Tuesday, 11 August 2015

ड्रोन इन इंडिया

इस वक़्त जबकि आप यह लेख पढ़ रहे है दुनिया के किसी हिस्से में कोई ड्रोन किसी देश के सिपाहियों की जासूसी कर रहा होगा। या  किसी सुन्दर से द्वीप पर सूर्यास्त का चित्र ले रहा होगा या फिर किसी की टेबल पर कोई ड्रोन बियर की बोतल सर्व कर रहा होगा। यह भी हो सकता है की कोई ड्रोन किसी किशोर बालक का भेजा हुआ लाल गुलाब बाजू वाली बिल्डिंग की बालकनी में खड़ी किशोरी बाला के हाथो में  पंहुचा रहा होगा। बहुत कुछ हो रहा होगा और बहुत कुछ हो सकता है इस बारे में खोज चल रही होगी।

आगे बढ़ने से पहले एक बात साफ़ साफ़ बता दूँ की मैं यहाँ महाभारत के आचार्य द्रोण की बात नहीं कर रहा हूँ और न ही २००८ में आयी इसी नाम की एक शताब्दी की सबसे घटिया फिल्म की बात कर रहा हूँ ( आधे से ज्यादा लोग तो जानते भी नहीं होंगे की द्रोणा नाम की कोई फिल्म आयी थी। )

दर-असल मैं बात कर रहा हूँ रिमोट से चलने वाले हेलीकॉप्टरनुमा अतिबुद्धिमान यन्त्र की जिसे ड्रोन कहा जाता है। जी हाँ वही जो आपने "IIN" के विज्ञापन में देखा था।


टेक्नोलॉजी से हमारे जीवन में कईं क्रांतिकारी परिवर्तन हुए है। ज्यादा कुछ नहीं तो एक स्मार्ट फ़ोन को ही ले लीजिये फ़ोन न हुआ मुआ हमारे जीवन का रिमोट कंट्रोल हो गया।

ड्रोन भी बस इसी तरह से लोगो के जीवन में क्रांतिकारी बदलाओ लाने की क्षमता रखता है। आपने खबर में पढ़ा सुना ही होगा की ऑनलाइन शॉपिंग की सबसे बड़ी वेबसाइट अमेज़न ने अपने उत्पादों की डेलिवरी ड्रोन से करवाने की सफल टेस्टिंग की है। अब कोई भी सामान इसके ज़रिये मंगवाया / भिजवाया जा सकता है। है न कमाल की चीज। अब सोचिये की अगर ड्रोन का इस्तेमाल हमारे देश में धड़ल्ले से शुरू हो जाये तो भला क्या क्या हो सकता है ? सोंचिये।

चलिए आपको कल्पनाओ की उड़ान में ड्रोन की उड़ान से अवगत कराते है।

अब सोनू की मम्मी चिल्ला चिल्ला के सोनू को यह नहीं बोलती की जा बेटा ५ रुपये का धनिया मिर्ची ले आ। बलकि अब  वो ड्रोन के पंजो में ५ का सिक्का फंसाती है और सब्जी वाले के ठेले के कोआर्डिनेट सेट करके भेज देती है। २ मिनट में उधर से घुन घुन करता हुआ ड्रोन धनिया मिर्ची लेके हाजिर हो जाता है ।

पोर्न के बैन होने से बोखलाए लोंडे अब ड्रोन को खुला छोड़ देते है और बिल्डिंग दर बिल्डिंग तांका  झांकी करके किसी के बैडरूम से लाइव स्ट्रीमिंग देखते है।

अपने बंटी, रिंकू, बिट्टू और सोनू की गैंग जब भी क्रिकेट खेलती है और हरे रंग की कॉस्को की टेनिस बाल बड़ी बड़ी हरी झाड़ियों में जब खो जाती है तो ड्रोन की मदद से वो तुरंत उसे ढूंढ लाते है। इतना ही नहीं जब सोनू सिक्सर मार के गेंद को खडूस माथुर अंकल की बालकनी में पहुंचा देता है तब भी ड्रोन जाके गेंद को उठा लाता है।

मेरा बॉस अब एक मच्छर जितना बड़ा ड्रोन अपने केबिन से छोड़ता है और पता लगा लेता है की कौन काम कर रहा है और कौन सोशल नेटवर्किंग कर रहा है।

यु. पी में लोगो की जान को अब कम ख़तरा रहता है। बिजली के तारो पे बंगी टांगने का काम अब ड्रोन करने लगे है और इतना ही नहीं जब भी उड़न दस्ते आने वाले होते है ड्रोन आप ही तारो से बंगी  निकाल देते है।

