Monday, 21 September 2015

पुरुषो के अच्छे दिन



आज की तारीख में अगर कोई कहे "बेचारा" तो अनायास ही मुँह से निकल जाता है "पुरुष", जी हाँ बेचारा पुरुष।

अगर ध्यान से देखे तो बीते कुछ सालो में किसी ने पुरुषो के उत्थान के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाये है। किसी ने अगर कदम उठाये है तो केवल इनको कुचलने के लिए, इनकी आज़ादी के पतन के लिए, और इन्हे बेचारा बनाने के लिए।

बताइये, हजारो साल पहले पुरुषो ने कभी कोई अत्याचार किया होगा किस नारी पर तब से आज तक उसका बदला लिया जा रहा है।

शादीशुदा पुरुष, कुंवारा पुरुष, विधुर पुरुष, तलाकशुदा पुरुष, सारे के सारे ही बेचारे पुरुष। यकीन न आये तो टीवी खोल के देख लीजये, किसी भी धारावाहिक में अगर पुरुष दिखाई दे जाये तो बताईये।और दिख भी जाये तो खुश दिखे तो बताना। किसी न्यूज़ चैनल पर पुरुष विरोधी न्यूज़ न आ रही हो तो बताईये।



मुझे तो भय सताने लगा है की पुरुषो प्रजाति कहीं विलुप्त न हो जाये

किन्तु ऐसे घोर कलियुग में अगर कोई पुरुषो के लिए भगवान बन के, ख़ुदा का फरिश्ता बन के आया है तो वो है BSNL । जी हाँ सही सुने आप, मैं फ़ोन वाले BSNL की ही बात कर रहा हूँ।

 BSNL ने जबसे रात ९ से सुबह ७ की ऑल इंडिया कॉलिंग मुफ्त कर दी है तब से टीवी के रिमोट जैसी स्ट्रेटेजिक चीज पर पुरुषो का अधिपत्य हो चूका है । नहीं तो ९ से ग्यारह में स्टार प्लस और ज़ी टीवी के घनघोर &*यापे  वाले सीरियल्स देख देख के पुरुषो का IQ राहुल गांधी जैसा हो गया था। अब रात के ९ बजते से ही घर की महिला के हाथो में टीवी का रिमोट नहीं, फ़ोन का रिसीवर होता है। और घर का पुरुष स्वच्छन्दता से, अपनी पूर्ण स्वतंत्रता से टीवी में आने वाले सारे चैनल्स चेक कर सकता है। हर २ मिनट में नयी चीज देख सकता है। क्रिकेट, फुटबॉल , TNA  कुश्ती, फैशन जगत की बालाएँ, किंगफ़िशर के कैलेंडर मेकिंग का स्टडी टूर इत्यादि कुछ भी देख सकता है। यह कमाल किया है BSNL ने ।

इतना ही नहीं, अभी यहाँ तक सुनने में आया है की १ अक्टूबर से BSNL ब्रॉडबैंड इंटरनेट में कम से कम २ MBPS की स्पीड मुहैया करायेगा ही करायेगा। याने की अब पुरूषों को अपने मोबाइल /लैपटॉप में कोई भी वीडियो अटक अटक के बफर करा करा के नहीं देखना पड़ेगा। इसका मतलब समझ रहे है आप ? जानता  हूँ आपमें से कईयों के मन के कैसे कैसे विचार उत्पन्न हो रहे होंगे। अभी काबू रखिये। परन्तु १ अक्टूबर से खुल के मजे लीजिये फुल HD में।



धन्य है BSNL जिसकी पुरुष हित में जारी की गयी योजनाओ की वजह से पुरुषो को अपनी खोयी हुई आज़ादी  मिलने को है। पुरुषो के अच्छे दिन आने को है।


नोट: इस लेख के बदले में BSNL वालो ने मेरा कोई बिल माफ़ नहीं किया है न ही कोई विशेष सेवा का लाभ दिया है , परन्तु अगर कोई BSNL कर्मचारी /अधिकारी इसे पढ़के मुझ पे ऐसा कोई उपकार करना चाहे तो मैं कतई मना नहीं करूँगा।





0 comments/टिप्पणी: