगले 15 August के भाषण मे दावा किया जाएगा की हमने ऐसी तमाम चीज़ो को देश से हटा दिया है जो देश की तरक्की मे बाधक है|
४. पप्पू नाम के लोगो के लिए विशेष अवॉर्ड घोषित किए जाएँगे, अवॉर्ड लेने के लिए आपको अपनी कक्षा 5वीं की मारक्शीट दिखानी पड़ेगी जिसपे आपका नाम पप्पू अंकित होना चाहिए|
५. विशेष क़ानून बनाया जाएगा उन लोगो के लिए जो फ़ेसबुक पर पप्पू जोक्स शेर करते है|
६. राहुल बाबा को मोदी से बहुत डर लगता है, वो सोच रहे है की अगर प्रधानमंत्री बन गया तो सबसे पहले मोदी से कैसे निपटा जाए, उसके लिए मास्टर प्लान है राहुल के पास, वो गुजरात को एक अलग “देश” का दर्जा देने वाले है और फिर मोदी को इंडिया का वीज़ा नही देंगे, इससे कॉंग्रेस की 2 बड़ी समस्याएँ हल हो जाएगी, एक तो पाकिस्तान की आधी बॉर्डर गुजरात शेयर करेगा, और दूसरी बड़ी समस्या मोदी|
बहुत ही क्रांतिकारी सोच है भाई,.... नही?
७. पहली एप्रिल को विश्व पप्पू दिवस मनाया जाएगा|
१०. पप्पू भाई साब यह भी सोच रहे है की सारे उत्तर-पूर्वी राज्यो (नॉर्थ-ईस्ट स्टेट्स) को Join कर दिया जाए और एक संयुक्त राज्य बना दिया जाए , आप कहेंगे की कितना नेक ख़याल है बंदे का, पर इसके पीछे कारण यह है की इनको सारे स्टेट्स का नाम तक नही पता है, कोई पूछ ही ले तो क्या कहेंगे??

ऐसे ही और कई नेक ख़याल इनके दिल मे घर कर बैठे है जो यह देश के राजकुमार इस देश मे इंप्लिमेंट करना चाहते है…

कुछ आपको पता हो तो बताईए !!
...........................................................................................................................Image source: Internet

Tuesday, 10 September 2013

धर्मनिरपेक्ष कबाब



एक बार की बात है, 


एक हरी-भरी भिंडी मार्केट से गुजर रही थी,  तभी वहाँ पास ही के एक पोल्ट्री फार्म के कुछ मुर्गो  ने भिंडी को छेड़ दिया,  भिंडी घबराई, और डर के मारे वहां से भागती हुयी सब्जी मण्डी पहुची, उसको डरा हुआ देख के उसके  भाई आलू ने उससे पूरा हाल पूछा और जब उसे यह बात पता पड़ी की उसकी बहन को कुछ मुर्गो ने छेड़ा है तो आलू गुस्से से उबल पड़ा और अपने दोस्त प्याज़ को लेके गया पोल्ट्री फार्म.. ... वहां जाके उन दौनो ने मुर्गो को गालियाँ देना शुरू किया, मुर्गो को भी बड़ा गुस्सा आया, उन्होंने आलू और प्याज को घेर के खूब नोचा|

 बेचारे आलू और प्याज की हालत खराब हो  गई और यह खबर पूरी सब्जी मण्डी मे आग की तरह फैल गयी, और खबर को इतना तोड़ मरोड़ के परोसा गया की करेला और भी कड़वा हो गया, मिर्ची का तीखापन बढ़ गया, और टमाटर सुर्ख लाल हो गया| 

 सब्जी मंडी के दलालो ने सारी सब्जियों को भड़काया और कहा की पोल्ट्री फार्म पर हमला बोल दो, और धीरे से यह खबर पोल्ट्री फार्म के मालिको को भी मिली, उन्होने भी अपने ख़ूँख़ार मुर्गो जिनके नाख़ून बड़े तेज़ थे, को तैयार किया, भड़काया और पिंजरे से आज़ाद किया, फिर जैसे ही सब्जियाँ आई, मुर्गे सब्जियों पर टूट पड़े, मिर्चिया भी मुर्गो की आँखो मे जाके गिरने लगी, करेला, प्याज़ और आलू भी पूरी तरह से मुर्गो को पस्त करने मे लगे हुए थे, टमाटर भी अपने तेवर दिखा रहा था|
 मिर्ची ने अपने तीखेपण से पूरे पोल्ट्री फार्म मे आग लगा दी थी, जिससे बेचारे निर्दोष मुर्गे जल कर भुन गये थे, इधर ख़ूँख़ार मुर्गो ने कितने ही निर्दोष प्याज़, टमाटर और धनिए को कुचल कर चटनी बना दी थी |

और दूसरी तरफ सब्जी मंडी के दलालो और पोल्ट्री फार्म के मालिको ने आपस मे बातचीत करके मामला सुलझा लिया, अंत मे भुने हुई मुर्गो पर कुचली हुई लाल मिर्च, पीसा हुआ टमाटर, कटा हुआ प्याज़ और हरा धनिया डाल कर हमारे देश के "नेताओं" को "धर्मनिरपेक्ष" कबाब खिलाया गया, सभी ने बहुत तारीफ़ की|


