Friday, 23 January 2015

केवल वयस्कों के लिए

नोट: यह लेख कोई चुनावी स्टंट नहीं है, न ही किसी प्रकार का कोई प्रलोभन है, वास्तव में यह लेख उन्ही पाठको के लिए है जो १८+ उम्र के है या वयस्क है। अगर आप १८ साल से कम उम्र के है तो कृपया आगे न पढ़े।
धन्यवाद। 

बात थोड़ी पुरानी है, तब की जब मैं खुद वयस्क नहीं था। मैं अपने गांव के शासकीय हिन्दी माध्यमिक विद्यालय की कक्षा ४ का विद्यार्थी था। कुल जमा १४ विद्यार्थियों की कक्षा जिनमे से मात्र ३ कन्यायें। जी हाँ Gender Ratio की बात करने वालो यही हाल रहे है हमारे विद्यालयीन जीवन के अंत तक। खैर उस पर बाद में चर्चा करेंगे, बात करते है मेरे विद्यालय की, हमारा विद्यालय बहुपयोगी हुआ करता था। पुरे गांव भर के उत्सव, जलसे और १३वे का नुक्ता भी हमारे विद्यालय परिसर में होता था। और जिस दिन भी ऐसा कोई कार्यक्रम होता तो उस दिन आधी छुट्टी तो मिलती ही साथ ही साथ दावत अलग से मिलती। इतना ही नहीं, रात होते होते विद्यालय का मैदान भैंस, बैल, गाय और बछड़ो से भर जाता था। आप लोग जिन विद्यालयों में पढ़े होंगे वहाँ शायद शनिवार को आपका हॉफ डे हुआ करता होगा, परन्तु हमारे यहाँ मंगल-अमंगल कार्यक्रम के अलावा हर मंगलवार को भी हॉफ डे हुआ करता था। ऐसा इसलिए नहीं की हमारे प्राचार्य जी हनुमान जी में अगाथ श्रद्धा रखते थे बलकि प्रति मंगलवार हमारे गांव का प्रसिध्द पशु हाट बाजार लगता था। हाट में हमारा विद्यालय प्रांगण फिर एक बार काली चमकीली, रंगीन सींगो वाली भैंसो से, अतरंगी मुर्गो से, गाय बैल बछड़ो से और बकरे बकरियों से भर जाया करता था।



इतना ही नहीं, विद्यालय का इतना सदुपयोग होने के बाद प्रति रविवार हमारा विद्यालय हमारे गांव का स्वास्थ्य केंद्र बन जाया करता था। गांव के लोगो को हर प्रकार की दुःख तकलीफ की दवा मुफ्त में बांटी जाती थी। यह बात और है की गांव वालो की कुछ तकलीफे ऐसी है जिसकी कोई दवा आज तक नहीं बनी। तमाम मुफ्त में बांटी जाने वाली दवाईयों के पैकेट अगर बच जाते तो प्राचार्य के कक्ष में रख दिए जाते थे, परन्तु उस रविवार को प्राचार्य के कक्ष की चाबियां न होने से सारा सामान हमारी कक्षा में ही रख दिया गया।

आज जिस सोमवार को हम Bloody Monday कहते है, उस समय वही सोमवार हमें बड़ा अच्छा लगा करता था। आमतौर पर विद्यालय जल्दी पहुंच कर अपना बैग अपनी कक्षा में पटक कर प्रार्थना से पहले हम लोग सितोलिया खेला करते थे। उस दिन भी हम जल्दी पहुंचे और जब अपनी कक्षा में गए तो वहां कल के बचे हुए पैकेट रखे हुए थे। सरकारी विद्यालयों में इतना भी बुरा नहीं पढ़ाते की चौथी कक्षा तक आते आते हमें पढ़ना न आये। उन पैकेट्स पर लिखा पढ़ा तो टीवी पर आने वाला विज्ञापन याद आया, जो समाचार के पहले और चित्रहार के बीच में आया करता था और जिज्ञासाएँ जागृत कर जाता था। जिज्ञासा एक ऐसा कीड़ा है जो तब तक कुलबुलाता है जब तक की हम उसका कोई इलाज न ढूंढ ले। वो दवाई के पैकेट्स कुछ इलाज करे न करे पर हमारी उस टीवी के विज्ञापन की जिज्ञासा का इलाज जरूर थे। हमने तुरंत वो पैकेट्स खोले, और जब उनके अंदर रखे छोटे छोटे पैकेट्स  खोले तो हमारी जिज्ञासा शांत होने की बजाये बढ़ गयी थी।

