Thursday, 3 March 2016

कन्हैया की ज़मानत

  
हमारा देश आजकल एक अलग ही "संघर्ष" से जूझ रहा है। JNU के मसले को कोई हर दिन एक नया मोड़ दिया जाता है। इस सिलसिले में "सच" DSLR कैमरा की रॉ फाइल की तरह है जो सिर्फ फोटोग्राफर के पास है और हमारे सामने सिर्फ "Processed" फोटो ही आ रही है।  जिसको जैसी फोटो अच्छी लगे उसके लिए उसी प्रकार से "Process" की हुयी तस्वीर हाजिर कर दी जाती है। क्या पता २ साल बाद यूनिवर्सिटी का कोई कर्मचारी सेवानिवृत्त होने के बाद एक नया ही सच लेकर सामने आये। बहरहाल इस फैशन शो के शोस्टॉपर कन्हैया कुमार को दिल्ली हाईकोर्ट ने ज़मानत दे दी है।


किन्तु यह ज़मानत कुछ चेतावनी और मशवरों के साथ दी गयी है। मीडिया और सोशल मीडिया पर हर कोई ज़मानत का जिक्र कर रहा है किन्तु उसके ऊपर लगे * ( शर्ते लागू) का जिक्र कोई नहीं कर रहा है। कन्हैया की ज़मानत के कोर्ट के आदेश की एक प्रति हमारे हाथ भी लग गयी है तो हमने सोचा क्यों न हम आपके सामने कन्हैया की ज़मानत का विश्लेषण प्रस्तुत करें  in cut to cut style.

तो जनाब, कोर्ट के आदेश के मुताबिक,

"कन्हैया को ६ महीने की जमानत पर रिहा किया जाता है और उसके माँ बाप को मशवरा दिया जाता है कि  जल्द से जल्द कन्हैया के लिए एक लड़की ढूंढ कर उसके साथ इसकी शादी करवा दी जाये। कन्हैया को अगले ३० दिनों के भीतर अपना फेसबुक रिलेशनशिप स्टेटस "कोम्प्लिकेटेड " से बदलकर "मैरिड To XYZ" करना है। अदालत चाहती है की एक महीने बाद कन्हैया के फेसबुक वाल पर JNU वाले वीडियो के बजाये हनीमून के पिक्चर्स पाये जाने चाहिए। अदालत बहुत ही बारीकी से कन्हैया का फेसबुक फॉलो कर रही है और उपरोक्त सभी मटेरियल फेसबुक या न्यूज़  में न पाये जाने पर  इसे अदालत की अवमानना करार दिया जायेगा "

अदालत के इस क्रांतिकारी फैसले को समझने के लिए जब हमने हाईकोर्ट  के एक वरिष्ठ वकील से बात की तो बेहद ही चौंकाने वाली बात सामने आई। आईये पढ़िए क्या कहा उन्होंने।

"देखिये, अदालत ने यह फैसला बहुत ही सोच समझ कर "बच्चे" के जीवन को संवारने के लिए दिया है। कन्हैया एक अच्छा स्टूडेंट बने न बने परन्तु उसे एक अच्छा पति तो झक मारकर बनना ही पड़ेगा।  अभी बहुत से लोगो को कन्हैया से शिकायत होगी की वो वन्दे के बाद मातरम का नारा नहीं लगाता है किन्तु शादी के बाद तो उसे I love you के बाद I love you too का नारा लगाना ही पड़ेगा। यही नहीं,  शादी के बाद कन्हैया को कश्मीर तो दूर  खुद की आज़ादी के बारे में  सोचना भी  महंगा पड़ेगा।  आज लाल-झंडे उठाने वाला हमारा ये दोस्त कल सब्जियों के झोले में लाल टमाटर उठाता हुआ मिलेगा। अफज़ल गुरु का शहादत दिवस भूल के हर साल अपना शहादत दिवस  मनायेगा शादी की सालगिरह के तौर पर। "

इतनी बात कहते कहते वकील साब की आँखें भर आयी और उन्होंने रजनीगंधा की पुड़िया फाड़कर अपने मुखकमल को समर्पित की और अब भरी आँखों के साथ भरे मुंह से बोलना शुरू किया। (पति है वो भी, अपनी छोटी से दुनिया को कदमो में लाने के लिए रजनीगंधा का नाकामयाब सहारा ले रहा है ) इससे पहले की वो गुटखे को देखकर चर्चा को बजट की और मोड़े हमने कहा आप कन्हैया पर बोलना जारी रखे।

उन्होंने आगे कहा

"देखिये मेरी नजरो में तो अदालत ने उसे एक तरह से जमानत देने के बजाय उम्रकैद का फैसला सुनाया है।  दर-असल अदालत ने त्रेतायुग के कन्हैया के केस का संज्ञान लेते हुए यह फैसला सुनाया। 

त्रेतायुग में राम थे, कृष्ण तो द्वापर में थे न सर ?

अरे हाँ तो राम को भी तो शादी के तुरंत बाद वनवास लगा था , भाई भावनाओ को समझो, GK टेस्ट तो मत करो। 

ओके ओके, आप बताईये आगे।

हाँ तो आप तो जानते ही होंगे की कैसे रुक्मणी से शादी करके द्वापर वाले कन्हैया की सारी लीलाओ पर विराम लग गया था। ऐसे ही हमारे इस JNU वाले कन्हैया का होगा। बेचारा कल तक देश की बर्बादी तक जंग लड़ने की बात कर रहा था और अब देखिएगा शादी के बाद उसकी इस वीरता पर  कैसे जंग लग जाएगी। पाकिस्तान जिंदाबाद की जगह पत्नी महान -जिंदाबाद जिंदाबाद के नारे लगाएगा । अब तक जो फेसबुक स्टेटस  क्रांतिकारी हुआ करते थे अब  'Checked into falaana-dhimkaa mall with wife', "Happy birthday dear wife" 'Watching bhutiyapa movie with wife' जैसे स्टेटस में बदल जायेंगे। सरकार बदलने की बात करने वाला हमारा वीर बहादुर 'कॉमरेड' अब टीवी का चैनल भी नहीं बदल पायेगा। में तो कहता हूँ की अदालत ने लाल सलाम को लाल बिंदी से दबा दिया है।  और.............."


"यूँही तुम मुझसे बात करती हो , या कोई प्यार का इरादा है .........."

इतनी ही गंभीर बातें हो पायी थी हमारी कि अचानक से वकील साब की बीवी का फ़ोन आ गया और यह ऊपर उनके फ़ोन की रिंगटोन थी। वकील साब को अचानक किसी "जरूरी काम" से जल्दी निकलना पड़ा। किन्तु उन्होंने बहुत ही सरल भाषा में अदालत के फैसले की व्याख्या करके हमें ज्ञान संपन्न बना दिया।


नोट: यह लेख एक व्यंग्य मात्र है और इसका उद्देश्य केवल हास्य पैदा करना है। हम भारत के नागरिक होने के नाते देश और इसकी न्याय व्यवस्था का भरपूर सम्मान करते है। और जी हाँ, शादी और पत्नियों का भी उतना ही सम्मान करते है। :) उपरोक्त लिखी सभी बाते काल्पनिक है।

Tuesday, 2 February 2016

व्रत की महिमा


आगे पढ़ने से पहले एक बात आप समझ लें की यह लेख पूर्णतः पुरुषो के और विशेषतः भावनात्मक रूप से बंदी (शादीशुदा) पुरुषो के दृष्टिकोण से लिखा गया है।

तो जनाब तन की शक्ति, मन की शक्ति से कहीं बढ़कर है व्रत की शक्ति।जी हाँ सही पढ़ा आपने। व्रत की शक्ति को नज़रअंदाज करना आपके लिए हानिकारक हो सकता है। विशेषकर जब कि आपकी अर्धांगिनी फलां -फलां व्रत करती है।



 शादी के बाद जीवन में आने वाले बड़े-बड़े परिवर्तनों के बीच हम छोटे-छोटे परिवर्तनों पर गौर ही नहीं कर पाते है। जैसे कि जब आप सिंगल थे तब आपके कार्यक्षेत्र पर (प्रोजेक्ट में, ऑफिस, महाविद्यालय इत्यादि जगह ) आपके आसपास हमेशा खूबसूरती छायी रहती थी। आँखें कभी तरसती नहीं थी, इसीलिए तो आप सदैव प्रसन्न रहते थे। किन्तु शादी के बाद हालात ऐसे होते है जैसे नसीब केजरीवाल (U-Turn) बन गया हो।आप को लगता है जैसे आपके साथ काम करने वालो में अचानक से डाइवर्सिटी (विभिन्न जेंडर ) ख़त्म हो गयी है। एकाएक आपको अहसास होता कि धीरे धीरे आपके साथ काम करने वालो की लिस्ट में सिर्फ पुरुष ही रह गए है।

 शादी से पहले जब भी आप कहीं कोई यात्रा करते थे ट्रैन से, बस से, वायुयान इत्यादि से तो भी १० में से ८ बार आपकी यात्रा मंगलमयी ही रहती थी । आपकी बोगी में, या आपकी पास वाली सीट पर कोई न कोई सुन्दर बाला(या बालाएँ ) जरूर बैठी मिलती थी। जिनके सिर्फ वहाँ बैठे होने भर से ही ऐसा लगता था जैसे किसी ने हवा में खुशबू घोल दी हो। जैसे किसी ने सुमधुर सरगम के राग छेड़ दिए हो। अगर मैं ग़लत कह रहा हूँ तो बताईये ? होता था कि नहीं ऐसा शादी से पहले ?और अब जब आप शादीशुदा है तो जो चीज १० में से ८ बार होती थी वो १ बार ही होती है और वो भी तब जब कि आप सपरिवार(सपत्नीक) यात्रा कर रहे होते है।

आपकी शादी से पहले आपके कईं दोस्त हुआ करते थे उनमे लड़कियाँ भी होती थी और लडके भी, कुँवारे भी होते थे और शादीशुदा भी। परन्तु जैसे ही आप शादीशुदा हुए आपके दोस्तों की लिस्ट छोटी ही नहीं हो जाती बल्कि क्लासिफाइड भी हो जाती है। कुछ शादीशुदा बेवड़े दोस्त ही गुप्त रूप से उस लिस्ट की परमानेंट आइटम होते है जिनको लिस्ट से डिलीट कर दिए जाने के बाद भी आप हर बार रिसाईकल बिन से रिस्टोर कर लाते हो।

कुलमिलाकर अगर कहा जाये तो शादी के बाद आप ही नहीं बदल जाते, आपका नसीब भी बदल जाता है।

ऊपर जितनी भी बातें लिखी है ऐसा सब कुछ होने के पीछे क्या कारण हो सकता है कभी आपने सोंचा है ? मैं बताता हूँ ,कभी आपने ग़ौर किया है कि भले ही आपकी पत्नी कभी कोई व्रत रेगुलर बेसिस पर न करे परन्तु साल में कोई न कोई एक व्रत पकड़ के कर ही लेती है। बस यही व्रत आपके इस नसीब के स्विच का कारण बनता है। ईश्वर और किसी की सुनें  न सुनें परन्तु व्रत करने वाली स्त्री की अवश्य सुनता है। आपने बचपन से सुना होगा कि बीवियों के व्रत से पतियों की उम्र बढ़ती है , बिलकुल सही सुना है। जब उनके व्रत के प्रभाव से आपको अपने शादीशुदा जीवन के बाहर विचरण (एक्स्ट्रा मैरिटल) करने का मौका ही नहीं मिलेगा, आपको किसी गलत राह पर जाने की छूट ही नहीं मिलेगी तो आप पथ से भटकेंगे ही नहीं। और जब आप पथ से भटकेंगे नहीं तो बीवी के प्रति वफादार रहेंगे, ईमानदार रहेंगे और जब तक बीवी के प्रति वफादार रहेंगे तब तक ज़िंदा रहेंगे और न केवल ज़िंदा बल्कि लम्बे समय तक ज़िंदा रहेंगे।

अगर आपकी शादी हो चुकी है तो आप शायद ऊपर लिखी सारी बक़वास समझ पाएं।परन्तु अगर आप अब तक सिंगल है और प्रसन्न है तो दुनिया के किसी कोने में कोई तो होगी जो आपकी प्रसन्नता भंग करने के लिए (आपसे विवाह करने के लिए) कोई न कोई व्रत कर ही रही होगी।

तो जनाब नारी की शक्ति तो अपरम्पार है ही, उनकी व्रत के शक्ति भी कम नहीं है।




चित्र गूगल इमेज सर्च के सौजन्य से






Monday, 6 April 2015

बीवी और शॉपिंग

यह लेख बीवियों के बारे में लिखा है तो इसका मतलब यह नहीं है की इसको सिर्फ शादीशुदा लोग ही पढ़ेंगे। आप उम्र और रिश्ते के किसी भी दौर से गुजर रहे हो, आपको पढ़ना चाहिए। खुद पे न बीती हो तो कम से कम  दुसरो के जख्मो से रू-ब-रू तो होना चाहिए।

बीवी और शॉपिंग का  रिश्ता बहुत गहरा है। कईं बातें और जुमले कहे गए है इस विषय पर और आगे भी कहे जायेंगे। बीवी को खुश रखने का सबसे सरल परन्तु महंगा उपाय है यह।
वैसे दुनिया के आधे से ज्यादा रईस पुरुष इसलिए खुश नहीं है कि वो रईस है, बल्कि इसलिए खुश है कि उनकी बीवियाँ सदैव शॉपिंग में व्यस्त रहती है और उनके पास फ़ालतू के झगड़ो के लिए समय ही नहीं होता।
हमारे यहाँ मिडिल क्लास पतियों की आफत यह है कि उनकी बीवियों को शॉपिंग का मौका तभी मिलता है जब घर में कुछ तीज-त्यौहार-शादी-ब्याह वगैरह हो। शॉपिंग करके भी उनका जी तब जल जाता है जब उनके जैसी same to same साड़ी या ड्रेस कोई और रिश्तेदार या पड़ौसी भी ले आये और आपके पड़ौसी की यह मासूम सी गलती आपकी जेब पर भारी पड़ती है।
दूसरी आफत इनकी यह है कि अमीरो की तरह सिर्फ कार्ड का भुगतान करके ये अपनी बीवी की शॉपिंग नहीं करवा सकते, इनको तो बीवी के साथ मॉल दर मॉल, दूकान दर दूकान भटकना पड़ता है उसकी पसंद की चीज के ख़ातिर। साड़ी पसंद आ जाये तो फिर मैचिंग की चप्पल के लिए भटको, चप्पल पसंद आयी तो चूड़ियाँ फिर नैल पेंट और न जाने क्या क्या।

इसी प्रकार मेरे एक दोस्त दीपू के साले की शादी के लिए उसको अपनी बीवी को शॉपिंग करवानी पड़ी थी। सारा दिन १४७ दुकानो पर १७६० साड़ियां देखने के बाद दीपू की बीवी को पहली दूकान पर जो दूसरे नंबर पर साडी दिखाई गयी थी वही साडी १४५ वी दूकान पर देखने के बाद पसंद आयी । इस बीच दीपू  ७ घंटो में कुल ८  किलोमीटर पैदल और २२ किलोमीटर गाडी चला चूका था । उसके बाद भी उसको इतनी ऊर्जा बचा के रखने की जरुरत थी कि वो अपनी बीवी को मैचिंग की चप्पल, बैग, ज्वैलरी, चूड़ी और कास्मेटिक भी पसंद करने तक उसके साथ एक मुस्कराहट लिए खड़ा रहे। ( अगर मुस्कान गायब हुयी तो ३ हफ़्ते  बाद भुगतान करना पड़ सकता है। ) 

बीवियों या यूँ कहे कि लड़कियों की यह अजीब बात होती है, इन्हे शॉपिंग की ख़ातिर कितना भी चला लो इन्हे थकान तो क्या माथे पे भी शिकन तक नहीं आएगी।  वहीं पति या आम पुरुष से आप जीम में चाहे जितना मर्जी हम्माली करवा लो आसानी से थकेगा नहीं परन्तु शॉपिंग करने के नाम पे दिमाग में पहले से फिक्स रहता है की किस दूकान से जाके क्या चीज उठा के लानी है और १० मिनट या ज्यादा से ज्यादा आधे घंटे में शॉपिंग ख़त्म। ज्यादा चलना, घूमना भटकना इनके बस की बात नहीं होती।

तो बात हो रही थी दीपू और उसकी बीवी की शॉपिंग की, सारा दिन बाज़ारो में भटकने के बाद, चप्पल को छोड़ कर बाकी सब मिल गया था। बीवी ने फ़ाइनली कहा थक गए है, घर जाके कौन खाना बनाएगा चलो यहीं से कुछ खाके घर चलते है, चप्पल फिर बाद में फ़ुरसत से देखेंगे।

घर पहुंचे तो दीपू की बैटरी एकदम डाउन हो चुकी थी उसने तुरंत सोने की इच्छा जताई। इसी बात पर बीवी भड़क कर बोली, अभी से क्यों सो रहे हो, जो ड्रेस और साड़ी लाये है वो ट्राय करके दिखाती हूँ। अभी फ़ोन या लैपटॉप लेके बैठोगे तो नींद नहीं आएगी।  दीपू ने भी "बला टालने" के लिए कहा, अच्छा ठीक है जल्दी से दिखाओ। फिर पत्नी जी पुरे साजो सामान के साथ सज-धज के एक एक करके अगले २ घंटे अपनी ड्रेस ट्राय कर कर के दिखाती है। "कैसी लग रही हूँ ?" बेचारा थका मांदा दीपू एनर्जी जुटा के हर बार कहता है "अच्छी है , "यह भी अच्छी है "
 

सिर्फ अच्छी है ?  इतनी मेहनत से मेने पसंद करी, पहन के दिखाई और आप कह रहे हो "अच्छी है " ?रहने दो आपको तो कोई इंटरेस्ट ही नहीं है, वहां बाजार में भी मेरी मदद करवाने के बजाये दूसरी दूसरी  लड़कियों को ही घूर रहे थे आप।जाने दो आपसे मुझे कोई बात नहीं करना।


धम्म से दरवाजा बंद होता है और बीवी एक करवट से पलंग का एक कोना पकड़ के सो जाती है।

और इसी के साथ होता है इति शॉपिंग पुराण।

देखा आपने "शॉपिंग" के नाम से सारे पतियों की हवा टाइट क्यों हो जाती है।





नोट: सारे पिक्स गूगल इमेज सर्च के माध्यम से

Thursday, 15 January 2015

जिंदगी के मासूम सवाल

सवाल जवाबो में उलझी इस जिंदगी में हम निरंतर जवाब देते हुए आगे बढ़ते रहते है। जिंदगी भी कभी चुप नहीं बैठती सवाल पे सवाल दागती ही रहती है। तभी तो परेशान होकर  गुलज़ार साहब ने लिखा "तुझसे नाराज नहीं जिंदगी, हैरान हूँ मैं, तेरे मासूम सवालो से परेशान हूँ मैं "

हमने जिंदगी के ऐसे ही कुछ "मासूम" से सवालो की एक सूचि संकलित की है जिनसे आपका पाला अवश्य ही पड़ा होगा। यह वो सवाल है जिनसे अरनब गोस्वामी भी एक बार तो परेशान हुआ ही होगा।




विद्यालय में पहली कक्षा से लेकर १२ वी कक्षा तक जो सवाल आपको बहुत तंग करते है उनमे से सबसे ऊपर है
 रिजल्ट कैसा रहा ? यह सवाल परीक्षा में पूछे गए सवालो से भी ज्यादा परेशान करता है। 
फिर 
क्या विषय ले रहे हो १०वी के बाद ? इस सवाल के जवाब में हम और हमारे घरवाले कभी एक मत नहीं होते। 

फिर जैसे तैसे १२वी हो जाये तो

कौन से कॉलेज में एडमिशन ले रहे हो ? (अगर कोई ढंग का कॉलेज मिल जाये तो ठीक नहीं तो अगले ३-४ साल भुगतो इस सवाल और इसके जवाब को )

फिर रिजल्ट कैसा रहा ? ( हर सेमेस्टर/साल, घूम के फिर यही सवाल आ ही जाता है )
अब कॉलेज जाना शुरू हो गया, और गलती से थोड़ा बन-ठन के निकले तो जो सवाल तैयार रहता है वो है 
किसी के साथ कोई चक्कर तो नहीं चल रहा ? ( यह सवाल डायरेक्ट नहीं पूछा जायेगा, घुमा फिरा के पूछेंगे)

कॉलेज खत्म होते होते अगला भयानक प्रश्न तैयार हो जाता है 
प्लेसमेंट हुआ ? कहाँ हुआ ? ( घरवालो से ज्यादा पड़ौसी चिंतित रहते है, जैसे उनके घर राशन नहीं आएगा अगर मेरा प्लेसमेंट नहीं हुआ तो )
हो गया तो नेक्स्ट क्वेश्चन 
कितना पैकेज है ? ( "बस इतना हमारे साढू के भतीजे का तो इतना है", अरे कितना भी हो कौनसा तुम्हारे अकाउंट में जाने है  )

फिर जैसे तैसे नौकरी मिल भी गयी तो हमारे ही अन्य दोस्त जो हमारी ही कंपनी में या अन्य कंपनी में काम कर रहे होते है, पूरा साल एक ही सवाल करेंगे,
अप्रैज़ल हुआ ? कितना हाईक मिला ?

और गलती से आप आय. टी. में हो तो तैयार रहो की साल में १२ बार यह सवाल भी आपको तंग करेगा की "फॉरेन-वॉरेन गए की नहीं एक बार भी "

फिर जिंदगी का सबसे ज्यादा दोहराने वाला और सबसे ज्यादा चिढ दिलाने वाला प्रश्न जो आपके जीवन से जुड़ा हर व्यक्ति आपसे पूछेगा
शादी कब कर रहे हो ?
शादी कब कर रहे हो ?
शादी कब कर रहे हो ? ( हर बार, हर कोई पूछेगा, जब तक की हो नहीं जाती,  इस सवाल पर तो पूरी किताब लिखी जा सकती है )

झल्ला के ही सही आप शादी कर लेते है और उसके तुरंत बाद, अगला यक्ष प्रश्न हाजिर हो जाता है
खुशखबरी कब दे रहे हो ? ( पहले साल )
खुशखबरी कब दे रहे हो ? ( दूसरे साल )
इस साल तो हो ही रहे हो न दो से तीन ( हर साल, जब तक की तीसरा आ नहीं जाता ) 
और जहाँ हमें एक खुशखबरी देने में १० बार सोचना पड़ता है वही हमारे नेता ४-४, ५-५ खुशखबरी देने को बाध्य कर रहे है। 

और खुशखबरी देने के २-३ साल बाद 
कौनसे स्कूल में डाल रहे हो ? (और गलती से आप पूछ लो की आप ही बताईये, तो तैयार रहिये रायचंदो से निपटने के लिए)

यह तो वो प्रश्न थे जो की दोस्त, रिश्तेदार, पड़ौसी, माँ-बाप, और भाई बहन आपसे पूछते रहते है। इनके तो आप जवाब भी दे सकते हो, तुरंत न सही थोड़ा वक्त लेकर। किन्तु कुछ सवाल ऐसे है जिनका जवाब आजतक नहीं खोजा जा सका है, और कोई जवाब देता भी है तो सीधे सीधे नहीं दे सकता। पहले तो सवाल ही कठीन और दूसरा यह सवाल पूछे जाते है आपकी धर्मपत्नी के द्वारा। याने की करेला वो भी नीम चढ़ा। 

तो दोस्तों पेश के जिंदगी के सबसे बड़े और खतरनाक २ सवाल जिन्होंने लगभग हर इंसान को एक बार तो परेशान किया ही होगा।

१. जानू, मैं सच में मोटी लगती हूँ ? ( सच कहो या झूठ या डिप्लोमेटिक हो जाओ, मेरे ख्याल से चुप रहना ज्यादा बेहतर है। )

और

२. आज खाने में क्या बनाना है ?(बाकी के सवाल तो कभी न कभी पीछा छोड़ ही देते है, परन्तु इस सवाल का हमारे जीवन से वैसा ही नाता है जैसा केजरीवाल का टीवी से, कांग्रेस का घोटालो से और मोदी का माइक से)



