Sunday, 2 April 2017

ट्रैन वाली लड़की

डिस्क्लेमर: यह लघुकथा पूर्णतः मेरी कल्पनाओ के परिंदों की उड़ान का परिणाम है।इसका किसी जीवित इंसान, पशु, पक्षी, भूत, प्रेत आदि से कोई सरोकार नही है। एक और बात, यह कथा किसी घटना, किताब, फ़िल्म या किसी और की रचना से प्रेरित भी नही है, अगर ऐसा हुआ तो यह मात्र एक संयोग होगा।
†*************************************†

मैं और शिखा आज बड़े दिनों बाद ट्रैन के स्लीपर कोच में एक साथ उर्दू वाला सफ़र कर रहे है। वैसे तो बीते कुछ वर्षो  में एक दूसरे के साथ अंग्रेजी वाला ही सफर किया है हमने। शायद यह आखिरी बार हो की हम साथ हो।
जी हाँ मैं उसे उसके घर छोड़ने जा रहा हूँ, हमेशा के लिए। आखिर कब तक सहेगी वो और मैं भी। बीते वर्षो में हमारा  रिश्ता गरम चाय से कोल्ड कॉफी में बदल चूका है। कहने सुनने को अब सिर्फ ताने और गालियां ही है।

शिखा विंडो सीट पर बैठी है और उसके सामने बीच वाली सीट पर मैं । वो खिड़की से बाहर अपनी सूजी आँखों से टकटकी लगाये देखे जा रही है और में उसे। उसे देखकर लगा की कहीं फिर से दिल की कार्यवाही शुरू न हो जाये। कहीं फिर से भावनाओ के वो अंगारे दहक न उठे जिनकी अग्नि में हमने फेरे लिए थे। अपने बुझे हुए रिश्ते के महक उठने का डर नहीं था मुझे । डर यह था की कहीं फिर से इस रिश्ते को संभाल पाने में नाकाम रहा तो ?

ट्रैन चल पड़ी थी मुझे शिखा के चेहरे की सिवाए न कुछ दिख रहा था और न कुछ सुनायी दे रहा था। इस ट्रैन की यात्रा से ६ साल पहले वाली एक ट्रैन यात्रा याद आ गयी। ६ साल पहले जब मुस्कराहट मेरे करीब रहा करती थी और मैं  इसी मुस्कान को बांटने की कोशिश किया करता था। यह वो उम्र थी जब किसी इंसान का दिल किसी तितली की तरह उड़ा करता है।

 ६ साल पहले

विंडो सीट पर वो आलथी पालथी मार के  किसी  किताब में अपनी ऑंखें चश्मे सहित गड़ाए हुए बैठी थी ,  उसके पास एक अंकलजी टाइप के भाईसाब बैठे थे जो उससे काफी दूरी पर थे।  मैने  अपना बैग ऊपर वाली सीट पर फेंका और उन दोनों के बीच में जा धंसा। वैसे भी मेरी मिडिल बर्थ थी तो लॉजिकली मैं सही बैठा था। थोड़ी देर तक मैं अपनी मुंडी इधर उधर करके, अपनी आँखें मसलते हुए उसको ध्यान से देखने की (ताड़ने की) कोशिश  करता रहा और सफल भी हुआ । 
अब मैं अगर यहाँ  उसके रंग रूप और उसके पहनावे की चर्चा न करू तो आप लोगो को "इमेजिन" करने में बड़ी ही दिक्कतें आएँगी, आपको तो आदत पड़  चुकी है अंग्रेजी किताबें पढ़ पढ़ के, जब तक पूरा सीन "डिस्क्राईब" न करो तब तक आपको "इंटरेस्ट" आता ही नहीं ।  तो लीजिये सुनिए उसने चटख नीले कलर का टॉप पहना हुआ था , (राउंड नेक फुल्ली कवर्ड) जिसपर अंग्रेजी में कुछ लिखा था जो ठीक से  मैं पढ़ नहीं पाया (बिकॉज़ ऑफ़ ऑब्वियस रीज़न्स)  और एक सतरंगी सा ढीला ढाला  पायजामा पहना हुआ था। चेहरे की नक्काशी शायद खुद भगवान ने फ़ुरसत में  बैठ के करी थी। बाल उसके घुंगराले थे, जो ज्यादा लम्बे नहीं थे और खुले हुए थे और बार बार उसके चश्मे के आगे आ कर उसको परेशान कर रहे थे। चश्मे के अंदर बड़ी बड़ी गोल गोल आँखें थी जो किताब के पन्नो पर बड़ी तेज़ी से बाएं -दायें घूमे जा रही थी।  मन तो हो रहा था की अपने हाथो से ही उसकी लटो को उसी के कान के पीछे खोंस दू, परन्तु फिर जल्दी ही अहसास हो गया की मैं कौन हूँ, वो कौन है और हम कहाँ है। कईं बार आपको आपकी औकात बड़ी जल्दी और टाइम पर याद आ जाती है तो आप शरीफो की श्रेणी में आ जाते हो और अगर समय पर अपनी औकात याद न आये और कोई ओर याद दिलाये तो फिर आप  शरीफ नहीं रह जाते।

