Sunday, 2 April 2017

किस्सा

 किस्सा 


अधूरे ख्वाबो की सच्ची कहानी थी , कह गया। 
तेरी तमाम यादों का किस्सा क़तरा - क़तरा बन आँखों से बह  गया। 


टुटा, बिखरा , चूर हुआ , दिल ही तो था, मेरा था मेरे पास ही रह गया। 





ट्रैन वाली लड़की

डिस्क्लेमर: यह लघुकथा पूर्णतः मेरी कल्पनाओ के परिंदों की उड़ान का परिणाम है।इसका किसी जीवित इंसान, पशु, पक्षी, भूत, प्रेत आदि से कोई सरोकार नही है। एक और बात, यह कथा किसी घटना, किताब, फ़िल्म या किसी और की रचना से प्रेरित भी नही है, अगर ऐसा हुआ तो यह मात्र एक संयोग होगा।
†*************************************†

मैं और शिखा आज बड़े दिनों बाद ट्रैन के स्लीपर कोच में एक साथ उर्दू वाला सफ़र कर रहे है। वैसे तो बीते कुछ वर्षो  में एक दूसरे के साथ अंग्रेजी वाला ही सफर किया है हमने। शायद यह आखिरी बार हो की हम साथ हो।
जी हाँ मैं उसे उसके घर छोड़ने जा रहा हूँ, हमेशा के लिए। आखिर कब तक सहेगी वो और मैं भी। बीते वर्षो में हमारा  रिश्ता गरम चाय से कोल्ड कॉफी में बदल चूका है। कहने सुनने को अब सिर्फ ताने और गालियां ही है।

शिखा विंडो सीट पर बैठी है और उसके सामने बीच वाली सीट पर मैं । वो खिड़की से बाहर अपनी सूजी आँखों से टकटकी लगाये देखे जा रही है और में उसे। उसे देखकर लगा की कहीं फिर से दिल की कार्यवाही शुरू न हो जाये। कहीं फिर से भावनाओ के वो अंगारे दहक न उठे जिनकी अग्नि में हमने फेरे लिए थे। अपने बुझे हुए रिश्ते के महक उठने का डर नहीं था मुझे । डर यह था की कहीं फिर से इस रिश्ते को संभाल पाने में नाकाम रहा तो ?

ट्रैन चल पड़ी थी मुझे शिखा के चेहरे की सिवाए न कुछ दिख रहा था और न कुछ सुनायी दे रहा था। इस ट्रैन की यात्रा से ६ साल पहले वाली एक ट्रैन यात्रा याद आ गयी। ६ साल पहले जब मुस्कराहट मेरे करीब रहा करती थी और मैं  इसी मुस्कान को बांटने की कोशिश किया करता था। यह वो उम्र थी जब किसी इंसान का दिल किसी तितली की तरह उड़ा करता है।

 ६ साल पहले

विंडो सीट पर वो आलथी पालथी मार के  किसी  किताब में अपनी ऑंखें चश्मे सहित गड़ाए हुए बैठी थी ,  उसके पास एक अंकलजी टाइप के भाईसाब बैठे थे जो उससे काफी दूरी पर थे।  मैने  अपना बैग ऊपर वाली सीट पर फेंका और उन दोनों के बीच में जा धंसा। वैसे भी मेरी मिडिल बर्थ थी तो लॉजिकली मैं सही बैठा था। थोड़ी देर तक मैं अपनी मुंडी इधर उधर करके, अपनी आँखें मसलते हुए उसको ध्यान से देखने की (ताड़ने की) कोशिश  करता रहा और सफल भी हुआ । 
अब मैं अगर यहाँ  उसके रंग रूप और उसके पहनावे की चर्चा न करू तो आप लोगो को "इमेजिन" करने में बड़ी ही दिक्कतें आएँगी, आपको तो आदत पड़  चुकी है अंग्रेजी किताबें पढ़ पढ़ के, जब तक पूरा सीन "डिस्क्राईब" न करो तब तक आपको "इंटरेस्ट" आता ही नहीं ।  तो लीजिये सुनिए उसने चटख नीले कलर का टॉप पहना हुआ था , (राउंड नेक फुल्ली कवर्ड) जिसपर अंग्रेजी में कुछ लिखा था जो ठीक से  मैं पढ़ नहीं पाया (बिकॉज़ ऑफ़ ऑब्वियस रीज़न्स)  और एक सतरंगी सा ढीला ढाला  पायजामा पहना हुआ था। चेहरे की नक्काशी शायद खुद भगवान ने फ़ुरसत में  बैठ के करी थी। बाल उसके घुंगराले थे, जो ज्यादा लम्बे नहीं थे और खुले हुए थे और बार बार उसके चश्मे के आगे आ कर उसको परेशान कर रहे थे। चश्मे के अंदर बड़ी बड़ी गोल गोल आँखें थी जो किताब के पन्नो पर बड़ी तेज़ी से बाएं -दायें घूमे जा रही थी।  मन तो हो रहा था की अपने हाथो से ही उसकी लटो को उसी के कान के पीछे खोंस दू, परन्तु फिर जल्दी ही अहसास हो गया की मैं कौन हूँ, वो कौन है और हम कहाँ है। कईं बार आपको आपकी औकात बड़ी जल्दी और टाइम पर याद आ जाती है तो आप शरीफो की श्रेणी में आ जाते हो और अगर समय पर अपनी औकात याद न आये और कोई ओर याद दिलाये तो फिर आप  शरीफ नहीं रह जाते।

In short कहु तो जिंदगी में कभी किसी ट्रैन के स्लीपर कोच में ऐसी लड़की मैंने आज तक नहीं देखी थी जैसी वो थी, ऐसी लड़की के लिए हमारा एक मित्र "रुई की गुड़िया" की उपाधि दिया करता था, बस समझ लो रुई की गुड़िया जैसी ही थी वो। अब तो उसका चित्रण आपके मस्तिष्क में हो ही चूका होगा।



इससे कुछ ही देर पहले: 