ऐसे ही आपके कोई पर्सनल सवाल हो जो इस सूचि में न हो और आपको लगता है की वो भी जीवन के सबसे जटिल प्रश्नो में से एक है तो कमेंट करिये। 

Friday, 26 December 2014

मॉल की सैर


देखो यार हम बड़े शहरों में रहने वाले लोग है, छुट्टी मिले तो उठ के रिश्तेदारो या दोस्तों के घर नी जा धमकते और ना ही शहर के किसी छोटे मोटे टॉकीज में या बगीचे के चहलकदमी करके आते है। भिया यार हम मॉल जाते है सीधा , क्या समझे ?
नी  समझे तो समझाते है, क्या है की छुट्टियों का मौसम चल रिया है और लोग बाग़  हिल स्टेशन, समुन्दर पे , या किसी रिसोर्ट में अपनी छुट्टियां मना रहे है और सब जगह के होटल मानो ओवरफ्लो हो रहे है। और तो और सडको पे भी जाम लगा पड़ा है तो जो जगह एक दिन में घूम के आ सको वहां भी नी जा सकते। यही बात इस क्रिसमस पे हमने अपनी बेग़म साहिबा को समझाई, जो वो समझ भी गयी(शायद)। लेकिन अब छुट्टी के दिन सारा दिन घर बैठ के बीवी की गालियां भी तो नहीं सुन सकते ना। हमने यह भी समझाया की अभी भीड़ भाड़ वाली जगहों पे नहीं जा सकते, आतंकवादियों का हमला हो सकता है इस लिए आराम से घर पे ही तुम दाल-बाटी बनाओ और अपन टीवी देखते है । इसके बाद तो जो हमला हुआ हम पे उससे तो आतंकवादियों का हमला ही हमें बेहतर लगा सो हम चुपचाप अपनी दुपहिया पे बेग़म को बिठा के निकल पड़े।

अब साब बड़े शहरों में घूमने के लिए ले देकर मॉल ही होता है जहाँ जाके आटे-दाल के भाव पता करके आ जाओ बस।  हम भी गए, क्रिसमस का दिन था, सड़के जाम शहर में भी थी, शायद आधा शहर हमारी तरह होटल का ओवरफ्लो देख के कही नहीं गया था। मॉल पहुंचे तो गेट के बाहर इतनी भीड़ थी मानो भीतर माता रानी का भण्डारा चल रहा हो। ऐसी भीड़ तो यार भिया हमने अपने इंदौर में १५ अगस्त और २६ जनवरी को चिड़ियाघर के बाहर ही देखी थी अब तक क्योंकि साल के इन २ दिनों को मुफ्त एंट्री होती है । जैसे तैसे हिम्मत करके हम अपनी दुपहिया और उसपे बैठी हमारी बेग़म को धकेलते हुए पार्किंग के गेट तक पहुंचे और २० रुपये का टिकिट कटा के तलघर में जगह ढूंढ के दुपहिए को टिका दिए।

मॉल के अंदर घुसे तो पाया की  जिधर देखो उधर लोगो की भीड़ ही भीड़, वाइफ बोली " लो देखो जब सारा शहर पहाड़ो पे, समुन्दरो पे घूमने गया तो यहाँ क्या ये भूत घूम रहे है ? " हमने थोड़ा झेम्प के कहा की भई शहर की पापुलेशन ही बहुत है क्या करे। आगे बढे तो देखते है की लोगो के हाथो में शॉपिंग की थैलियों की जगह कैमरा था, जिसे देखो वो अपने हाथो में कैमरा लिए क्लिक क्लिक किये जा रहा था, किसी के हाथो में अमेरिका से आने वाले दोस्तों से मंगाया हुआ सस्ता DSLR था तो किसी के हाथो में उन्ही अमरीकी रिटर्न दोस्तों से मंगाया हुआ  महंगा आईफोन था। इन सब कैमरामैन को देख के ऐसा लग रहा था की सब किसी जंगल में जानवरो के साथ अपनी फोटो खिंचाने आये हो या किसी दरिया किनारे बर्ड वाचिंग करने।  खैर सही भी था कुछ लोग सच में अपने लम्बे लम्बे ज़ूम कैमरों से "बर्ड वाचिंग" ही कर रहे थे। दिसंबर की ठण्ड और मॉल का AC भी किसी काम का न था, इतनी "हॉटनेस" बिखरी पड़ी थी मॉल में।

अपने हाथो में न तो शॉपिंग बैग था न कोई कैमरा, था तो सिर्फ अपनी इकलौती बीवी का हाथ और उसका प्यारा साथ, बस उसी को जकड़े हुए हम उस भीड़ भड़ाके में घूमते रहे। एस्कलेटर पर ऊपर चढ़ते हुए अचानक से एक अनाउंसमेंट हुआ " मि. रोहित आप जहाँ कहीं भी है तुरंत हेल्प डेस्क के पास आये यहाँ आपकी बीवी मिसेज़ नेहा आपका वैट कर रही है " और एक बार नहीं २-३ बार यह उद्घोषणा की गयी। हमें तो उस बेचारे रोहित पर तरस आने लगा की कही वो "बर्ड वाचिंग" के चक्कर में अपनी बीवी से भटक न गया हो, और भटक के अब मिल भी गया तो अब उसका घर पहुंच के क्या हाल होगा ? क्या वो सही सलामत घर पहुंच भी पायेगा, उसकी बीवी नेहा उसका क्या हाल करेगी ? यह सब सोच सोच के हमारे रोंगटे खड़े हो रहे थे और हमने अपनी बीवी का हाथ कस के पकड़ लिया। उसने एक प्यारी से स्माइल देते हुआ धीरे से कहा "हाउ रोमेंटिक …… आपने सरे आम मेरा हाथ यूँ पकड़ा", हमने भी वही स्माइल उन्हें लौटाते हुए हाँ में मुंडी हिला दी। उन्हें क्या पता की हमने इतना कस के हाथ पकड़ा इसके पीछे कोई रोमेंटिक ख्याल नहीं भयानक वाली फीलिंग थी। खैर आगे बढ़ते हुए दुकानो पे नज़र दौड़ाते हुए हलकी फुलकी बर्ड वाचिंग हमने भी कर ही ली।