जेठालाल अब सूरज को पानी देने बाहर नहीं जाता वो घर में, बाथरूम में या बैडरूम में बैठे बैठे ड्रोन की मदद से ही बबीता जी के दर्शन कर लेता है।

इधर हामिद ईद के मेले में से अपनी दादी के लिए चिमटा नहीं एक ड्रोन खरीदना चाहता है।

और अब बिजिली के तारो पर, नीम और पीपल के बड़े पेड़ो पर पतंगे उलझी हुयी नहीं मिलती, मिलते है तो फंसे हुए, भटके हुए, बिना बैटरी के बेजान ड्रोन्स।


चलिए  कल्पनाओ से बाहर आते है।


तो देखा आपने किस तरह से ड्रोन हमारे जीवन के दरवाजे पर क्रांतिकारी बदलाओ की दस्तक दे रहे है। हंसी मजाक की बात छोड़ भी दें तो ड्रोन वाकई में इंसानी जीवन को एक बेहतर दिशा में ले जाने में सक्षम है।

आज वैज्ञानिक इस विषय पर इतना शोध कर रहे है की आने वाले समय में ड्रोन हर आकार-प्रकार और शकल सूरत में हमारे आस पास घुन्न घुन्न करते फिरेंगे।

नमूने के तौर पर जटिल शल्य क्रिया (मेडिकल ऑपरेशन ), बड़ी छोटी पाइप लाइन की मरम्मत, खेतो में सिंचाई-बुवाई, तबेलों में जानवरो की देखरेख, जंग के मैदान और पहाड़ी गाँवो में दवाईयां पहुँचाने से लेकर कटरीना - रणबीर के हॉलिडे के सीक्रेट फोटो लेने तक के सारे काम ड्रोन करेगा। 

दूसरा पहलू यह भी है की आपकी हर एक्शन, हर बात, हर शब्द कही न कहीं रिकॉर्ड हो रहा होगा, कोई छोटा मोटा ड्रोन सदैव आपकी निगरानी कर रहा होगा और यही डेटा और इनफार्मेशन सदा सदा के लिए इंटरनेट पर उपलब्ध करवा रहा होगा। कोई चोर अपने टारगेट घरो की अच्छे से पहचान कर पायेगा। "एम एम एस कांड" अब ड्रोन वीडियो कांड बन के वायरल होने लगेंगे। सुरक्षा के लिहाज से आपको सदैव चौकन्ना रहना पड़ेगा।इत्यादि कईं प्रकार की तमाम वो हरकते जो नहीं होना चाहिए आसानी से की जा सकेंगी।

किन्तु जैसे बचपन से  हम हिन्दी के पेपर में "विज्ञान - वरदान या अभिशाप" पर निबंध लिखते आये है वैसे ही "ड्रोन- वरदान या अभिशाप" पर निबंध लिखा करेंगे। कहने का तात्पर्य यह है की जहाँ देव है वहां दानव है, जहाँ बुद्धि है वहीं कुबुद्धि है और जो एक पानी की बून्द सीपी का मोती बन सकती है वही पानी की बून्द किसी जहाज़ को डूबा सकती है। टेक्नोलॉजी और विज्ञान तो दिन प्रतिदिन उन्नत होते जा रहे है।इंसानी जीवन को सुखद और समृद्ध बनाने के लिए निरंतर नए आविष्कार आते जा रहे है। परन्तु इन्हे इस्तेमाल करने की नियत/इरादे/इंटेंशन्स में कोई बदलाओ नहीं आ रहा है। जब नियत बदलेगी तभी सभ्यता समृद्ध होगी। सब कुछ आप और हम पर निर्भर करता है।इसीलिए आने वाली पीढ़ी की नियत की प्रोग्रामिंग अच्छे से करे और एक उन्नत और समृद्ध भविष्य की कामना करे।



अधिक सुचना स्रौत: http://news.sap.com/drones-lots-of-buzz-and-a-little-bit-of-sting/
चित्र : हमेशा की तरह गूगल के सौजन्य से







Sunday, 2 August 2015

दोस्तों की ऐतिहासिक जोड़ियां

लैला-मजनूँ , सोहणी-महिवाल, जोधा-अकबर, रोमियो-जूलिएट, राधा-कृष्ण और ऐसी ही बहुत सारी युगल जोड़ियों के नाम सुन सुन के बड़े हुए है हम। हमारे समाज में फिक्शनल लव-स्टोरीज को जितनी मान्यता प्राप्त है उतनी मान्यता रियल लव स्टोरीज को हरगिज़ नहीं मिली। फिर भी कुछ अभागे कोशिश करते है, कुछ सफल प्रेमी कहलाते है कुछ "समाज के सम्मान" की खातिर या तो खुद बलि चढ़ जाते  है या अपने प्रेम की बलि चढ़ा देते है।