मैं भागता दौड़ता हुआ प्लेटफॉर्म ६ पर खड़ी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के स्लीपर कोच S-5 में जैसे तैसे दाखिल हुआ ही सही की ट्रैन चल पड़ी, कुछ एकाध मिनट भी लेट होता तो या तो चलती ट्रैन में लटकना पड़ता या स्टेशन पर ही लटका रहता। मैं बैंगलोर से दिल्ली जा रहा हूँ, टिकिट मैने करवाया था जो वेटिंग २३ से खिसक के ४ पर आ गया था परन्तु  इसके आगे न बढ़ सका। और तत्काल में हमसे टिकिट आज तक बुक नहीं हुआ, IRCTC पर तत्काल में  टिकिट बुक करना बिलकुल वैसा है जैसे किसी स्वयंवर में राजकुमारी से ब्याहना या पहली ही बार में IIT के लिए चुन लिए जाना। मैं  वेटिंग टिकिट के साथ ही चढ़ गया और TTE का पीछा तब तक नहीं छोड़ा जब तक की उसने मुझे झुंझलाकर ही सही एक सीट दे दी। मेरी वेटिंग वाली टिकिट पर S6-10 लिख के एक गोला बनाया और ४७५ रुपये की एक रसीद फाड़ दी। ( एक्स्ट्रा रुपये भी लिए उसने बिना रसीद के जो मैं यहाँ आपको बताना नहीं चाहता, दिल्ली वाला हूँ न, भ्रष्टाचार ख़िलाफ़)

टिकिट में सीट कन्फर्म पाकर मुझे बिलकुल वैसा अहसास हुआ जैसे मैनेजमेंट कोटे में एक प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन मिलने पर हुआ था आज से ७ साल पहले।

मैं घूमता हुआ सीधा अपनी निर्धारित सीट पर पहुँचा तो अचानक से ट्रैन की बदबू एक अजीब सा सुकून देने वाली  खुशबू में बदल गयी।जिंदगी कुछ देर के लिए स्लो मोशन हो गयी। कम्पार्टमेंट की विंडो सीट पर वो आलथी पालथी मार के  किसी  किताब में अपनी ऑंखें चश्मे सहित गड़ाए हुए बैठी थी , उसके पास एक अंकलजी टाइप के भाई साब बैठे थे जो उससे काफी दूरी पर थे।  मैने  अपना बैग ऊपर वाली सीट पर फेंका और उन दोनों के बीच में जा धंसा। वैसे भी मेरी मिडिल बर्थ थी तो लॉजिकली मैं सही बैठा था। थोड़ी देर तक मैं अपनी मुंडी इधर उधर करके, अपनी आँखें मसलते हुए उसको ध्यान से देखने की (ताड़ने की) कोशिश  करता रहा और सफल भी हुआ।

नोवेम्बर का महीना था, शाम के ६ बज रहे थे और ट्रैन की खिड़की से अच्छी खासी ठंडी हवा आ रही थी, पर इन सब से बेखबर वो अपनी किताब को ऐसे पढ़े जा रही थी जैसे थोड़ी देर में TTE उसकी परीक्षा लेगा और वो  पास हो गयी तो उसका टिकिट अपग्रेड करके 1st AC कर देगा।
मैं भी इधर उधर देखता रहा और अपने मोबाइल से खेल करता बैठा रहा, इतने में खाने वाला आर्डर लेने आया तो पुरे कम्पार्टमेंट में मैं ही अभागा था जिसने ट्रैन के खाने का आर्डर दिया बाकी सब शायद अपना अपना खाना लेकर आये थे।
चलो, खाने वाले को देखकर ही सही, "रुई की गुड़िया" को याद तो आया की उसको भी भूख लग रही है। उसने अपने बैग में से डिब्बा निकाला और एक रोल किया हुआ पराठा लेकर खाने लगी, एक मिनट के लिए मेरी नाक, नज़र और दिमाग सिर्फ पराठे पर ही केंद्रित हो गए थे। खुशबू से मालूम पड़ रहा था की पराठे में आलू मटर की सब्जी और अचार का मसाला भरा हुआ था। उस पत्थर दिल ने "फॉर्मेलिटी" के लिए ही सही पर एक बार भी "ट्रैन एटिकेट्स" दिखाते हुए यह नहीं पूछा की "Would you like to Have it..?" . खैर जाने दो, मेरा भी शाही पनीर, दाल तड़का, जीरा राइस और तंदूरी रोटी आ चुके थे, हाँ हाँ वही ट्रैन वाला खाना जिसको मेने यह सब "इमॅजिन" करके जैसे तैसे खा लिया, बदले में मैंने भी किसी से नहीं पूछा "Would you like to have it..?.

रात के ९ बज चुके थे, ऊपर की बर्थ वाले अंकल ऊपर जाकर फ़ैल चुके थे, सामने भी अंकल आंटी जी चादर बिछा के, तकिये में हवा भर के गुड नाईट की तयारी कर चुके थे, सामने की मिडिल बर्थ उठाई जा चुकी थी और लगेज में चैन बाँधी जा चुकी थी। और इधर उसकी किताब अभी भी खत्म नहीं हुयी थी, भला कोई इतनी देर सतत कैसे पढ़ सकता है। इन सब के बीच मेरे फ़ोन की मैसेज बाजी चालू थी जो मैं रह रह कर "उससे" नज़रे चुराके किये जा रहा था ,
 ये मेसेज में अपनी छोटी बहन रिया को किये जा रहा था जो मेरी टांग खींचने में लगी थी।दर-असल हुआ ये की इस बार की छुट्टियों में घरवालो ने मेरे लिए कुछ ख़ास इंतेजाम करके रखा था। रिया उन्ही सब इंतजामो की पोल खोल रही थी। उसने मुझे बताया की कैसे मुझे बकरा बना कर शादी के लिए लड़की देखने ले जाया जायेगा।

यह उम्र कुछ ऐसी होती है की आदमी चाहता है की वो जिंदगी में कुछ तरक्की करे, कुछ नाम और बैंक-बैलेंस कमा ले, थोड़ा अपनी आज़ादी को खुलके जी ले और इसी समय घरवाले धर्मसंकट खड़ा कर देते है शादी जैसी बातें करके।

