Tuesday, 14 June 2016

पहली बारिश



बारिश की पहली बौछार, बिजली की चमकार, मिट्टी की सौंधी महक और पहला -पहला प्यार। अरे अरे आप तो रोमांटिक होने लगे , रुकिए तो सही। श्रृंगार रस  से भरी ये बातें अब जवानी में अच्छी लगती है किन्तु बचपन में तो इन सबके मायने अलग ही हुआ करते थे।

वैसे तो इस पहली बारिश के मायने धरती पर निवास करने वाली हर प्रजाति के हर उम्र, लिंग, और व्यवसाय के हिसाब से अलग अलग हो सकते है। परन्तु मैँ आज संक्षिप्त में बचपन की ही बात करूँगा।

जून का आधा महीना बीत जाने के बाद जैसे ही मौसम सुहाना होने लगता, बादलों का झुण्ड आवारागर्दी करते हुए बरसने को बेचैन होता, बिजलियाँ लूप-झूप करने लगती वैसे ही हमारे दिलो की धड़कने बढ़ने लगतीं थी। यहाँ धड़कनो का ताल्लुक कतई रोमांटिक भावनाओ से नहीं है।  ये पहली बारिश संकेत होती थी गर्मी की छुट्टियां ख़त्म होने का, ये कड़कती बिजलियाँ कहती थी बंद करो ये क्रिकेट और गरजते बादल संदेसा लाते थे की अब स्कूल शुरू होने को है,और इसीलिए तेज़ होती थी धड़कने।



हर इंसान को ईश्वर का वरदान होता है की जो चीज वो टाल नहीं सकता उसके साथ ताल-मेल बैठा ही लेता है। फिर चाहे वो शादी हो, नौकरी हो या स्कूल। इसी प्रकार छुट्टियों का खत्म होना, स्कूल का खुलना और पढ़ाई का शुरू होना वो घटनाएँ थी जिन्हे टाला नहीं जा सकता था। इसलिए इन सब के साथ ताल-मेल बैठाया जाता था इस लालच के साथ की अब सब कुछ नया नया होने को है। नयी क्लास, नयी किताबें, नया बस्ता ( स्कूल बैग) नयी यूनिफार्म और भी कईं चीजे।

तब मिट्टी की खुशबू से ज्यादा अच्छी लगती थी नयी किताबों की महक, जिस प्रकार पहली पहली बूंदे सुखी पड़ी जमीन को भिगोती थी उसी प्रकार नयी-नयी पेंसिल से कोरी कोरी नोटबुक पर नाम लिखा जाता था। 
नाम -> प्रितेश दुबे 
विषय -> हिंदी 
कक्षा ->४ थी 
 जैसे पहली बारिश धरती को धानी चुनर से ढँक देती थी उसी प्रकार हम अपनी किताबो को भूरे कवर से ढंका करते थे। स्कूल खुलने के समय की खरीदी किसी शादी ब्याह की शॉपिंग से कम न होती थी। घर का माहौल स्कूलमय हो जाया करता था। पापा किताबो पर कवर चढ़ाते और माँ यूनिफार्म की फिटिंग सही करती। और हम अपने नए बस्ते को ज़माने में व्यस्त रहते। 
और हाँ WWF के पहलवानो वाले, डिज़्नी के कार्टून वाले और क्रिकेटर्स के फोटो वाले स्टिकर्स का तो बोलना भूल ही गया। 

ऐसा नहीं है की पहली बारिश सिर्फ हमारी धड़कने तेज़ करती थी बल्कि पापा को भी मन ही मन परेशान करती थी। स्कूल खुलने पर हमारा नया बस्ता तो नयी किताबो-कॉपियों से भर जाता था परन्तु शायद उनका बस्ता (बटुआ)खाली हो जाया करता था। जो चीज टाली  नहीं जा सकती उसके साथ ताल-मेल बिठाना भी तो उन्होंने ही सिखाया था तो वो भी इस परिस्थिति से ताल-मेल बैठा ही लेते थे हर बार। 

बारिश तब भी आती थी, बारिश अब भी आती है। स्कूल तब भी खुलते थे, स्कूल अब भी खुलते है। पापाओं की जेब तब भी खाली होती थी और अब भी खाली होती है। सब कुछ वैसा का वैसा है सिवाए बचपन के। बचपन अब वैसा नहीं रहा।



Friday, 23 January 2015

केवल वयस्कों के लिए

नोट: यह लेख कोई चुनावी स्टंट नहीं है, न ही किसी प्रकार का कोई प्रलोभन है, वास्तव में यह लेख उन्ही पाठको के लिए है जो १८+ उम्र के है या वयस्क है। अगर आप १८ साल से कम उम्र के है तो कृपया आगे न पढ़े।
धन्यवाद। 