जो भी हो, लेकिन आज भी लोग मानते है की प्यार की पहली सीढ़ी  दोस्ती है। प्यार किसी भी प्रकार का हो उसको सफल बनाने के लिए पहले दोस्ती आवश्यक है। कई बार दोस्ती के पैकेट में लपेटकर ही प्यार जताया जाता है और कईं बार सामने वाला वो पैकेट खोल ही नहीं पाता और बात दोस्ती से आगे बढ़ ही नहीं पाती।
खैर,  जब एक युगल जोड़े के बीच पनपे प्यार को फिल्मो में या साहित्य में दर्शाया जाता है तो उसे रोमांस कहते है, वहीं अगर दोस्ती दो  लडको में हो और प्रगाढ़ता से दर्शाया हो तो उसे ब्रोमान्स कहते है।

रोमांटिक जोड़ियों के बारे में तो आपने बहुत पढ़ा, सुना और देखा होगा। आज "फ्रेंडशिप डे(Friendship Day)" स्पेशल में आपको कुछ जानी मानी ऐतिहासिक "ब्रोमांटिक" जोड़ियों के बारे बताते है। और हाँ, ये जोड़ियां जय-वीरू की तरह फिक्शनल नहीं बल्कि सजीव जोड़ियां है।

दोस्ती एक ऐसा रिश्ता माना जाता है जो सबसे अलग हटकर होता है। आपका दोस्त आपका हमराज़ होता है जिसे आप हर छोटी से बड़ी बात, समस्या, उलझन, कठिनाई या ख़ुशी साझा करते है।
तो आईये आज ऐसी ही कुछ ख़ास दोस्तों की जोड़ियों की हम बात करते है।

हमारी लिस्ट की पहली जोड़ी है  
१. कृष्ण-सुदामा की जोड़ी:


यह दोस्ती उदाहरण है इस बात का की दोस्ती में कोई अमीर गरीब नहीं होता, कोई ऊँचा-निचा नहीं होता। सब दोस्त समान होते है। एक जैसे व्यवहार के अधिकारी होते है। कहा जाता है की कृष्ण के राजा बनने के बाद जब सुदामा पहली बार उनसे मिलने द्वारका पहुंचे तो कृष्ण अपनी सभा छोड़कर नंगे पैरो दौड़ते हुए उनको "रिसीव" करने पहुंचे। सुदामा अपने दोस्त कृष्ण के लिए कुछ अनाज लेकर आये थे (As a courtesy gift) किन्तु कृष्ण के राज्य की भव्यता देखकर उन्होंने वो अनाज की पोटली छुपा ली। कृष्ण की नजर जैसे ही उस पोटली पर पड़ी उन्होंने तपाक से उसे सुदामा से छीनते हुए कहा, "क्या छुपाते हो, मेरे लिए भाभी माँ ने कुछ भेजा है, मुझे दो" और पोटली में से अनाज की फाँकियां भर के खाने लगे।
इनकी दोस्ती पर एक अलग पोस्ट लिखी जा सकती है , इतनी प्रगाढ़ दोस्ती थी कृष्ण सुदामा की।

२.  अकबर-बीरबल 

अगर कोई कहे जोधा तो तुरंत अगला नाम आता है अकबर ठीक वैसे ही अगर कोई कहे अकबर तो अगला नाम सीधा आता है बीरबल का। इस जोड़ी पर तो आपको बहुत कुछ देखने सुनने को मिल जायेगा। यही वजह है की जोधा-अकबर के भी पहले से हम अकबर-बीरबल ही सुनते आये है। किन्तु यह जोड़ी कतई फिक्शनल नहीं है। बीरबल, अकबर के नौ रत्नो में से एक थे और अकबर के करीबी होने के कारण उनके सुख दुःख के साथी भी थे। कहने को तो दोनों का रिश्ता प्रोफेशनल था, किन्तु वाकई में दोनो गहरे मित्र भी थे।
बीरबल का असली नाम महेश दास भट्ट था और  महेशदास के  एक संगीतकार, कवि और अच्छे वक्ता होने के कारण अलग अलग राज्यों के दरबार से उनको "ऑफर्स" थे। ऐसे ही स्विच करते करते महेशदास ने अकबर के नौरत्न मंडल को ज्वाइन किया। एक बार एक युद्ध में अपनी युद्धकला से अकबर को जीत दिलाई बस उसके बाद अकबर ने महेशदास को नाम दिया वीरवर जो आगे चलकर बीरबल बन गया।