ठंडी बढ़ने लगी है, ट्रैन के पंखो को भी आराम दे दिया गया है और सारी खिड़कियों के शटर गिरा दिए है, सिवाए उसकी खिड़की के। उसने बहुत कोशिश करी खिड़की बंद करने की और फिर अंत में वो मकाम आ ही गया जिसका में बेसब्री से इन्तेजार कर रहा था।
                      -"can you please help me to shut this window ?"  उसने अपने गुलाब की पंखुड़ी जैसे होठो को पहली बार खोला और अपने मुख कमल से इतने सारे अंग्रेजी के शब्दो की अविरल धारा प्रवाहित कर दी की मुझे कुछ समझ नहीं आया। उसके अंग्रेजी शब्द मेरी समझ में बिलकुल नहीं आये इसलिए नहीं की मैं हिंदी माध्यम का विद्यार्थी रहा हूँ बलकि इस लिए की मुझे पहली बार "घिग्गी बंधना" मुहावरे का वास्तविक जीवन में अर्थ समझ आ रहा था। मैंने कुछ कहने के लिए मुँह खोला  किन्तु मेरे शब्द सरकारी अनुदान की तरह कहीं अटक  गए केवल मुँह  खुला रह गया। इससे पहले की मेरे खुले मुंह से लार टपकती उसने फिर कुछ कहा।

'एक्सक्यूज़ मी ? आप प्लीज् यह खिड़की बंद कर देंगे ?'
अबकी बार उसने थोड़ी जोर से बोला और हिंदी में भी बोला जो पूरा पूरा समझ में भी आया और मैंने हाँ में मुंडी हिला के खिड़की बंद करने का प्रयास किया, यह प्रयास मेने सनी देओल की  शैली में किया किन्तु KRK की शैली में असफल हुआ। आज ट्रैन की इस तुच्छ सी खिड़की ने जीवन का सबसे बड़ा पाठ पढ़ा दिया कि जिनके नसीब फूटे हो वो कितनी ही कोशिश कर ले उनसे न खिड़की बंद होनी है और न ही लड़की इम्प्रेस होनी है ।
दर-असल उस खिड़की की चिटकनी खराब थी जो लग ही नहीं रही थी सो काम ऐसे ही चलाना था।
अब हमारी बात शुरू होने को थी।

'let it be like that, let's enjoy AC in sleeper coach, आप को नींद आ रही हो तो बता दीजियेगा, सीट ऊपर कर लेना'  रुई की गुड़िया ने मेरी तरफ देख के कहा,  इस बार मेरे शब्द अटके नहीं और मैने कहा 'नहीं नहीं मुझे अभी नहीं सोना। वो क्या है की  जब तक की मैं  खुद सोना न चाहु, मुझे नींद नहीं आती, आपको सोना हो तो आप बता देना'
मैंने बड़ा ही अजीब और घटिया सा डाइलोग मारा था जिसका अहसास भी मुझे हो गया था।

'अरे वाह यह तो बड़ी अच्छी बात है की आप जब चाहो तब सो सकते है , It's great ability, you know ?'
मुझे समझ नहीं आया की तारीफ कर रही है या टांग खीच रही है , खैर जो भी हो मैंने हेहेहे हीही ही करके बात आयी गयी कर दीऔर बात आगे बढ़ाने के उद्देश्य से एक निहायती साधारण और गैरवाज़िब सवाल दाग दिया।

'आप दिल्ली जा रही हो ?'
"हाँ , और आप ?" (उसके मुँह से "आप" सुनके लग गया था की यह दिल्ली वाली तो नहीं है )
"मैं भी।"
"कुछ काम से या घर है आपका वहां ?" उसने यह सवाल पूछा जिसका जवाब ईमानदारी से दिया ही नहीं जा सकता था मैंने कहा की "हाँ दिल्ली में ही घर है मेरा, बस घरवालो से मिलने जा रहा हूँ, और आप ?"

"ओह्ह गुड, नहीं मैं तो यूँही फ्रेंड्स से मिलने जा रही हूँ और मेरी एक कज़िन भी रहती है वहां"

मैंने दिल्ली वाले टॉपिक को बदलने के लिए बैंगलोर का टॉपिक छेड़ा बिलकुल वैसे ही जैसे जॉब इंटरव्यू में आप कोशिश करते हो की  सवाल उसी टॉपिक के आसपास पूछे जाये जिस टॉपिक पर आप मुँह खोलकर फेंक सकते हो। मैंने पूछा की "बैंगलोर में आप क्या करती है ? आईटी में हो क्या ?"

"No no, I am not into IT, I am doing a course in journalism from Hyderabad, अभी छुट्टियों में बैंगलोर अपने घर गयी थी, अभी २ दिन दिल्ली में रहूंगी and then back to Hyderabad."

जब आपको कोई और प्रोफेशन का बंदा या बंदी मिल जाये तो आप अपने प्रोफेशन के बारे में सहूलियत से फेंक सकते हो ठीक वैसे ही जैसे नेता लोग अपने भाषणो में करते है।

कुछ देर हम यूँही एक दूसरे को अपने बारे में फेंकते रहे, कुछ रियलिटी तो कुछ फिक्शन और इतने में रात के १२ बज गए थे। अब मुझे जर्नलिज़्म की बातें स्कूल के लास्ट पीरियड वाले सब्जेक्ट जैसी लगने लगी थी परन्तु लास्ट लेक्चर में भी अगर टीचर इतनी खूबसूरत हो तो कौन कमबख्त चाहेगा की छुट्टी की घंटी बजे। लेकिन मेरी जिंदगी में ३ ही कमजोरियां है ,  खाना,सोना और लड़कियाँ और इनकी रेटिंग भी इसी क्रम में है। ज़ाहिर सी बात थी अब नींद आने को थी और मुझे सोने से कोई नहीं रोक सकता था। मैंने खिड़की बंद करने की एक और असफल कोशिश की। घर से निकलते वक़्त मैंने कुछ न्यूज़ पेपर्स अपने बैग में रखे थे यह सोच कर की अगर सीट न मिली तो कही भी यह पेपर्स बिछा के सो जाऊंगा। वही न्यूज़ पेपर्स काम आये और खिड़की को जैसे तैसे एयरटाइट पैक किया। लड़की के इम्प्रेस होने का तो पता नहीं पर खिड़की जरूर बंद हो गयी थी।

अभी मैंने अपनी मिडिल सीट उठा के सोने की तैयारी कर ली थी और अपनी "गुड नाईट" हो गयी थी। और वो भी अपने हिसाब से सो गयी थी।

सुबह उठे, गुड मॉर्निंग हुआ, चाय शाय  शेयरिंग हुयी और पूरा दिन गप्पे हांकने में और खाने पिने में बीत गया। हमने अपने नाम का आदान प्रदान भी किया। अगली सुबह गंतव्य याने दिल्ली के करीब पँहुच के जिंदगी में पहली बार लगा कि काश मंज़िल थोड़ी और दूर होती, काश के यह सफ़र यूँही उम्रभर चलता। खैर अब हम बिछड़ने को थे, उसकी आँखों को पढने की कोशिश कर ही रहा था की उसने गुड बाय बोल दिया और सरपट से भीड़ में न जाने कहाँ खो गयी।