इतना घूमने के बाद अब भूख सी लग पड़ी थी सो हमने सोचा क्यों न थोड़ा बहुत यहीं कुछ खा लें, हालांकि यहाँ मॉल का खाना होता तो अपने बजट से बाहर ही है पर फिर भी थोड़ा सा "चख" लेंगे। यही सोच के फ़ूड कोर्ट पहुंचे तो देखते है की यहाँ भी लोग ऐसे टूटे पड़े है दुकानो पे जैसे फोकट में बँट रहा हो, बैठने तक की जगह नहीं, जहाँ मिले वंही टिक के जो मिला वही ठूंसे जा रहे थे सभी। हमने "सब वे बर्गर" वाले के बाहर निचे बालकनी की रेलिंग की सीढ़ी पर लोगो को बर्गर खाते देखा तो इंदौर के अन्नपूर्णा और खजराना मंदिर की याद आ गयी, वहां भी ऐसे ही लोग सीढ़ियों पे बैठ के जो मिले वो खाते दिख जायेंगे। बस फर्क इतना सा है की वहाँ वो लोग जेब से एक फूटी कौड़ी नहीं निकालते और यहाँ यह लोग सैकड़ो रुपये देके खा रहे है।

थोड़ी ही देर में हम दोनो भी ऐसे ही रेलिंग की सीढ़ी पर बैठ कर अपना बर्गर खा रहे थे या यूँ कहे की "चख" रहे थे तभी एक और उद्घोषणा हुयी की "मिस्टर केशव रंजन आप जहाँ कहीं भी है तुरंत हेल्प डेस्क काउंटर पर आये, यहाँ आपकी वाइफ मिसेज़ कृति रंजन आपका वैट कर रही है"




नोट :  चित्र फ़ीनिक्स मॉल, पुणे के फेसबुक पेज से साभार लिए गए है। 


Thursday, 11 September 2014

अजन्मे का संकट


आज बड़े दिनों बाद ऐसा हुआ की में सूरज ढलने  से पहले ही ऑफिस का  काम निपटा के घर पहुँच गया। मुझे समय से पहले ही दरवाज़े पर खड़ा पाके मेरी बीवी बड़ी खुश हुयी।  जी साब हम आईटी वालो के जीवन का घडी से कोई लेना देना नहीं होता, कब उठे, कब तैयार हुए, कब ऑफिस पहुँचे और फिर कब घर लौटे, इन सब का समय से कोई वास्ता है ही नहीं ।

पत्नी के मुखमंडल पर मिश्रित सी भावभंगिमा देखकर मुझे आश्चर्य नहीं हुआ, परन्तु वो बड़ी खुश हो गयी।
पत्नियां भी अजीब होती है ( सभी को पता है , कोई नयी बात नहीं ) कभी कभी कोई बड़े से बड़ा काम भी करो या कोई बड़े से बड़ा उपहार भी लाके दो तब भी खुश नहीं होती, और कभी छोटी छोटी सी बातों में ही खुश हो जाती है , जैसे की अभी मुझे समय से पहले अपने सामने पाकर मेरी पत्नी खुश हुयी।

जल्दी से हाथ मुह धोकर मैंने आज बहुत दिनों के बाद शाम की(भी) चाय अपने हाथो से बनाकर अपनी अर्धांगिनी के साथ में बैठकर चुस्कियां मार मार के पी। चूँकि अभी शाम का समय था, बाहर का मौसम भी थोड़ा रोमेंटिक सा हो चला था, सो हमने सोचा क्यों का आज कॉलोनी के बड़े वाले गार्डन में "इवनिंग वॉक " पर चला जाये।  झटपट से तैयार होके हम निकल पड़े।

गार्डन में पहुंच के बड़ा अच्छा लगा, बड़े से गार्डन में  अलग अलग कोने में और बहुत सारे  और हर उम्र के बच्चे खेल रहे थे, दूसरी और कुछ बुजुर्ग अपना प्राणायाम कर रहे थे, एक कोने में कुछ महिलाएं निंदासन कर रही थी।  निंदासन क्या होता है यह तो आपको पता ही होगा।
गार्डन में हम लोग थोड़ा चहल-कदमी करते रहे , में आसपास के यह सारे नज़ारे देखता-सुनता रहा और साथ ही साथ बैकग्राऊँड में मेरी बीवी के  मुख कमलो से निकली वाणी मेरे कानो में बराबर पड़ती रही और में हूँ -हूँ करता रहा।

 कुछ देर चहल कदमी करने के पश्चात् हम लोग मौका देख कर एक खाली बेंच पर विराजमान हुए और मैंने अपनी हूँ- हूँ जारी रखी।  मेरे कानो पर तभी कुछ बुदबुदाने की ध्वनि पड़ी, पास वाली बेंच से ही यह ध्वनि आ रही थी, दर-असल 2 महिलाएं कुछ बातें कर रही थी, एक महिला गर्भवती जान पड़ती थी , और इस बार हमने अपनी पत्नी से आज्ञा लेके  उन दोनों  के संवाद को अपने कानो के ज़रिये दिमाग में रिकॉर्ड कर डाला। और अब वही संवाद सीधा यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ। सहूलियत के लिए मेने दोनों नायिकाओं को नाम दिए है उमा और रमा। जिसमे से रमा वो है जो कुछ दिनों में इस धरती पर नया जीवन लाने वाली है , जी हाँ मतलब गर्भवती है।

उमा : अरे रमा तू वो पाउडर ले रही है की नहीं ? जो मेने तुझे दिया था , वो पाउडर खायेगी तो बच्चा  गोरा चिट्टा और तंदुरुस्त पैदा होगा।
रमा : हाँ हाँ दीदी ले रही हूँ न , दिन में ३ बार लेती हूँ वो तो।