अब जिज्ञासा यह थी की आखिर बच्चो के खेलने की चीज के विज्ञापन में बच्चे क्यों नहीं थे  दो बड़े लोग "प्यार हुआ इकरार हुआ है, प्यार से फिर क्यों डरता है दिल" गाना क्यों गाते थे। हालांकि एक बात समझ में आ गयी थी की डीलक्स निरोध और कुछ नहीं बलकि गुलाबी गुब्बारे हुआ करते थे। 


Thursday, 15 January 2015

जिंदगी के मासूम सवाल

सवाल जवाबो में उलझी इस जिंदगी में हम निरंतर जवाब देते हुए आगे बढ़ते रहते है। जिंदगी भी कभी चुप नहीं बैठती सवाल पे सवाल दागती ही रहती है। तभी तो परेशान होकर  गुलज़ार साहब ने लिखा "तुझसे नाराज नहीं जिंदगी, हैरान हूँ मैं, तेरे मासूम सवालो से परेशान हूँ मैं "

हमने जिंदगी के ऐसे ही कुछ "मासूम" से सवालो की एक सूचि संकलित की है जिनसे आपका पाला अवश्य ही पड़ा होगा। यह वो सवाल है जिनसे अरनब गोस्वामी भी एक बार तो परेशान हुआ ही होगा।




विद्यालय में पहली कक्षा से लेकर १२ वी कक्षा तक जो सवाल आपको बहुत तंग करते है उनमे से सबसे ऊपर है
 रिजल्ट कैसा रहा ? यह सवाल परीक्षा में पूछे गए सवालो से भी ज्यादा परेशान करता है। 
फिर 
क्या विषय ले रहे हो १०वी के बाद ? इस सवाल के जवाब में हम और हमारे घरवाले कभी एक मत नहीं होते। 

फिर जैसे तैसे १२वी हो जाये तो

कौन से कॉलेज में एडमिशन ले रहे हो ? (अगर कोई ढंग का कॉलेज मिल जाये तो ठीक नहीं तो अगले ३-४ साल भुगतो इस सवाल और इसके जवाब को )

फिर रिजल्ट कैसा रहा ? ( हर सेमेस्टर/साल, घूम के फिर यही सवाल आ ही जाता है )
अब कॉलेज जाना शुरू हो गया, और गलती से थोड़ा बन-ठन के निकले तो जो सवाल तैयार रहता है वो है 
किसी के साथ कोई चक्कर तो नहीं चल रहा ? ( यह सवाल डायरेक्ट नहीं पूछा जायेगा, घुमा फिरा के पूछेंगे)

कॉलेज खत्म होते होते अगला भयानक प्रश्न तैयार हो जाता है 
प्लेसमेंट हुआ ? कहाँ हुआ ? ( घरवालो से ज्यादा पड़ौसी चिंतित रहते है, जैसे उनके घर राशन नहीं आएगा अगर मेरा प्लेसमेंट नहीं हुआ तो )
हो गया तो नेक्स्ट क्वेश्चन 
कितना पैकेज है ? ( "बस इतना हमारे साढू के भतीजे का तो इतना है", अरे कितना भी हो कौनसा तुम्हारे अकाउंट में जाने है  )

फिर जैसे तैसे नौकरी मिल भी गयी तो हमारे ही अन्य दोस्त जो हमारी ही कंपनी में या अन्य कंपनी में काम कर रहे होते है, पूरा साल एक ही सवाल करेंगे,
अप्रैज़ल हुआ ? कितना हाईक मिला ?