मैं  भी अपने घर की और निकल गया। अजीब कीकश्मकश थी मुझे शादी के लिए लड़की देखने जाना था और में ट्रैन में ही उस अजनबी सी लड़की को दिल दे बैठा था , क्या यह वाकई में इश्क़ था या वो क्या कहते है अंग्रेजी में infatuation , समझ नहीं आ रहा था। वैसे जिस लड़की को देखने जाना था वो भी दिल्ली में नहीं कहीं और रहती है , यहाँ उसके मामा के यहाँ उसको बुलाया गया है।

अनमने मन से तैयार होकर निकल पड़ा पापा , मम्मी  और रिया के साथ लड़की देखने। रास्ते भर मुझे बस शिखा याने की ट्रैन वाली लड़की का ही ख़याल आता रहा।

लड़की वालो के यहाँ पहुँचे और लड़की के मामा मामी से सामना हुआ, कुछ देर मेरा इंटेरोगेशन करने के बाद उन्होंने आवाज़ लगायी शिखा बेटा  यहाँ आओ। और जैसे ही वो सामने आयी मेरे हलक से पानी सुख  गया, हाथ से रसगुल्ला छूट गया और न जाने कौन कौन से हार्मोन शरीर में मिक्स एंड मैच होके ऊधम मचाने लगे। जी हाँ, यह वही शिखा है जिसे हम ट्रैन में ही अपना दिल दे बैठे थे। उनका भी हाल कुछ ऐसा ही था।

बस फिर क्या था एक दो मुलाक़ातों में वो भी हम पर जां निसार कर बैठे और हमने शादी कर ली।


आज का दिन

शादी के ६ सालो में हम जिंदगी की आपाधापी में कहीं एक दूसरे से दूर से हो गए थे, काम का बोझ, शहर की दौड़ वाली दिनचर्या इंसानो को मशीन बना देती है। कईं दिनों के बाद, या सालो के बाद आज में शिखा को इतना गौर से देख रहा था, मुझे फिर से प्यार हो रहा था।  में शिखा से कितना कुछ कहना चाहता था -
शिखा, क्यों न हम एक कोशिश और करके देखे ? क्यों न हम फिर से प्यार में पड़ कर देखें ? क्यों न फिर से तुम "रुईं की गुड़िया" बन जाओ ? सब कुछ भुलाकर फिर से नयी शुरुआत करे ? खोल दो अपनी इन ज़ुल्फो को और मुझे सो जाने दो इनकी छाँव में, अपने नरम मुलायम हाथो से  छू कर मेरे इस पत्थर जैसे दिल को फिर धड़कना सीखा दो। प्लीज, एक बार फिर से अपनी कोमल मुस्कान से मेरे चेहरे पर मोती बिखरा दो। कितना कुछ माँगना चाहता हूँ तुमसे।






एकदम कोरी कल्पना को मैने पन्नो पर उतारने की एक छोटी कोशिश की है आशा है आपको पसंद आये। 

चित्र गूगल इमेज सर्च का परिणाम है , परंतु है बढ़िया।


Friday, 6 February 2015

फ़रवरी -रोमांटिक मंथ

फ़रवरी का महीना आमतौर पर बड़ा ही रोमांटिक महीना माना जाता है, आप मानो न मानो लड़कियाँ जरूर मानती है। और ख़ास बात यह है की इसी महीने में ज्यादातर "एडल्ट" और समझदार लोग अपनी समझदारी खोते है और शादी कर लेते है। माना जाता है की मौसम की खुशमिजाजी की वजह से इस महीने को "रोमांटिक मंथ" का ताज मिला है।
पश्चिमी सभ्यताओं की बात करे तो वेलेंटाईन डे भी फ़रवरी  महीने में इसीलिए मनाया जाता है क्योंकि इस समय मौसम बड़ा ही "प्रेमानुकूल" हो जाता है। हमारे देश के महान लॉजिकल लोगो ने तो यहाँ तक कह डाला है की १४ नोवेम्बर को बाल दिवस इसीलिए मनाया जाता है क्योंकि यह वेलेंटाईन डे के ठीक ९ महीने बाद पड़ता है।

आपमें से कईं सारे प्रेम-पंडित तो यह भी जानते होंगे की वेलेंटाईन डे से पहले पूरा वेलेंटाईन वीक मनाया जाता है। पुरे सप्ताह भर के दिवसों के नाम उन तमाम चीजो पर रखे गए है जो केवल लड़कियों को पसंद होती है।
जैसे रोज़ डे, प्रपोज़ डे, चॉकलेट डे, टैडी डे, प्रॉमिस डे, किस डे, हग दे  ओह्ह सॉरी "हग डे" इत्यादि। 

जनाब, अब तक की सारी फ़रवरी रोमांटिक रही होगी, परन्तु यह फ़रवरी तो कतई रोमांटिक नहीं है। २०१५ की फ़रवरी को शायद सबसे अनरोमांटिक महीना भी घोषित किया जा सकता है कुछ फेमिनिस्ट्स समर्थको के द्वारा। मेरा इशारा कुछ कुछ तो आप समझ गए होंगे। नहीं समझे तो सुनिए, लड़कियों को आमतौर पर २ चीजे सबसे ज्यादा इरिटेट करती है एक तो पॉलिटिक्स और दूसरा स्पोर्ट्स । और आजकल के लडको का रुझान स्पोर्ट्स के साथ साथ पॉलिटिक्स में भी बढ़ने लगा है। यहीं होता है "कनफ्लिक्ट ऑफ़ इंटरेस्ट"

अब आप समझे की फरवरी का महीना किस कदर अनरोमांटिक हो चला है। दिल्ली में चुनाव हो रहे है और तू-तड़ाक पुरे देश में हो रही है। स्वयं दिल्ली में BJP भर भर के AAP  को गालियां दे रही है तो AAP वाले भी ईंट का जवाब हथगोले से दे रहे है। कांग्रेस वालो को कोई भाव नहीं दे रहा तो वो जो मन में आये वो बके जा रहे है। सोशल मीडिया पर जो जंग चल रही है वहां भी अजय माकन की "विजिबिलिटी" उतनी ही है जितनी दिल्ली के कोहरे में किसी भी चीज की हो सकती है। 