उमा : और तू ना सारे रियल्टी शो देखा कर, जिस से तेरा बालक भी टेलेंटेड पैदा होगा , आजकल सब बच्चे ऐसे ही पैदा होते है, पैदाईशी टैलेंटेड।
रमा: अरे हाँ, आप सही कह रहे हो , वो पास वाली बिल्डिंग में मोना को बेटी हुयी ना तो वो सूर के साथ ही रोती है , और लेटे  लेटे ही डांस भी करती है।  उस मोना ने जरूर सारे रियल्टी शो देखे होंगे, मैं भी सारे शो देखा करुँगी, मुझे भी अपने बच्चे को सुपर टैलेंटेड बनाना है।

उमा: और सुन, तेरे पति जब क्रिकेट देखे ना तो वो तू भी देखा कर, आजकल के बच्चे स्पोर्ट्स में भी आगे होते है, तुझे भी अपने बच्चे को   . . . . . . . . .
रमा: अरे दीदी , यह सब में पूरा ध्यान रखती  हूँ,पर इसके चक्कर में मेरे कई सीरियल्स मिस हो जाते है , पर क्या करे बाहर कॉम्पिटिशन इतना बढ़ गया है की मुझे अपने बच्चे के लिए यह सब करना पड़ता है।

इन महिलाओ की यह चर्चा यहीं समाप्त नहीं हुयी थी, की अचानक से मेरे कानो में एक नन्ही आवाज़ गूंजी, बचाओ बचाओ करके . . ..... सीधे रमा के गर्भ से, जी हाँ , इन दोनों की इतनी भयानक प्लानिंग सुन के बेचारा बच्चा चीख पड़ा , की बस करो, मेरे बाहर आने से पहले ही मुझ पर इतना प्रेशर डाल रहे हो तो  बाहर आने के बाद मेरा क्या हाल करोगे।




इतनी बातें सुन कर , में भी सोच में पड़ गया की बीते कुछ वर्षो में हमारे बालको पर माता पिता द्वारा उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए इतना दबाव डाला जा रहा है जिसके लिए कहते सुनते सब नजर आते है , परन्तु करता कोई कुछ नहीं। वैसे माता पिता भी इसी दबाव में रहते होंगे की कही उनका बच्चा बाकी बच्चो से किसी विधा में पिछड़ न जाये। परन्तु  इस होड़ में आज के बालको का बालपन कहीं नजर नहीं आता।

आप भी सोचियेगा , की कही यही "कम्पीटीशन " बच्चो को समय से पहले "बड़ा" तो नहीं कर रहा ?
मेरा इशारा तो आप समझ ही रहे होंगे।

में घड़ा हूँ कच्चा, पकने में समय लगने दो  
बड़ा होने की जल्दी नहीं है मुझे  
बच्चा हूँ अभी मैं, मुझे बच्चा रहने दो। । 



नोट : बच्चा और बालक शब्द पढ़ने सुनने में पु:लिंग लगते है , परन्तु हिंदी भाषा में यह शब्द उभयलिंगी (यूनिसेक्स) है। तो कृपया लेख के मूल से भटकने का प्रयास न करे !
चित्र इंटरनेट के सौजन्य से








Tuesday, 18 March 2014

शादी के बाद तुम बदल गए -२

शादी के बाद तुम बदल गए, इस जुमले पर एक बहुत ही हल्का सा ऑब्जरवेशन मेने अपने पुराने लेख में लिखा था, जो आपने पसंद किया था।

इसी कड़ी में "शादी के बाद तुम बदल गए" का दूसरा संस्करण आपके समक्ष प्रस्तुत है, यह लेख मूलतः मेरा लिखा गया नहीं है, और मूल लेखक का मुझे अता -पता भी नहीं है, मेने तो बस "रेडी तो ईट मील " में थोडा तड़का लगाने का प्रयास किया है, आशा है आपको पसंद आएगा। 


शादी के बाद हर इंसान बदलता है यह बात तो आपको समझ में आ ही गयी होगी, लोग आपके लिए बदल जायेंगे, आप लोगो के लिए बदल जायेंगे, यही नहीं आप अपनी बीवी या पति के लिए भी बदल जाओगे शादी के बाद, हम तो इंसान है बदलना हमारा स्वाभाव है लेकिन भगवान् का क्या ? 

अब आपको लेके चलता हूँ ऐसी ही एक मजेदार चर्चा में जहा आपको पता पड़ेगा कि शादी के बाद भगवान् भी कितना बदल गए, जी हाँ, यह चर्चा हो रही है स्वर्ग में भगवान् श्री कृष्ण और राधा रानी के बिच.

ऐसे ही घूमते घामते कृष्ण एकदम से राधा जी से टकरा गए एक दिन, देखते ही चोंक से गए, अब चौंकना तो स्वाभाविक है, आपकी शादी के हजारो साल बाद आप किसी दिन अपनी एक्स-प्रेमिका से टकरा जाओ तो आदमी शॉक में आ ही जायेगा, परन्तु यहाँ कृष्ण जी दिल ही दिल में खुश हुए और चौंकने का थोडा नाटक किया, खुश इसलिए हुए क्योंकि रुक्मिणी उनके साथ नहीं थी। कृष्ण कुछ कहते इसके पहले ही राधा जी बोली कैसे हो द्वारकाधीश ?


अब आप ही सोचिये अगर आप सालो बाद अपनी एक्स प्रेमिका से मिलो और वो आपको आपके ऑफिस में जो आपका पद है उससे सम्बोधित करे, मसलन कहे कि "कैसे हो मेनेजर साब ?" कैसा लगेगा आपको, जो कभी आपको आपके उपनाम से पुकारा करती थी, स्वीटहार्ट , जान , जानु इत्यादि और अचानक मेनेजर साब ?