एक बार की बात ...जी नही यह ना जाने कितने बार की बात थी..और ना जाने कितने पोल्ट्री फार्म और सब्जी मंडी ऐसे ही जल कर खाक हो गये .. .  और ना जाने कितनी बार फिर ऐसा होगा...मुर्गे और सब्जियाँ कब समझेंगी की इनका आपस मे लड़ना दर-असल "नेताओ" का पेट भरना है|


Monday, 2 September 2013

भारत की न्याय प्रणाली


कुछ दीनो पहले मेने एक हिन्दी फ़िल्म देखी थी “स्पेशल 26”, जिसमे असली वाली CID के मनोज वाजपयी और लूट जाने वाले जौहरी सेठ के बीच एक संवाद है जिसमे मनोज वाजपयी कहते है की “ सेठ जी, हमारे देश मे जुर्म सोचने की सज़ा नही मिलती, जुर्म करने की मिलती है और वो भी तब जब सबूत हो”


यह संवाद सुन के मेरे मन मे आया की अगर ऐसा सच मे होता की इंसान के अपराध  सोचने भर से ही उसको पकड़ लिया जाता और सज़ा सुना दी जाती तो कैसा होता हमारा देश?

वैसे आप कहेंगे की क्या फालतू की बकवास है, ऐसा कैसे संभव हो सकता है? तो दोस्तो, ऐसा हो सकता है, सोचिए अगर हमारे यहाँ हर इंसान के पैदा होते ही उसके दीमाग मे एक चिप लोड कर दें जो की उसके सोचने समझने की प्रणाली(nervous system) को नियंत्रित करती हो, चिप के प्रोग्रामिंग IPC की धाराओं के हिसाब से इस तरह हो की अगर व्यक्ति ने सोचा की में फलाँ फलाँ व्यक्ति को मार दूँगा तो तुरंत धारा 302 वाला signal activate हो जाएगा और निकटतम पोलीस स्टेशन पर उस व्यक्ति के ID नंबर के साथ अलार्म बज जाएगा, बस पोलीस वाले अपना काम शुरू कर देंगे और अपराधी सोच वाला व्यक्ति  पुलिस  की निगरानी में आ जायेगा।
विज्ञान  के इस युग मे सब कुछ संभव है, तो ऐसा भी हो सकता है एक दिन.
तो पाठकों (readers)  सोचिए की अगर ऐसा हो जाए, की इंसान के अपराध सोचने भर से ही उसके मोबाइल फोन पर उसको  चेतावनी मिल जाए की “एक बार अपराध सोच तो लिया है अब दोबारा से मत सोचना”. ऐसे मे हमारे देश मे बढ़ते हुए कितने अपराध नियंत्रित हो जाएँगे?

किंतु एक समस्या भी है,  कई  सारे निर्दोष लोग  बे-वजह फँस जाएँगे, जो बेचारे सिर्फ़ अपने दिल की खुशी के लिए किसी अपराध के बारे मे सोचते है, करते कभी नही,, जैसे आज के परिद्रश्य(Situation) की बात करे और  ऐसी प्रणाली प्रभावी हो जाए तो देश की आधी से ज़्यादा जनसंख्या “गाँधी” परिवार के विरुद्ध  "सोचने" के अपराध मे जेल मे होगी, ये ही नही, हमारे देश के कई मेधावी (Brilliant) अभियांत्रिकी (Engineering) स्वस्थ युवा पुरुष की श्रेणी मे आने वाले छात्र जो बेचारे सिर्फ़ सोच ही सकते है, वो सबसे ख़तरनाक धारा के लपेटे मे आ जाएँगे ( धारा 376).

इस अपराध सूचक प्रणाली का असर सीधा हमारे देश के नागरिको की सोच पर होगा और जब सोच बदलेगी तो देश तो अपने आप बदल जाएगा| किंतु फिर एक समस्या है, ऐसे कई अपराध सूचक यंत्र तो आज भी देश मे है, आज भी  देश मे कठोर कानून व्यवस्था है। सुचना का अधिकार है, CBI है, दुनिया भर की एजेंसीज है,
परंतु जो सबसे ज़्यादा बड़े अपराधी है, हमारे नेता गण जो की अपने आप को किसी भी अपराध नियंत्रण प्रणाली से ऊपर समझते है वो यहा भी बच निकलेंगे. और दूसरी समस्या यह है की आज की हमारी पोलीस जो की अपराध “करने” वालो को ही नही पकड़ सकती, और पकड़ भी ले तो उन्हे सज़ा नही दिला सकती तो सोचिए वो पोलीस अपराध “सोचने” वालो को क्या खाक पकड़ेगी…..

अभी के ताजा उदाहरण (Delhi Gang Rape Juvenile verdict, Aasaram Bapu case)इस बात के प्रमाण है की हमारी न्याय प्रणाली कितनी खोखली है, हमारा संविधान जो की कई दुसरे देशो के संविधान का Copy Paste है कितना कमजोर है, हमारे देश में अगर ताकतवर है तो बस राजनैतिक लोग जो जब भी मन में आये तब कानून, संविधान, नीतियां बदल लेते है और सिर्फ आम आदमी के विरुद्ध इन्हें उपयोग करते है।

में आप सभी के भी विचार जानना चाहूँगा, की आज की कानून व्यवस्था हमारे देश के अपराधिक मनोविज्ञान से निपटने में कारगर है ? हमारा देश जो की प्रजातान्त्रिक देश है क्या कानून बनाने के समय हमारी राय नहीं ली जानी चाहिए ?