दिल्ली के चुनाव खत्म होते ही क्रिकेट विश्वकप शुरू हो जायेगा, प्रेमी/प्रेमिकाओं के मिलन का तो कोई प्रश्न ही नहीं उठता यहाँ। वेलेंटाईन वीक की शुरुआत दिल्ली चुनावो से होगी और वेलेंटाईन डे आने तक प्री मैच /पोस्ट इलेक्शन एनालिसिस चलता रहेगा। ऐसे में आप सभी प्रेमी बंधुओ को सलाह दी जाती है की अपनी अपनी प्रेमिकाओं के साथ आदर से पेश आये, उन्हें किसी बात से ठेस न पहुचाये और हो सके तो उन्हें मायके / सहेली के घर भेज दे।

वैसे चलते चलते एक बात कहु, दिल्ली के चुनाव पुरे देश में इस कदर से ग़दर मचाये हुए है जैसे एक ही दिन में सलमान और शाहरुख़ की फिल्म रिलीज़ होने को है।  अब देखना यह है की किसकी बॉक्स ऑफिस रिपोर्ट दिल्ली का भविष्य तय करती है। ओह मैं तुषार कपूर को भूल ही गया वो भी अपनी फिल्म लेके आ रहा है उसी दिन।








Tuesday, 18 March 2014

शादी के बाद तुम बदल गए -२

शादी के बाद तुम बदल गए, इस जुमले पर एक बहुत ही हल्का सा ऑब्जरवेशन मेने अपने पुराने लेख में लिखा था, जो आपने पसंद किया था।

इसी कड़ी में "शादी के बाद तुम बदल गए" का दूसरा संस्करण आपके समक्ष प्रस्तुत है, यह लेख मूलतः मेरा लिखा गया नहीं है, और मूल लेखक का मुझे अता -पता भी नहीं है, मेने तो बस "रेडी तो ईट मील " में थोडा तड़का लगाने का प्रयास किया है, आशा है आपको पसंद आएगा। 


शादी के बाद हर इंसान बदलता है यह बात तो आपको समझ में आ ही गयी होगी, लोग आपके लिए बदल जायेंगे, आप लोगो के लिए बदल जायेंगे, यही नहीं आप अपनी बीवी या पति के लिए भी बदल जाओगे शादी के बाद, हम तो इंसान है बदलना हमारा स्वाभाव है लेकिन भगवान् का क्या ? 

अब आपको लेके चलता हूँ ऐसी ही एक मजेदार चर्चा में जहा आपको पता पड़ेगा कि शादी के बाद भगवान् भी कितना बदल गए, जी हाँ, यह चर्चा हो रही है स्वर्ग में भगवान् श्री कृष्ण और राधा रानी के बिच.

ऐसे ही घूमते घामते कृष्ण एकदम से राधा जी से टकरा गए एक दिन, देखते ही चोंक से गए, अब चौंकना तो स्वाभाविक है, आपकी शादी के हजारो साल बाद आप किसी दिन अपनी एक्स-प्रेमिका से टकरा जाओ तो आदमी शॉक में आ ही जायेगा, परन्तु यहाँ कृष्ण जी दिल ही दिल में खुश हुए और चौंकने का थोडा नाटक किया, खुश इसलिए हुए क्योंकि रुक्मिणी उनके साथ नहीं थी। कृष्ण कुछ कहते इसके पहले ही राधा जी बोली कैसे हो द्वारकाधीश ?


अब आप ही सोचिये अगर आप सालो बाद अपनी एक्स प्रेमिका से मिलो और वो आपको आपके ऑफिस में जो आपका पद है उससे सम्बोधित करे, मसलन कहे कि "कैसे हो मेनेजर साब ?" कैसा लगेगा आपको, जो कभी आपको आपके उपनाम से पुकारा करती थी, स्वीटहार्ट , जान , जानु इत्यादि और अचानक मेनेजर साब ?

यही हुआ भगवान् कृष्ण के साथ ,जो राधा उन्हें कान्हा कान्हा कह के बुलाती थी उसके मुख से द्वारकाधीश का संबोधन कृष्ण को भीतर तक घायल कर गया फिर भी किसी तरह अपने आप को संभाल लिया और बोले राधा से .........
मै तो तुम्हारे लिए आज भी कान्हा हूँ तुम तो द्वारकाधीश मत कहो! आओ बैठते है ....जलपान ग्रहण करते है कुछ मै अपनी कहता हूँ कुछ तुम अपनी कहो, और वो लोग जाके एक पेड़ कि छाँव में बैठ गए, अगर आप अपने जीवन से जोड़ के देखना चाहे तो जैसे आप किसी मॉल में "उनसे" मिले और कॉफी के लिए बैठ गए। 
सच कहूँ राधा जब जब भी तुम्हारी याद आती थी इन आँखों से आँसुओं की बुँदे निकल आती थी, दिल बड़ा ही बेचैन हो उठता था, लेकिन क्या करे शादी का धर्म रुक्मिणी के साथ निभाना ही था.
राधा ने भी एक जमके फ़िल्मी फटका मारा और  बोली,
मेरे साथ ऐसा कुछ नहीं हुआ ना तुम्हारी याद आई ना कोई आंसू बहा क्यूंकि हम तुम्हे कभी भूले ही कहाँ थे जो तुम याद आते, इन आँखों में सदा तुम रहते थे कहीं आँसुओं के साथ निकल ना जाओ इसलिए रोते भी नहीं थे, हम तो वैसे के वैसे ही है,  ज़रा सा भी नहीं बदले, आप ही बिलकुल बदल गए शादी के बाद.
कृष्णा अपने माथे पे हाथ रख के  बोले , 
अरे राधा तुम भी ?? सारी  दुनिया कहती है में शादी के बाद बदल गया, यंहा तक कि रुक्मिणी भी यही कहती है , तुम तो ऐसा मत कहो। 
बेचारे कृष्ण भी एकदम फ्रस्ट्रेट होके  बोले थे , लेकिन राधा तो राधा थी, एक तो लड़की और ऊपर से एक्स प्रेमिका, 
राधा बोली, नहीं द्वारकाधीश, 
तुम बहुत बदल गए हो, मानो या न मानो, तुम मेरे कान्हा नहीं रहे.आप  कितना बदल गए हो इसका इक आइना दिखाऊं आपको ? कुछ कडवे सच ,प्रश्न सुन पाओ तो सुनाऊ?
कृष्णा जी कुछ और कहते इसके पहले राधा जी ने टोका और आगे कहना शुरू किया, वैसे भी एक बार नारी कहना शुरू कर दे तो नर को चुप चाप खड़े रह के सुनना ही पड़ता है , बिलकुल डॉक्टर कि कड़वी दवाई कि तरह  हर बात निगलना पड़ती है
राधा ने कहना जरी रखा ,  
कभी सोचा इस तरक्की में तुम कितने पिछड़ गए यमुना के मीठे पानी से जिंदगी शुरू की और समुन्द्र के खारे पानी तक पहुच गए ?एक ऊँगली पर चलने वाले सुदर्शन चक्रपर भरोसा कर लिया और दसों उँगलियों पर चलने वाळी बांसुरी को भूल गए ? कान्हा जब तुम प्रेम से जुड़े थे तो ....जो ऊँगली गोवर्धन पर्वत उठाकर लोगों को विनाश से बचाती थी प्रेम से अलग होने पर वही ऊँगली क्या क्या रंग दिखाने लगी सुदर्शन चक्र उठाकर विनाश के काम आने लगी.