और गलती से आप आय. टी. में हो तो तैयार रहो की साल में १२ बार यह सवाल भी आपको तंग करेगा की "फॉरेन-वॉरेन गए की नहीं एक बार भी "

फिर जिंदगी का सबसे ज्यादा दोहराने वाला और सबसे ज्यादा चिढ दिलाने वाला प्रश्न जो आपके जीवन से जुड़ा हर व्यक्ति आपसे पूछेगा
शादी कब कर रहे हो ?
शादी कब कर रहे हो ?
शादी कब कर रहे हो ? ( हर बार, हर कोई पूछेगा, जब तक की हो नहीं जाती,  इस सवाल पर तो पूरी किताब लिखी जा सकती है )

झल्ला के ही सही आप शादी कर लेते है और उसके तुरंत बाद, अगला यक्ष प्रश्न हाजिर हो जाता है
खुशखबरी कब दे रहे हो ? ( पहले साल )
खुशखबरी कब दे रहे हो ? ( दूसरे साल )
इस साल तो हो ही रहे हो न दो से तीन ( हर साल, जब तक की तीसरा आ नहीं जाता ) 
और जहाँ हमें एक खुशखबरी देने में १० बार सोचना पड़ता है वही हमारे नेता ४-४, ५-५ खुशखबरी देने को बाध्य कर रहे है। 

और खुशखबरी देने के २-३ साल बाद 
कौनसे स्कूल में डाल रहे हो ? (और गलती से आप पूछ लो की आप ही बताईये, तो तैयार रहिये रायचंदो से निपटने के लिए)

यह तो वो प्रश्न थे जो की दोस्त, रिश्तेदार, पड़ौसी, माँ-बाप, और भाई बहन आपसे पूछते रहते है। इनके तो आप जवाब भी दे सकते हो, तुरंत न सही थोड़ा वक्त लेकर। किन्तु कुछ सवाल ऐसे है जिनका जवाब आजतक नहीं खोजा जा सका है, और कोई जवाब देता भी है तो सीधे सीधे नहीं दे सकता। पहले तो सवाल ही कठीन और दूसरा यह सवाल पूछे जाते है आपकी धर्मपत्नी के द्वारा। याने की करेला वो भी नीम चढ़ा। 

तो दोस्तों पेश के जिंदगी के सबसे बड़े और खतरनाक २ सवाल जिन्होंने लगभग हर इंसान को एक बार तो परेशान किया ही होगा।

१. जानू, मैं सच में मोटी लगती हूँ ? ( सच कहो या झूठ या डिप्लोमेटिक हो जाओ, मेरे ख्याल से चुप रहना ज्यादा बेहतर है। )

और

२. आज खाने में क्या बनाना है ?(बाकी के सवाल तो कभी न कभी पीछा छोड़ ही देते है, परन्तु इस सवाल का हमारे जीवन से वैसा ही नाता है जैसा केजरीवाल का टीवी से, कांग्रेस का घोटालो से और मोदी का माइक से)



ऐसे ही आपके कोई पर्सनल सवाल हो जो इस सूचि में न हो और आपको लगता है की वो भी जीवन के सबसे जटिल प्रश्नो में से एक है तो कमेंट करिये। 

Monday, 12 January 2015

नाम में क्या रखा है

"नाम में क्या रखा है ?" शेक्सपियर तो इतना कहके निकल लिए, उनको क्या मालूम था की यहाँ भारत में नाम के पीछे कितना कोहराम है।
स्रोत: गूगल इमेज सर्च 