In short कहु तो जिंदगी में कभी किसी ट्रैन के स्लीपर कोच में ऐसी लड़की मैंने आज तक नहीं देखी थी जैसी वो थी, ऐसी लड़की के लिए हमारा एक मित्र "रुई की गुड़िया" की उपाधि दिया करता था, बस समझ लो रुई की गुड़िया जैसी ही थी वो। अब तो उसका चित्रण आपके मस्तिष्क में हो ही चूका होगा।



इससे कुछ ही देर पहले: 

मैं भागता दौड़ता हुआ प्लेटफॉर्म ६ पर खड़ी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के स्लीपर कोच S-5 में जैसे तैसे दाखिल हुआ ही सही की ट्रैन चल पड़ी, कुछ एकाध मिनट भी लेट होता तो या तो चलती ट्रैन में लटकना पड़ता या स्टेशन पर ही लटका रहता। मैं बैंगलोर से दिल्ली जा रहा हूँ, टिकिट मैने करवाया था जो वेटिंग २३ से खिसक के ४ पर आ गया था परन्तु  इसके आगे न बढ़ सका। और तत्काल में हमसे टिकिट आज तक बुक नहीं हुआ, IRCTC पर तत्काल में  टिकिट बुक करना बिलकुल वैसा है जैसे किसी स्वयंवर में राजकुमारी से ब्याहना या पहली ही बार में IIT के लिए चुन लिए जाना। मैं  वेटिंग टिकिट के साथ ही चढ़ गया और TTE का पीछा तब तक नहीं छोड़ा जब तक की उसने मुझे झुंझलाकर ही सही एक सीट दे दी। मेरी वेटिंग वाली टिकिट पर S6-10 लिख के एक गोला बनाया और ४७५ रुपये की एक रसीद फाड़ दी। ( एक्स्ट्रा रुपये भी लिए उसने बिना रसीद के जो मैं यहाँ आपको बताना नहीं चाहता, दिल्ली वाला हूँ न, भ्रष्टाचार ख़िलाफ़)

टिकिट में सीट कन्फर्म पाकर मुझे बिलकुल वैसा अहसास हुआ जैसे मैनेजमेंट कोटे में एक प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन मिलने पर हुआ था आज से ७ साल पहले।

मैं घूमता हुआ सीधा अपनी निर्धारित सीट पर पहुँचा तो अचानक से ट्रैन की बदबू एक अजीब सा सुकून देने वाली  खुशबू में बदल गयी।जिंदगी कुछ देर के लिए स्लो मोशन हो गयी। कम्पार्टमेंट की विंडो सीट पर वो आलथी पालथी मार के  किसी  किताब में अपनी ऑंखें चश्मे सहित गड़ाए हुए बैठी थी , उसके पास एक अंकलजी टाइप के भाई साब बैठे थे जो उससे काफी दूरी पर थे।  मैने  अपना बैग ऊपर वाली सीट पर फेंका और उन दोनों के बीच में जा धंसा। वैसे भी मेरी मिडिल बर्थ थी तो लॉजिकली मैं सही बैठा था। थोड़ी देर तक मैं अपनी मुंडी इधर उधर करके, अपनी आँखें मसलते हुए उसको ध्यान से देखने की (ताड़ने की) कोशिश  करता रहा और सफल भी हुआ।