तुम कहते हो कि तुम नहीं बदले लेकिन कान्हा और द्वारकाधीश में क्या फर्क होता है बताऊँ, कान्हा होते तो तुम सुदामा के घर जाते सुदामा तुम्हारे घर नहीं आता, तुम राजा हो गए हो, बड़े आदमी हो गए हो, तब एक ग्वाले हुआ करते थे। 
अब तक राधा फुल मूड में आ चुकी थी, कान्हा भी समझ गए थे कि अब पार पाना अपने बस का ना है

राधा ने बिना साँस लिए बोलना ज़ारी रखा 
युद्ध में और प्रेम में यही तो फर्क होता है युद्ध में आप मिटाकर जीतते हैं और प्रेम में आप मिटकर जीतते हैं कान्हा,  प्रेम में डूबा हुआ आदमी दुखी तो रह सकता है पर किसी को दुःख नहीं देता

राधा वाकई में कान्हा कि सच्ची प्रेमिका थी, कान्हा कि हर गतिविधि पर नजर रखे हुए थी, कान्हा के हर एक एक्शन को राधा ने करीब से देखा था, हो सकता जैसे आप भी अपने एक्स पार्टनर कि फेसबुक प्रोफाइल को रेगुलरली चेक करते हो, मन ही मन उसके हर मूव को रिकॉर्ड करते हो, हो सकता है न ? मतलब में ये नहीं कह रहा कि ऐसा होता ही है, हो सकता है, सम्भावना है। 
तो राधा को भी कान्हा कि पूरी जानकारी थी, उसने आज सोच लिया था कि साबित करना ही है कि कान्हा शादी के बाद कितना बदल गया है , राधा आगे बोली 
आप तो कई कलाओं के स्वामी हो स्वप्न दूर द्रष्टा हो गीता जैसे ग्रन्थ के दाता हो पर आपने क्या निर्णय किया अपनी पूरी सेना कौरवों को सौंप दी? और अपने आपको पांडवों के साथ कर लिया सेना तो आपकी प्रजा थी राजा तो पालक होता है उसका रक्षक होता है, आप जैसा महा ज्ञानी उस रथ को चला रहा था जिस पर बैठा अर्जुन आपकी प्रजा को ही मार रहा था अपनी प्रजा को मरते देख आपमें करूणा नहीं जगी ?
 क्यूंकि आप प्रेम से शून्य हो चुके थे, आप बदल चुके थे मान लो कान्हा कि इंसान हो या भगवान्, शादी के बाद हर कोई बदल जाता है। 
कान्हा कि बारी आयी, अबकी कान्हा बोले, 
मान गया राधा कि में बहुत बदल गया हूँ, लेकिंन क्या करे काम काज का बोझ, और शादी के बाद घर गृहस्थी कि जिम्मेदारी में कोई भी अपने आप को बदल ही लेता है, बदलना ही पड़ता है, जिंदगी में आगे बढ़ना ही पड़ता है, अब इसमें मेरा क्या कसूर ?
राधा ठहाके लगा के हंसी और बोली, वो तो सब ठीक है, पर एक बात बताती हूँ, प्रेम से कभी दूर मत रहो, हो सके तो उसी से शादी करो  जिससे प्रेम करते हो, वोही काम करो जिसमे आनंद आता हो, बस जिम्मेदारी निभाने के लिए किया गया काम और प्रेम ये दुनिया याद नहीं रखती।
कान्हा ने माथे पे बल देकर कहा, में कुछ समझा नहीं राधा, 
तब राधा ने अपना लास्ट बट नोट दी लीस्ट वाला मास्टर डायलॉग मारा, और जो बात राधा ने कही उसके बाद आप भी विचार करने को मजबूर हो जायेंगे ……………राधा ने अपनी अंतिम बात कुछ यू रखी
मतलब यह है कान्हा कि आज भी धरती पर जाकर देखो अपनी द्वारकाधीश वाळी छवि को ढूंढते रह जाओगे,  हर मंदिर में मेरे साथ ही खड़े नजर आओगे आज भी मै मानती हूँ लोग गीता के ज्ञान की बात करते हैं उनके महत्व की बात करते है मगर धरती के लोग युद्ध वाले द्वारकाधीश पर नहीं प्रेम वाले कान्हा पर भरोसा करते हैं गीता में मेरा दूर दूर तक नाम भी नहीं है पर आज भी लोग उसके समापन पर " राधे राधे" करते है"

विचार कीजियेगा कि शादी के बाद बदल जाने के तर्क वितर्क में भगवान् भी जीत न पाये तो क्या आप जीत पाएंगे ??

Saturday, 25 January 2014

पत्नियां ............. तब और अब

डिस्क्लेमर : इस लेख के पात्र, घटनाये, और सन्दर्भ काल्पनिक भी हो सकते है(जिसके चान्सेस कम है ), और यह लेख लिखते समय किसी भी पशु के साथ कोई  दुर्व्यवहार नहीं किया गया है means no animal is hurt during writing of this article . और यह लेख सम्पूर्णतः एक पति के दृष्टि से लिखा गया है तो कोई नारी जो पत्नी भी है, कृपया आगे न पढ़े।

पत्नियां ............. तब और अब 

पत्नी, बीवी,  अर्धांगिनी, जीवनसंगिनी, वाइफ या बेग़म , ऊपर  वाले कि इस बेहतरीन रचना पर कई बड़े धुरंधरो ने बड़ी बड़ी बातें कही, लिखी, गायी , और सही भी है।
पत्नियों पर लिखी सारी रचनाओ को संकलित किया जाये तो इससे बड़ा महा-काव्य कुछ न होगा, मेने भी सोचा कि इस ऐतिहासिक विषय पर चोरी छुपे कुछ लिखा जाये(चोरी छुपे किसलिए, यह आप समझ ही गए होंगे).