बात थोड़ी पुरानी है, तब की जब मैं खुद वयस्क नहीं था। मैं अपने गांव के शासकीय हिन्दी माध्यमिक विद्यालय की कक्षा ४ का विद्यार्थी था। कुल जमा १४ विद्यार्थियों की कक्षा जिनमे से मात्र ३ कन्यायें। जी हाँ Gender Ratio की बात करने वालो यही हाल रहे है हमारे विद्यालयीन जीवन के अंत तक। खैर उस पर बाद में चर्चा करेंगे, बात करते है मेरे विद्यालय की, हमारा विद्यालय बहुपयोगी हुआ करता था। पुरे गांव भर के उत्सव, जलसे और १३वे का नुक्ता भी हमारे विद्यालय परिसर में होता था। और जिस दिन भी ऐसा कोई कार्यक्रम होता तो उस दिन आधी छुट्टी तो मिलती ही साथ ही साथ दावत अलग से मिलती। इतना ही नहीं, रात होते होते विद्यालय का मैदान भैंस, बैल, गाय और बछड़ो से भर जाता था। आप लोग जिन विद्यालयों में पढ़े होंगे वहाँ शायद शनिवार को आपका हॉफ डे हुआ करता होगा, परन्तु हमारे यहाँ मंगल-अमंगल कार्यक्रम के अलावा हर मंगलवार को भी हॉफ डे हुआ करता था। ऐसा इसलिए नहीं की हमारे प्राचार्य जी हनुमान जी में अगाथ श्रद्धा रखते थे बलकि प्रति मंगलवार हमारे गांव का प्रसिध्द पशु हाट बाजार लगता था। हाट में हमारा विद्यालय प्रांगण फिर एक बार काली चमकीली, रंगीन सींगो वाली भैंसो से, अतरंगी मुर्गो से, गाय बैल बछड़ो से और बकरे बकरियों से भर जाया करता था।



इतना ही नहीं, विद्यालय का इतना सदुपयोग होने के बाद प्रति रविवार हमारा विद्यालय हमारे गांव का स्वास्थ्य केंद्र बन जाया करता था। गांव के लोगो को हर प्रकार की दुःख तकलीफ की दवा मुफ्त में बांटी जाती थी। यह बात और है की गांव वालो की कुछ तकलीफे ऐसी है जिसकी कोई दवा आज तक नहीं बनी। तमाम मुफ्त में बांटी जाने वाली दवाईयों के पैकेट अगर बच जाते तो प्राचार्य के कक्ष में रख दिए जाते थे, परन्तु उस रविवार को प्राचार्य के कक्ष की चाबियां न होने से सारा सामान हमारी कक्षा में ही रख दिया गया।

आज जिस सोमवार को हम Bloody Monday कहते है, उस समय वही सोमवार हमें बड़ा अच्छा लगा करता था। आमतौर पर विद्यालय जल्दी पहुंच कर अपना बैग अपनी कक्षा में पटक कर प्रार्थना से पहले हम लोग सितोलिया खेला करते थे। उस दिन भी हम जल्दी पहुंचे और जब अपनी कक्षा में गए तो वहां कल के बचे हुए पैकेट रखे हुए थे। सरकारी विद्यालयों में इतना भी बुरा नहीं पढ़ाते की चौथी कक्षा तक आते आते हमें पढ़ना न आये। उन पैकेट्स पर लिखा पढ़ा तो टीवी पर आने वाला विज्ञापन याद आया, जो समाचार के पहले और चित्रहार के बीच में आया करता था और जिज्ञासाएँ जागृत कर जाता था। जिज्ञासा एक ऐसा कीड़ा है जो तब तक कुलबुलाता है जब तक की हम उसका कोई इलाज न ढूंढ ले। वो दवाई के पैकेट्स कुछ इलाज करे न करे पर हमारी उस टीवी के विज्ञापन की जिज्ञासा का इलाज जरूर थे। हमने तुरंत वो पैकेट्स खोले, और जब उनके अंदर रखे छोटे छोटे पैकेट्स  खोले तो हमारी जिज्ञासा शांत होने की बजाये बढ़ गयी थी।

अब जिज्ञासा यह थी की आखिर बच्चो के खेलने की चीज के विज्ञापन में बच्चे क्यों नहीं थे  दो बड़े लोग "प्यार हुआ इकरार हुआ है, प्यार से फिर क्यों डरता है दिल" गाना क्यों गाते थे। हालांकि एक बात समझ में आ गयी थी की डीलक्स निरोध और कुछ नहीं बलकि गुलाबी गुब्बारे हुआ करते थे।