नोवेम्बर का महीना था, शाम के ६ बज रहे थे और ट्रैन की खिड़की से अच्छी खासी ठंडी हवा आ रही थी, पर इन सब से बेखबर वो अपनी किताब को ऐसे पढ़े जा रही थी जैसे थोड़ी देर में TTE उसकी परीक्षा लेगा और वो  पास हो गयी तो उसका टिकिट अपग्रेड करके 1st AC कर देगा।
मैं भी इधर उधर देखता रहा और अपने मोबाइल से खेल करता बैठा रहा, इतने में खाने वाला आर्डर लेने आया तो पुरे कम्पार्टमेंट में मैं ही अभागा था जिसने ट्रैन के खाने का आर्डर दिया बाकी सब शायद अपना अपना खाना लेकर आये थे।
चलो, खाने वाले को देखकर ही सही, "रुई की गुड़िया" को याद तो आया की उसको भी भूख लग रही है। उसने अपने बैग में से डिब्बा निकाला और एक रोल किया हुआ पराठा लेकर खाने लगी, एक मिनट के लिए मेरी नाक, नज़र और दिमाग सिर्फ पराठे पर ही केंद्रित हो गए थे। खुशबू से मालूम पड़ रहा था की पराठे में आलू मटर की सब्जी और अचार का मसाला भरा हुआ था। उस पत्थर दिल ने "फॉर्मेलिटी" के लिए ही सही पर एक बार भी "ट्रैन एटिकेट्स" दिखाते हुए यह नहीं पूछा की "Would you like to Have it..?" . खैर जाने दो, मेरा भी शाही पनीर, दाल तड़का, जीरा राइस और तंदूरी रोटी आ चुके थे, हाँ हाँ वही ट्रैन वाला खाना जिसको मेने यह सब "इमॅजिन" करके जैसे तैसे खा लिया, बदले में मैंने भी किसी से नहीं पूछा "Would you like to have it..?.

रात के ९ बज चुके थे, ऊपर की बर्थ वाले अंकल ऊपर जाकर फ़ैल चुके थे, सामने भी अंकल आंटी जी चादर बिछा के, तकिये में हवा भर के गुड नाईट की तयारी कर चुके थे, सामने की मिडिल बर्थ उठाई जा चुकी थी और लगेज में चैन बाँधी जा चुकी थी। और इधर उसकी किताब अभी भी खत्म नहीं हुयी थी, भला कोई इतनी देर सतत कैसे पढ़ सकता है। इन सब के बीच मेरे फ़ोन की मैसेज बाजी चालू थी जो मैं रह रह कर "उससे" नज़रे चुराके किये जा रहा था ,
 ये मेसेज में अपनी छोटी बहन रिया को किये जा रहा था जो मेरी टांग खींचने में लगी थी।दर-असल हुआ ये की इस बार की छुट्टियों में घरवालो ने मेरे लिए कुछ ख़ास इंतेजाम करके रखा था। रिया उन्ही सब इंतजामो की पोल खोल रही थी। उसने मुझे बताया की कैसे मुझे बकरा बना कर शादी के लिए लड़की देखने ले जाया जायेगा।

यह उम्र कुछ ऐसी होती है की आदमी चाहता है की वो जिंदगी में कुछ तरक्की करे, कुछ नाम और बैंक-बैलेंस कमा ले, थोड़ा अपनी आज़ादी को खुलके जी ले और इसी समय घरवाले धर्मसंकट खड़ा कर देते है शादी जैसी बातें करके।

ठंडी बढ़ने लगी है, ट्रैन के पंखो को भी आराम दे दिया गया है और सारी खिड़कियों के शटर गिरा दिए है, सिवाए उसकी खिड़की के। उसने बहुत कोशिश करी खिड़की बंद करने की और फिर अंत में वो मकाम आ ही गया जिसका में बेसब्री से इन्तेजार कर रहा था।
                      -"can you please help me to shut this window ?"  उसने अपने गुलाब की पंखुड़ी जैसे होठो को पहली बार खोला और अपने मुख कमल से इतने सारे अंग्रेजी के शब्दो की अविरल धारा प्रवाहित कर दी की मुझे कुछ समझ नहीं आया। उसके अंग्रेजी शब्द मेरी समझ में बिलकुल नहीं आये इसलिए नहीं की मैं हिंदी माध्यम का विद्यार्थी रहा हूँ बलकि इस लिए की मुझे पहली बार "घिग्गी बंधना" मुहावरे का वास्तविक जीवन में अर्थ समझ आ रहा था। मैंने कुछ कहने के लिए मुँह खोला  किन्तु मेरे शब्द सरकारी अनुदान की तरह कहीं अटक  गए केवल मुँह  खुला रह गया। इससे पहले की मेरे खुले मुंह से लार टपकती उसने फिर कुछ कहा।