जैसा कि मेरे लेख के  विषय  से ही समझ आता है कि में यहाँ  भिन्न काल खंडो कि पत्नियों कि तुलना करने कि जुर्रत करने जा रहा हूँ।
अगर हम पुरातन युग कि बात करे तो रजा-महाराजाओ के ज़माने में पत्नियां आज कि पत्नियों कि तुलना में बिलकुल अलग हुआ करती थी, उनकी तुलना हम आधुनिक पत्नियों से नहीं कर सकते, तब कोई राजा या सेनापति कही लड़ाई को जाते तो पत्नियों को मालूम होता था कि या तो हार के मूह काला करा के आयेंगे या जीत के किसी के साथ मूह काला करके आयेंगे। तब के राजा लोग तो जितनी बार युद्ध जीत के आते २-४ नयी रानियां साथ ले आते, अब आज के जमाने में यह कहा सम्भव है इसलिए मध्यकालीन युग कि पत्नियों को प्रणाम करके हम आगे बढ़ते है।

आगे बढ़ने से पहले एक बात  बता दू कि पत्नियां किसी कि भी हो , किसी भी कालखंड या देश कि हो सबमे एक बात कॉमन होती है , और वो है पति पे शक करना।  जी हाँ दोस्तों , दुनियां भर कि पत्नियां खाना, टीवी देखना, घूमना फिरना और यहाँ तक कि शौपिंग करना भी छोड़ सकती है पर अपने पति पर और किसी दूसरी औरत पर शक कि निगाह से देखना नहीं छोड़ सकती।



आईये तुलना करते है आज से १५ -२० साल पहले कि पत्नियों कि  आज कि पत्नियों से , तब कि बात थोड़ी अलग हुआ करती थी, तब पत्नियां ज्यादातर घरेलु हुआ करती थी, घरेलु से तात्पर्य है कि होम मेकर्स हुआ करती थी,  इसलिए ज्यादातर समय घर पर या मोहल्ले में अड़ौस पड़ौस कि औरतो के बिच ही गुजारना पसंद किया करती थी।  उस समय टीवी पर इतने सारे चेनल्स कि भरमार भी न थी और न ही इतने सारे "एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स" वाले सिरिअल्स आते थे फिर भी बीवियां अपने शक का चूरन ढूंढ ही लेती थी , कहा से मिलता था ये चूरन ?? यह बात जानने के लिए चलते है श्रीमती मेहता के  यहाँ , श्रीमति मेहता जब भी अपने पति के कपडे धोती है या धोबी को देने के लिए निकालती है तो एक एक शर्ट को किसी प्रशिक्षित स्निफर कि भांति सूंघती है , भाई जब शर्ट मैला है तो धोने में देना ही है, सूंघना क्यों? रिसर्च करने पर पता पड़ा कि पत्नियां(इन्क्लुडिंग मिसेज़ मेहता) सूंघ कर देखती थी कि पति कि शर्ट में से कही किसी महिला परफ्यूम कि खुशबू तो नहीं आ रही या कही किसी कपडे में कोई लम्बा बाल या लिपस्टिक के निशाँन तो नहीं । तो आप समझे उस ज़माने कि पत्नियां शर्ट सूंघ कर अपने लिए "शक" का चूरन तलाशती थी, यही नहीं फिर अगर थोडा समय मिला तो पड़ौस में श्रीमती शर्मा के यहाँ गपशप में हिस्सा लिया जाता , उस गपशप में मोहल्ले या बिल्डिंग कि सारी सभ्य महिलाएं इकट्ठी होती और जो महिला किसी कारण से न आ पाती तो वो बेचारी ,आयी हुयी सारी महिलाऒ कि चर्चा का विषय बनती।
वैसे  क्या चर्चा होती है श्रीमती शर्मा कि महफ़िल में ? जानने के लिए चलते है ऐसी ही एक महफ़िल में। ………

श्रीमती शर्मा:  सुना तूने वो शीला है न , अरे वोही बी विंग में दूसरे माले वाली, जो बड़ी स्टाइलिश ड्रेसेस पहनती है , वो अपने मिस्टर खन्ना के ऑफिस में ही जॉब करती है, कई बार मिस्टर खन्ना के साथ ही आती जाती है, मिसेज़ खन्ना को थोडा ध्यान देना चाहिए।

ओफ्फ्फहो ---------

ऐसी बातें तो  उस समय कि पत्नियों के लिए दिमाग में रखे हुए कच्चे माल  में  भरपूर मात्रा में तड़का लगाने के लिए काफी होती थी, शीला जैसी स्टाइलिश औरते मेरे पति के ऑफिस में भी तो जॉब करती होगी , और वो उस दिन रात को कितनी देर से भी आये थे घर , सन्डे को भी कभी कभी ऑफिस जाते है , हाय कोई भला सन्डे को काम करता है क्या ? और भी न जाने कितनी घटनाओ को सीधे अपनी "शक" कि निगाहो से देखना शुरू कर देती थी उस समय कि पत्नियां।  वैसे भी पुरानी छोटी छोटी घटनाओ के  टुकड़ो  कि HD रिकॉर्डिंग महिलाओ के दिमाग कि "हार्ड ड्राइव " के किसी फोल्डर में हमेशा सुरक्षित रहती है.