आजकल के लेखक, पत्रकार, दार्शनिक भी जब कुछ लिखते है तो नायक नायिका के नाम लेने से परहेज करते है। बेवजह का "साम्प्रदयिक" तनाव पैदा हो सकता है इसीलिए कोई नाम नहीं लेता। यहाँ तक की पुलिस थाने में भी रिपोर्ट "अज्ञात" लोगो के नाम की लिखी जाती है, फिर भले ही सबूत के तौर पर पेश किया गया वीडियो चिल्ला चिल्ला के अपराधी का नाम ज़ाहिर कर रहा हो।

खैर इन सब के बारे में आप सब जानते हो, मैं आपको नामो की वजह से होने वाली एक अलग ही वैश्विक समस्या से आपको अवगत कराने की मंशा रखता हूँ। हालाँकि आप में से अधिकांश लोगो को यह समस्या झेलनी पड़ी होगी।

जवान हो, अपने पैरो पर खड़े हो तो घरवाले आप पर सबसे बड़ा दबाव डालेंगे की शादी कर लो, वो भी हो गया तो सालभर के भीतर आप पर एक नया दबाव आ जायेगा, २ से ३ होने का। कहीं कहीं तो मैंने यह भी सुना है की एम्प्लोयी ने इन्ही सब बातों का रोना रोकर अपने मैनेजर को इतना इमोशनल ब्लैकमेल किया की उसको सैलरी हाईक मिल गयी। खैर आप २ से ३ भी हो गए, अब आपके सामने सबसे बड़ी समस्या यह नहीं है की डाइपर कौन बदलेगा, न ही इस बात की चिंता है की रात रात भर जाग के दूध की बोतल कौन भरेगा बल्कि सबसे बड़ी चिंता का विषय है की इस नए मेहमान का नाम क्या रखे ?

स्रोत: गूगल इमेज सर्च 

आज के जमाने में "यूनिक" नाम रखने का चलन है। लोग अपने पालतू पशुओ का नाम भी मोती, ब्रूनो, टाइगर या शेरू नहीं रखते बल्कि यूनिक सा अंग्रेजी सा कोई नाम ढूंढ़ते है। बात खुद के बच्चे की हो तो नाम थोड़ा ख़ास ही ढूंढ़ना पड़ता है और ये यूनिक नाम ढूढ़ने पर भी नहीं मिलते। हालांकि कई माँ-बाप तो अपने खुद के नामो के प्रथम २ अक्षरो की संधि करके ही यूनिक नाम बना लेते है।  परन्तु हर पति पत्नी ऐसा नहीं कर सकते तो ऐसे में बेचारा पति सारी  रात इंटरनेट पर सर्च करके कोई "भल्ता सा" ही सही पर यूनिक नाम ढूंढ़ता है तो पत्नी कहती है, नहीं यह नाम तो मेरी मौसी की बेटी के देवर के बच्चे का भी है, कोई "यूनिक" नाम ढूंढो। फिर जाके २-४ "बेबी नेम्स" वाली किताब खरीद के लाते हो, फिर भी मनपसंद नाम तो किसी के भाई के साले के बच्चे का निकलता है तो कोई नाम दोनों पति पत्नियों में से किसी के दोस्त अपने बच्चो को दे चुके होते है । हजारो नाम खारीज़ करने के बाद बड़ी मशक्कत से एक यूनिक नाम आप ढूंढते हो। अब आप सेलिब्रेशन की तैयारी कर ही रहे होते हो की आपके घरवाले जाके किसी पण्डित से बच्चे की कुंडली बनवा आते है और नाम का अक्षर तय हो जाता है की अब नाम तो इसी अक्षर से शुरू होगा। फिर शुरू होती है वही कहानी, गोल गोल धानी और इत्ता इत्ता पानी।



मेरे एक परिचित ने तो यूनिकनेस के चक्कर में कंफ्यूज होके अपने बच्चे का नाम "चमन" रख दिया तो उसके पहले जन्मदिन पर आये मेहमानो ने जैसे तैसे समझाया की कैसे तुम अपने ही बच्चे को उसके बाप का कतल करने के लिए उकसा रहे हो।  अभी अभी मेरे एक बहुत खास और बहुत ही कांग्रेस विरोधी दोस्त ने अपना खुद का ही नाम राहुल से बदल के वरुण रख लिया है।