'एक्सक्यूज़ मी ? आप प्लीज् यह खिड़की बंद कर देंगे ?'
अबकी बार उसने थोड़ी जोर से बोला और हिंदी में भी बोला जो पूरा पूरा समझ में भी आया और मैंने हाँ में मुंडी हिला के खिड़की बंद करने का प्रयास किया, यह प्रयास मेने सनी देओल की  शैली में किया किन्तु KRK की शैली में असफल हुआ। आज ट्रैन की इस तुच्छ सी खिड़की ने जीवन का सबसे बड़ा पाठ पढ़ा दिया कि जिनके नसीब फूटे हो वो कितनी ही कोशिश कर ले उनसे न खिड़की बंद होनी है और न ही लड़की इम्प्रेस होनी है ।
दर-असल उस खिड़की की चिटकनी खराब थी जो लग ही नहीं रही थी सो काम ऐसे ही चलाना था।
अब हमारी बात शुरू होने को थी।

'let it be like that, let's enjoy AC in sleeper coach, आप को नींद आ रही हो तो बता दीजियेगा, सीट ऊपर कर लेना'  रुई की गुड़िया ने मेरी तरफ देख के कहा,  इस बार मेरे शब्द अटके नहीं और मैने कहा 'नहीं नहीं मुझे अभी नहीं सोना। वो क्या है की  जब तक की मैं  खुद सोना न चाहु, मुझे नींद नहीं आती, आपको सोना हो तो आप बता देना'
मैंने बड़ा ही अजीब और घटिया सा डाइलोग मारा था जिसका अहसास भी मुझे हो गया था।

'अरे वाह यह तो बड़ी अच्छी बात है की आप जब चाहो तब सो सकते है , It's great ability, you know ?'
मुझे समझ नहीं आया की तारीफ कर रही है या टांग खीच रही है , खैर जो भी हो मैंने हेहेहे हीही ही करके बात आयी गयी कर दीऔर बात आगे बढ़ाने के उद्देश्य से एक निहायती साधारण और गैरवाज़िब सवाल दाग दिया।

'आप दिल्ली जा रही हो ?'
"हाँ , और आप ?" (उसके मुँह से "आप" सुनके लग गया था की यह दिल्ली वाली तो नहीं है )
"मैं भी।"
"कुछ काम से या घर है आपका वहां ?" उसने यह सवाल पूछा जिसका जवाब ईमानदारी से दिया ही नहीं जा सकता था मैंने कहा की "हाँ दिल्ली में ही घर है मेरा, बस घरवालो से मिलने जा रहा हूँ, और आप ?"

"ओह्ह गुड, नहीं मैं तो यूँही फ्रेंड्स से मिलने जा रही हूँ और मेरी एक कज़िन भी रहती है वहां"

मैंने दिल्ली वाले टॉपिक को बदलने के लिए बैंगलोर का टॉपिक छेड़ा बिलकुल वैसे ही जैसे जॉब इंटरव्यू में आप कोशिश करते हो की  सवाल उसी टॉपिक के आसपास पूछे जाये जिस टॉपिक पर आप मुँह खोलकर फेंक सकते हो। मैंने पूछा की "बैंगलोर में आप क्या करती है ? आईटी में हो क्या ?"

"No no, I am not into IT, I am doing a course in journalism from Hyderabad, अभी छुट्टियों में बैंगलोर अपने घर गयी थी, अभी २ दिन दिल्ली में रहूंगी and then back to Hyderabad."