अब बात करते है आज २१वी  शताब्दी कि पत्नियों कि, आज इनके पास समय ही नहीं है फिजूल कि चर्चाओ का, क्योंकि आज  कि पत्नियां ज्यादातर काम  -काजी किसम कि होती है, सुबह उठते से दफतर को जाती है शाम को आके थक हार के खाना खाके सो जाती है, फिर भी "शक का चूरन" इन्हे भी मिल ही जाता है , वो भला कैसे ?
अब यह कपडे तो नहीं धोती अपने पति के जो कि उनको सूंघ के देखे और कोई "सुराग" हाथ लग जाये, ना ही इतना समय कि यह जान पाये कि पड़ौस में मिसेज़ शर्मा का घर है या मिसेज़ देशपांडे का, फिर भी मेरे प्यारे दोस्तों इन्हे इनके शक के कीड़े के लिए खुराक मिल ही जाती है।
आज टीवी पर इतने चैनल्स कि भरमार है कि उसमे दिखाए गए किसी भी सिरिअल को अपनी निजी जिंदगी से जोड़ने में इन्हे ज्यादा वक़्त नहीं लगता , और सिरिअल भी कैसे कैसे , "इमोशनल अत्याचार" जिसमे शो का सूत्रधार पूरी कोशिश करता है कि बने बनाये रिश्तो में किसी तरह दरार पड़  जाये  , या "बालिका वधु" जिसमे नायक को पता ही नहीं होता कि वो प्यार किससे करता है और शादी किस से करना चाहता है या "क्राइम पेट्रोल दस्तक" जहा अनूप सोनी हर नारी को यह अहसास दिलाता है कि आप एक अबला नारी हो, सावधान रहना और किसी से नहीं तो अपने पति से ही , रही सही कसर "सनसनी" पूरी कर देता है , "ध्यान से देखिये अपने पति को , कही वो आप से चीटिंग तो नहीं कर रहा". और भी बहुत सारे ऐसे शोज़ है जिनके बारे में लिखने बैठूंगा तो २-४ भागो में यह लेख पूरा होगा, बहरहाल आप समझ गए होंगे कि हमारे घर में रखा टीवी नामक डब्बा   पत्नियों  के "चूरन" का  कितना बड़ा जरिया है।

अब बात करते है आज के ज़माने के सबसे बड़े औजार कि , जो कि पत्नियों के दीमागी शक के कीड़ो कि खुराक का  पूरा का पूरा खज़ाना है , आप सही समझे में बात कर रहा हूँ मोबाइल कि, अब पत्नियों को आपके शर्ट, बैग, लैपटॉप या पर्स चेक करने कि कोई जरुरत नहीं है, बस दिन में २ बार आपका मोबाइल चेक कर लिया तो कुछ न कुछ तो मिल ही जाता है, किस्से आपने व्हाट्सप्प पे चैट कि , किसके FB PIC को लाइक किया , किसके कमेंट पर आपने :) :) स्माइली भेजा etc etc. और जब शक वाले कीड़ो को इतनी सारी खुराक मिलेगी तो सोचिये जरा कि कीड़े कितने बलवान होके अटैक करेंगे ?


इसलिए पति महोदय , ध्यान से देखिये ,आपके दुश्मन आपके घर में ही मौजूद है , कही ४० इंच  तो कही ५२ इंच कि साइज़ में , कही जेली बीन तो कही आइस-क्रीम सैंडविच के रूप में , सावधान रहिये अपने इन ज़ालिम दोस्तों से जो आपकी पीठ पीछे आपकी मासूम पत्नी को उसके "शक" कि खुराक मुहैया कराते है।



तो दोस्तों पत्नियां तो पत्नियां ही होती है, किसी भी ज़माने कि हो, किसी भी देश कि हो, शक के साथ साथ अपने पति को 24/7 प्यार भी करती है।

ओफ्फ्फ माफ़ कीजियेगा आज का पत्निपुराण यही खत्म करता हूँ, चोरी छुपे ज्यादा लिख नहीं पाउँगा, कीबोर्ड कि खट खट से मेरी पत्नी कही यह न समझ ले कि किसी के साथ चैटिंग कर रहा हूँ.

मेरे ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया और ऐसे ही आते रहिये , हौसला अफजाई करते रहिये, पढ़ते और पढ़ाते रहिये। जयहिन्द।



कार्टून: इन्टनेट से साभार




Monday, 11 November 2013

Wedding Invitation of an IT Employee

In one of my last posts I have shared the "Last Working day e-mail" of an IT employee, which you have appreciated, and it was real e-mail which was actually sent to top managers of organization.

Now since wedding season has to be started in a week or so, I would like to share with you a real wedding e-mail of an IT employee ( i.e mine). 

It's totally an original work and originally sent to my friends and colleagues,  you are free to use it although it is copyrighted  :) :)



--------------------Wedding Invitation E-mail of an IT Employee-------------------

Hi,


You may find this mail a bit long, like my courtship period...... 
but I insist, please read it completely J


After working in IT industry for almost 42 months I found that I have developed few qualities in myself…
such as....

1. Time management

2. Team work

3.How to say "Yes" to everything

4.Boss is always right

5.Stay quiet and concentrate on work

6.Be a good listener ( Listening only)

7.Accept all the negative things whatever come to your way even if you have given your 100%

8.            Commitment

9.            How to articulate a lie

and
10. Strong mindset of living in a stressed environment

If you notice carefully then you will find that all above qualities are essential to be a good husband,

(scroll up and read again if you do not believe)

so I think now I am prepared to take a plunge for this responsibility,

Those who are already inside the ring may warn me saying that married life has many pains, but trust me, celibacy has no pleasures.


Married life is a rollercoaster ride, and you cannot experience it’s thrill until you ride, I have seen those who are already on this rollercoaster, some are yelling, some are crying, some are vomiting but some are surely enjoying.

I have got a ticket for this roller coaster ride and I am ready to take a seat along with  my partner in this ride.

Those who are already there please bless & welcome us onboard and those who are standing outside and clapping, I wish you will get a ticket soon. J


Image Source: Internet 

Saturday, 12 January 2013

Ab to aa bhi jao....




तुम नहीं आते हो बस तुम्हारी याद चली आती है।
अनायास ही इन नयनो से अश्रुधारा बह जाती है।।
बागो में ना अब फूलो की महक है न पंछियों की चहक है।
लगता नहीं अब कोई गीत मधुर मुझे।
जीवन का हर पल लगता है दूभर मुझे।
आशाओ के बादल बुनता हर पल ये मन है।
तेरी एक झलक पाने को बेकल मेरे नयन है।
मद्धम पवन का हर एक झोंका याद तेरी दिलाता है।
तेरे चंचल स्पर्श का अनुभव मुझे कराता है।
आओ की फिर वसंत की आहट है, मन में कैसी यह हिचकिचाहट है।
आओ की मेरा जीवन महका दो, कुछ पल के लिए मुझे बहका दो।
बातो में तेरी कुछ यूँ खो जाऊ की जीवन भर के लिए बस तेरा होके  रह जाऊ। 
बस तेरा होके  रह जाऊ।।।।