क्या आप अब भी कहेंगे की नाम में क्या रखा है ? अब तो शेक्सपियर भी अपने शब्द वापस लेने को तैयार होंगे।

Wednesday, 7 January 2015

पिके का विरोध - in Cut to cut style


फिल्म "पीके" पर इतनी प्रतिक्रियाएँ, टिप्पणियाँ आ चुकी है मार्केट में की इस पर कुछ भी लिखना क्लीशे होगा। फिर भी आज बैठे बैठे सोचा की क्यों न मैं भी अपनी आपत्ती दर्ज करवा ही दूँ। क्योंकि आजकल अगर किसी न किसी चीज का विरोध न करो तो लोग बेवकूफ समझते है। इसलिए मैं अपना ऑनलाइन प्रोटेस्ट करता हूँ "पीके" के खिलाफ।



इस फिल्म में एक गाना है "बिन पूछे मेरा नाम और पता, रस्मो को रख के परे , चार कदम बस चार कदम चल दो न साथ मेरे" . 

एक फुल टाइम फुल्ली कमिटेड पति होने के नाते इस गाने से मेरी भावनाएं आहात हुयी है जनाब। नायक पहली ही मुलाकात में नायिका को पटाने के लिए गाना गाता है और कहता है की मेरा नाम पता पूछे बिना ही मेरे साथ २-४ कदम चल लो। हद्द है यार, यहाँ अगर हमें शादी करना हो या लड़की पटाना हो तो नाम पता तो ठीक है अपनी जनम कुंडली, बैंक बैलेंस, मंथली इनकम से लेकर अपनी पैथोलॉजी रिपोर्ट्स तक दिखानी पड़ती है और तुम नाम पता भी नहीं बता सकते। फिर अागे कहता है की रस्मो को परे रख दो, बोलो यार यहाँ हम सारी रस्मे, कस्मे और वादें निभाते रहे जीवन भर, और अगर कोई छोटा मोटा वादा न निभा पाये तो सजा भी भुगते। सिर्फ यहीं तक मेरी भावनाएं आहात नहीं हुयी इसके आगें तो नायक कहता है की बस चार कदम चलदो साथ मेरे। कहिये, यहाँ हम सात सात जन्मो की कसम खाके एक ही नायिका के साथ बंधे हुए है और यह हर चार कदम में नयी नायिका चाहता है वो भी बिना कोई कमिटमेंट के, वाह भाई वाह।


बात सिर्फ इतनी ही होती तो जैसे तैसे ठंडा पानी पिके (पीने वाला पिके, फिलम वाला नहीं) हम काम चला लेते परन्तु नायक यहीं रुका नहीं इसके आगे सुनिए।  कहता है बिन कुछ कहे बिन कुछ सुने मेरे साथ चलदो, अब आप ही बताओ आप में से किसकी गर्लफ्रैण्ड या बीवी आपसे बिन कुछ कहे आपके साथ चलने को राजी हो जाती है ? कब हुआ था आखिरी बार ऐसा की आप कही गए हो ४ कदम ही चले हो और वो "चुप" रही हो ?

एक कमिटेड पुरुष होने के नाते हम इस गाने का विरोध करते है साहब। इतना ही नहीं, गाना खत्म होते होते नायिका अंत में कह ही देती है "चार कदम ही क्या, सारी उम्र चल दूंगी साथ तेरे" तब जाकर राहत की साँस लेता हूँ मैं की चलो ये नायिका भी उमर भर चिपकेगी इसके साथ।

वैसे चलते चलते इस गाने के अलावा एक और चीज से मेरी उम्मीदों को ठेस पहुंची है और वो यह की नंगा पुंगा एलियन दोस्त आमिर ही क्यों कटरीना क्यों नहीं ??