जब आपको कोई और प्रोफेशन का बंदा या बंदी मिल जाये तो आप अपने प्रोफेशन के बारे में सहूलियत से फेंक सकते हो ठीक वैसे ही जैसे नेता लोग अपने भाषणो में करते है।

कुछ देर हम यूँही एक दूसरे को अपने बारे में फेंकते रहे, कुछ रियलिटी तो कुछ फिक्शन और इतने में रात के १२ बज गए थे। अब मुझे जर्नलिज़्म की बातें स्कूल के लास्ट पीरियड वाले सब्जेक्ट जैसी लगने लगी थी परन्तु लास्ट लेक्चर में भी अगर टीचर इतनी खूबसूरत हो तो कौन कमबख्त चाहेगा की छुट्टी की घंटी बजे। लेकिन मेरी जिंदगी में ३ ही कमजोरियां है ,  खाना,सोना और लड़कियाँ और इनकी रेटिंग भी इसी क्रम में है। ज़ाहिर सी बात थी अब नींद आने को थी और मुझे सोने से कोई नहीं रोक सकता था। मैंने खिड़की बंद करने की एक और असफल कोशिश की। घर से निकलते वक़्त मैंने कुछ न्यूज़ पेपर्स अपने बैग में रखे थे यह सोच कर की अगर सीट न मिली तो कही भी यह पेपर्स बिछा के सो जाऊंगा। वही न्यूज़ पेपर्स काम आये और खिड़की को जैसे तैसे एयरटाइट पैक किया। लड़की के इम्प्रेस होने का तो पता नहीं पर खिड़की जरूर बंद हो गयी थी।

अभी मैंने अपनी मिडिल सीट उठा के सोने की तैयारी कर ली थी और अपनी "गुड नाईट" हो गयी थी। और वो भी अपने हिसाब से सो गयी थी।

सुबह उठे, गुड मॉर्निंग हुआ, चाय शाय  शेयरिंग हुयी और पूरा दिन गप्पे हांकने में और खाने पिने में बीत गया। हमने अपने नाम का आदान प्रदान भी किया। अगली सुबह गंतव्य याने दिल्ली के करीब पँहुच के जिंदगी में पहली बार लगा कि काश मंज़िल थोड़ी और दूर होती, काश के यह सफ़र यूँही उम्रभर चलता। खैर अब हम बिछड़ने को थे, उसकी आँखों को पढने की कोशिश कर ही रहा था की उसने गुड बाय बोल दिया और सरपट से भीड़ में न जाने कहाँ खो गयी।

मैं  भी अपने घर की और निकल गया। अजीब कीकश्मकश थी मुझे शादी के लिए लड़की देखने जाना था और में ट्रैन में ही उस अजनबी सी लड़की को दिल दे बैठा था , क्या यह वाकई में इश्क़ था या वो क्या कहते है अंग्रेजी में infatuation , समझ नहीं आ रहा था। वैसे जिस लड़की को देखने जाना था वो भी दिल्ली में नहीं कहीं और रहती है , यहाँ उसके मामा के यहाँ उसको बुलाया गया है।

अनमने मन से तैयार होकर निकल पड़ा पापा , मम्मी  और रिया के साथ लड़की देखने। रास्ते भर मुझे बस शिखा याने की ट्रैन वाली लड़की का ही ख़याल आता रहा।

लड़की वालो के यहाँ पहुँचे और लड़की के मामा मामी से सामना हुआ, कुछ देर मेरा इंटेरोगेशन करने के बाद उन्होंने आवाज़ लगायी शिखा बेटा  यहाँ आओ। और जैसे ही वो सामने आयी मेरे हलक से पानी सुख  गया, हाथ से रसगुल्ला छूट गया और न जाने कौन कौन से हार्मोन शरीर में मिक्स एंड मैच होके ऊधम मचाने लगे। जी हाँ, यह वही शिखा है जिसे हम ट्रैन में ही अपना दिल दे बैठे थे। उनका भी हाल कुछ ऐसा ही था।

बस फिर क्या था एक दो मुलाक़ातों में वो भी हम पर जां निसार कर बैठे और हमने शादी कर ली।


आज का दिन

शादी के ६ सालो में हम जिंदगी की आपाधापी में कहीं एक दूसरे से दूर से हो गए थे, काम का बोझ, शहर की दौड़ वाली दिनचर्या इंसानो को मशीन बना देती है। कईं दिनों के बाद, या सालो के बाद आज में शिखा को इतना गौर से देख रहा था, मुझे फिर से प्यार हो रहा था।  में शिखा से कितना कुछ कहना चाहता था -
शिखा, क्यों न हम एक कोशिश और करके देखे ? क्यों न हम फिर से प्यार में पड़ कर देखें ? क्यों न फिर से तुम "रुईं की गुड़िया" बन जाओ ? सब कुछ भुलाकर फिर से नयी शुरुआत करे ? खोल दो अपनी इन ज़ुल्फो को और मुझे सो जाने दो इनकी छाँव में, अपने नरम मुलायम हाथो से  छू कर मेरे इस पत्थर जैसे दिल को फिर धड़कना सीखा दो। प्लीज, एक बार फिर से अपनी कोमल मुस्कान से मेरे चेहरे पर मोती बिखरा दो। कितना कुछ माँगना चाहता हूँ तुमसे।