३. सचिन - कांबली 

आधुनिक काल की महान दोस्तियों की चर्चा हो और इस दोस्ती का नाम न ले ऐसा कैसे हो सकता है। क्रिकेट जगत के आसमान में जगमगाने से पहले सचिन और कांबली लंगोटिया यार हुआ करते थे। साथ में प्रैक्टिस, साथ में स्कूल, साथ में आना जाना और खाना पीना। इन दोनो की दोस्ती प्रगाढ़ तो थी ही किन्तु इनकी प्रोफेशनल जोड़ी भी कमाल की थी। "हेर्रिस शील्ड" ट्रॉफी के दौरान इन दोनों के बनाये गए ६६४ रनों के पहाड़ को आज भी हिमालय की दृष्टि से देखा जाता है। दोनों में वैसे तो कोई दूरी नहीं थी किन्तु प्रोफेशनली दोनों ने अलग अलग रास्ते चुने और थोड़ी दूरियां बढ़ गयी। फिर भी हमारी महान दोस्तों की  जोड़ी की लिस्ट में इनका नाम आने से कोई नहीं रोक सकता।

बात खेल और खिलाड़ी की हो रही हो तो एक और खेल है जहाँ दोस्ती की जोड़ी भी बनती है और दुश्मनी की भी। हम बात कर रहे है टेनिस की। हमारी लिस्ट में अगले महान दोस्त है  . ....... 

४. रोजर फेडरर और स्टेन वावरिंका 

यह दोनों न केवल अच्छे खिलाड़ी है बलकि बहुत ही अच्छे दोस्त भी है। इन दोनो का देश ही समान नहीं है बल्कि इनका कोच और फिटनेस ट्रेनर भी एक ही है। दोनों एक दूसरे का तहे-दिल से सम्मान करते है।
हो सकता है की टेनिस की दुनिया में और भी महान दोस्ती के किस्से रहे हो पर हमारी लिस्ट में स्थान इन दोनों ने पाया है।

अंत में फिर से एक बार ले चलते है आपको इतिहास की ओर और मिलवाते है अगली जोड़ी से जो भी दोस्ती की एक मिसाल है किन्तु सम्मान को प्राप्त न कर सकी।

५. कर्ण और दुर्योधन 

कहते है दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जो पूर्णतः स्वार्थ रहित होता है या होना चाहिए। किन्तु यह दोस्ती अपने -अपने स्वार्थ को सिद्ध करने के लिए स्थापित हुयी थी और यही कारण है की इस दोस्ती को उस सम्मान की दृष्टि से नहीं देखा जाता जिस सम्मान का इसे अधिकार है। और यह दोस्ती इस बात की भी मिसाल है की दोस्त को गलत राह पर चलने से न रोक पाना और उसकी हर गलती में साथ देना कितना भारी पड़ता है। कर्ण जो की एक महान योद्धा, एक संवेदनशील इंसान था।  जिसके दिल में गरीबो के लिए प्रेम और दया का भाव था जो की खुद सूर्य पुत्र था किन्तु एक दुर्योधन की दोस्ती ने उसे इतिहास में एक नायक की जगह खलनायक का स्थान दिलवा दिया।
जो भी कह लो किन्तु दोनों ने मित्रता अंत समय तक  निभाई।

तो यह थी ५ मेरी सबसे पसंदीदा दोस्तों को जोड़ी किन्तु इनके अलावा कुछ और नामो का उल्लेख करना चाहूंगा जैसे लेरी पेज-सरजी ब्रिन(गूगल वाले भाई लोग), अमिताभ-अमरसिंग( बिलकुल सचिन कांबली टाइप जोड़ी), सलमान-आमिर(बॉलीवुड स्टाइल जोड़ी), सचिन-गांगुली, और दिग्गी-राहुल गांधी।
 

तो बताईये आपको कौनसी जोड़ी सबसे ज्यादा अच्छी लगी या कोई और भी जोड़ी हो जो आपकी आदर्श हो और इस लिस्ट में न हो तो कमेंट करके बताईये।



बार बार कहने की जरुरत तो नहीं पर फिर भी कहना चाहिए की सारे चित्र गूगल इमेज सर्च के सौजन्य से