एकदम कोरी कल्पना को मैने पन्नो पर उतारने की एक छोटी कोशिश की है आशा है आपको पसंद आये। 

चित्र गूगल इमेज सर्च का परिणाम है , परंतु है बढ़िया।


Sunday, 16 November 2014

आवारा लड़का

आईये आपका पुनः स्वागत है कट टू कट के इस नए लेख पर , अब तक की मेरी रचनाएँ हमारे दैनिक जीवन की उठा पटक को देख कर लिखी गयी है जिनमे मेने थोड़ा व्यंग्य का नमक भी छिड़का है।  आज संभवतया पहली बार यह एक कहानी नुमा लेख आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ जो की "फिक्शन" की श्रेणी में आता है जिसका शीर्षक है "आवारा लड़का "। आशा है आप इसे भी पसंद करेंगे। 

यह कहानी है एक १७ साल के किशोर की, जो अपने जीवन के उस दौर में है जहाँ हमें कोई एक राह चुन कर आगे बढ़ना होता है , समाज वाले इस उम्र को "कच्ची उम्र" भी कहते है क्योंकि अभी तक जीवन रूपी घड़े की मिटटी कच्ची ही होती है इसके बाद इसे जो रूप देदो वो रूप अख्तियार करके जीवन आगे बढ़ जाता है। यह कहानी है गोलू की। 



गोलू, बी. कॉम प्रथम वर्ष का छात्र है, इसका ज़्यादातर समय अपने दोस्तो मे इधर-उधर की सम-सामयिक चर्चाएँ करने मे गुजरता है, एक 17 साल का किशोर किस तरह की सम-सामयिक चर्चाओं मे व्यस्त रहता होगा इसका बखान करने की शायद आवश्यकता नहीं है, यह वो उम्र होती है जब इंसान के शरीर और मस्तिष्क पर "क्यूरीयोसिटी" नाम का वाइरस अपना क़ब्ज़ा जमा चुका होता है और गाहे-बगाहे दीमाग के किसी शांत पड़े कोने मे कुलबुलाता रहता हैं| अक्सर जब यह कुलबुलाता है तो इसे शांत करने के लिए इंसान कई तरह के इलाज के पीछे भागता है, वैसे सबसे सस्ता और कारगर इलाज है दोस्त।   जी हाँ  मन मे जो भी विकार हो, कोई कुलबुलाहट हो, सीधा जाके अपने दोस्तो से डिसकस करो, सारे वाइरस एकदम शांत हो जाते है| दोस्त या तो आपको सटीक तरीका बता देंगे जिससे सारी कुलबुलाहट मिट जाए, या फिर उस वाइरस को दीमाग के एक कोने से दूसरे कोने मे शिफ्ट कर देते है, और इसी प्रक्रिया मे थोड़ी देर के लिए सही, हमारा "क्यूरीयोसिटी"  वाइरस शांत रहता है|

बहर-हाल बात करते है गोलू की, गोलू ने अपनी कक्षा 12वी तक की पूरी पढ़ाई मोहल्ले के  "गवर्नमेंट बॉय्स उ. मा. विद्यालय" से ही पुरी की है, और उसके ज़्यादातर दोस्त भी उसी स्कूल से पास/फैल/आउट होके निकले है। गोलू के आधे से ज़्यादा दोस्तो को सितारो से जडीत मार्क-शीट मीली, और उन्होने इधर-उधर ट्राय करने के बाद अपने पिताओ के घरेलू व्यवसाय संभालने शुरू कर दिए|
परंतु गोलू थोड़ा ख़ुशनसीब निकला और ठिक-ठाक अंको से स्कूल कि दहलीज पार करने का सर्टिफिकट लेकर अब कॉलेज जाने लगा है। उसके नये नये दोस्त भी बने है , पूरी 100% पुरुष मंडली। शुद्ध रूप से लडको के स्कूल से पढकर आने वाले विद्यार्थी के लिये सबसे आसान काम होता है “बॉय्स ओनली ग्रूप बना लेना और फिर उस लडके कि जम्के खींचायी करना जो भुले से भी कन्याओ कि मंड्ली मे शामील हो गया हो। या यूँ कह लीजिए की अंगूर खट्टे के खट्टे ही रहते है|

अभी कॉलेज की ख़ास बात यह है की यहा गोलू के सिर्फ दीमाग मे ही वायरस छट्पटाता है आँखों मे कोई वाइरस नही कुलबुलाता, क्योंकि को-एड कॉलेज मे दाखिला लिया था, इसीलिए आँखें ठंडक पाने को कम ही तरसती थी|
गोलू और उसकी मंडली ज़्यादातर अपना समय ऐसी जगहो पर बीताते है जहाँ कन्याओ के झुंड का आना जाना ज्यदा होता हो।
 खैर अब तक यहाँ गोलू के बारे में जो कुछ भी बताया गया है उसको सुन पढ़ कर आपके दिमाग में उसका चरित्र चित्रण हो चूका होगा, यह सामान्य इंसानी बिमारी है की हम किसी के बारे में कुछ सुनते पढ़ते है तो उसके बारे में वैसी ही धारणा बना लेते है। 
वैसे गोलू आसानी से किसी का कहना नहीं सुनता परन्तु अगर बाइक पर कही जाके कोई काम करवाना हो तो आप बेझिझक गोलू को कह सकते है। मसलन, पड़ौसी शर्मा अंकल को सुबह सुबह ६ बजे उठकर रेलवे स्टेशन पहुचाना हो, बड़ी बहन को उसके कॉलेज छोड़ कर आना हो, पास वाली भाभी को बाजार लेके जाना हो या पीछे की गली में रहने वाली सलमा आपा को ब्यूटी पार्लर लेके जाना हो, गोलू बिना कोई झिक झिक किये इन सब का काम कर देता है। 
आज ही गोलू के घर में किरायेदार आंटी ने कहा "अरे गोलू भइया, आप कोचिंग जाओगे न, तो रास्ते में ही हमारी मौसी का घर पड़ता है, थोड़ा छोड़ दोगे क्या हमको ?" गोलू ने तपाक से कह दिया " अरे आंटी थोड़ा क्या आपको पूरा का पूरा वहां छोड़ दूंगा " ठहाके गूंजे और थोड़ी देर में गोलू अपनी बाइक पर आंटी को बिठा के निकल पड़ा। 

गोलू ने अपना बी.कॉम  प्रथम वर्ष पूरा कर लिया इसी तरह, देश में जिस तरह बारिश की कमी रही उसी तरह गोलू की मार्कशीट में भी थोड़ा सुखा पड़ा इस बार, परन्तु पास जरूर हो गया। 
गोलू की जिंदगी इसी तरह अब भी चल रही है, पास वाले चौहान अंकल से लेके पड़ोस वाले पटेल काका तक सब का कोई न कोई काम करता आ रहा है (बशर्ते उस काम में बाइक की आवश्यकता हो ना की बल की )

आईये अब आपको लेके चलते है इन्ही पड़ौसियों के घर, पास वाली शर्मा आंटी आज अपने बेटे को डांट रही थी "पढ़ ले थोड़ा, बैठ के किताब खोल लिया कर नहीं तो वो गोलू जैसा आवारा बन के घुमा करेगा इधर उधर " 
गोलू की बाइक पर अक्सर बाज़ार जाने वाली भाभी आज सलमा आपा से मिली तो कह रही थी की आज तो पुरे १० रुपये खर्च करके बस से बाजार जाना पड़ा नहीं तो वो आवारा गोलू छोड़ ही देता है हमेशा। पड़ोस वाले शर्मा जी को उनका सहकर्मी ट्रैन में बता रहा था की किस तरह उसको ऑटो वाले ने लूटा, तभी शर्मा जी बोले "यार अपना तो बढ़िया है , पड़ोस में एक बेवकूफ़ किसम का लड़का रहता है उसको जब बोलो तब बाइक लेके आ जाता है और स्टेशन छोड़ जाता है।"

गोलू को उसके अपने घर में भी कोई सीरियसली नहीं लेता है, वो अपने खुद के घर में भी एक "आवारा लड़के" की पदवी पा चूका है।