यही हुआ भगवान् कृष्ण के साथ ,जो राधा उन्हें कान्हा कान्हा कह के बुलाती थी उसके मुख से द्वारकाधीश का संबोधन कृष्ण को भीतर तक घायल कर गया फिर भी किसी तरह अपने आप को संभाल लिया और बोले राधा से .........
मै तो तुम्हारे लिए आज भी कान्हा हूँ तुम तो द्वारकाधीश मत कहो! आओ बैठते है ....जलपान ग्रहण करते है कुछ मै अपनी कहता हूँ कुछ तुम अपनी कहो, और वो लोग जाके एक पेड़ कि छाँव में बैठ गए, अगर आप अपने जीवन से जोड़ के देखना चाहे तो जैसे आप किसी मॉल में "उनसे" मिले और कॉफी के लिए बैठ गए। 
सच कहूँ राधा जब जब भी तुम्हारी याद आती थी इन आँखों से आँसुओं की बुँदे निकल आती थी, दिल बड़ा ही बेचैन हो उठता था, लेकिन क्या करे शादी का धर्म रुक्मिणी के साथ निभाना ही था.
राधा ने भी एक जमके फ़िल्मी फटका मारा और  बोली,
मेरे साथ ऐसा कुछ नहीं हुआ ना तुम्हारी याद आई ना कोई आंसू बहा क्यूंकि हम तुम्हे कभी भूले ही कहाँ थे जो तुम याद आते, इन आँखों में सदा तुम रहते थे कहीं आँसुओं के साथ निकल ना जाओ इसलिए रोते भी नहीं थे, हम तो वैसे के वैसे ही है,  ज़रा सा भी नहीं बदले, आप ही बिलकुल बदल गए शादी के बाद.
कृष्णा अपने माथे पे हाथ रख के  बोले , 
अरे राधा तुम भी ?? सारी  दुनिया कहती है में शादी के बाद बदल गया, यंहा तक कि रुक्मिणी भी यही कहती है , तुम तो ऐसा मत कहो। 
बेचारे कृष्ण भी एकदम फ्रस्ट्रेट होके  बोले थे , लेकिन राधा तो राधा थी, एक तो लड़की और ऊपर से एक्स प्रेमिका, 
राधा बोली, नहीं द्वारकाधीश, 
तुम बहुत बदल गए हो, मानो या न मानो, तुम मेरे कान्हा नहीं रहे.आप  कितना बदल गए हो इसका इक आइना दिखाऊं आपको ? कुछ कडवे सच ,प्रश्न सुन पाओ तो सुनाऊ?
कृष्णा जी कुछ और कहते इसके पहले राधा जी ने टोका और आगे कहना शुरू किया, वैसे भी एक बार नारी कहना शुरू कर दे तो नर को चुप चाप खड़े रह के सुनना ही पड़ता है , बिलकुल डॉक्टर कि कड़वी दवाई कि तरह  हर बात निगलना पड़ती है
राधा ने कहना जरी रखा ,  
कभी सोचा इस तरक्की में तुम कितने पिछड़ गए यमुना के मीठे पानी से जिंदगी शुरू की और समुन्द्र के खारे पानी तक पहुच गए ?एक ऊँगली पर चलने वाले सुदर्शन चक्रपर भरोसा कर लिया और दसों उँगलियों पर चलने वाळी बांसुरी को भूल गए ? कान्हा जब तुम प्रेम से जुड़े थे तो ....जो ऊँगली गोवर्धन पर्वत उठाकर लोगों को विनाश से बचाती थी प्रेम से अलग होने पर वही ऊँगली क्या क्या रंग दिखाने लगी सुदर्शन चक्र उठाकर विनाश के काम आने लगी.

तुम कहते हो कि तुम नहीं बदले लेकिन कान्हा और द्वारकाधीश में क्या फर्क होता है बताऊँ, कान्हा होते तो तुम सुदामा के घर जाते सुदामा तुम्हारे घर नहीं आता, तुम राजा हो गए हो, बड़े आदमी हो गए हो, तब एक ग्वाले हुआ करते थे। 
अब तक राधा फुल मूड में आ चुकी थी, कान्हा भी समझ गए थे कि अब पार पाना अपने बस का ना है

राधा ने बिना साँस लिए बोलना ज़ारी रखा 
युद्ध में और प्रेम में यही तो फर्क होता है युद्ध में आप मिटाकर जीतते हैं और प्रेम में आप मिटकर जीतते हैं कान्हा,  प्रेम में डूबा हुआ आदमी दुखी तो रह सकता है पर किसी को दुःख नहीं देता

राधा वाकई में कान्हा कि सच्ची प्रेमिका थी, कान्हा कि हर गतिविधि पर नजर रखे हुए थी, कान्हा के हर एक एक्शन को राधा ने करीब से देखा था, हो सकता जैसे आप भी अपने एक्स पार्टनर कि फेसबुक प्रोफाइल को रेगुलरली चेक करते हो, मन ही मन उसके हर मूव को रिकॉर्ड करते हो, हो सकता है न ? मतलब में ये नहीं कह रहा कि ऐसा होता ही है, हो सकता है, सम्भावना है। 
तो राधा को भी कान्हा कि पूरी जानकारी थी, उसने आज सोच लिया था कि साबित करना ही है कि कान्हा शादी के बाद कितना बदल गया है , राधा आगे बोली 
आप तो कई कलाओं के स्वामी हो स्वप्न दूर द्रष्टा हो गीता जैसे ग्रन्थ के दाता हो पर आपने क्या निर्णय किया अपनी पूरी सेना कौरवों को सौंप दी? और अपने आपको पांडवों के साथ कर लिया सेना तो आपकी प्रजा थी राजा तो पालक होता है उसका रक्षक होता है, आप जैसा महा ज्ञानी उस रथ को चला रहा था जिस पर बैठा अर्जुन आपकी प्रजा को ही मार रहा था अपनी प्रजा को मरते देख आपमें करूणा नहीं जगी ?
 क्यूंकि आप प्रेम से शून्य हो चुके थे, आप बदल चुके थे मान लो कान्हा कि इंसान हो या भगवान्, शादी के बाद हर कोई बदल जाता है। 
कान्हा कि बारी आयी, अबकी कान्हा बोले, 
मान गया राधा कि में बहुत बदल गया हूँ, लेकिंन क्या करे काम काज का बोझ, और शादी के बाद घर गृहस्थी कि जिम्मेदारी में कोई भी अपने आप को बदल ही लेता है, बदलना ही पड़ता है, जिंदगी में आगे बढ़ना ही पड़ता है, अब इसमें मेरा क्या कसूर ?
राधा ठहाके लगा के हंसी और बोली, वो तो सब ठीक है, पर एक बात बताती हूँ, प्रेम से कभी दूर मत रहो, हो सके तो उसी से शादी करो  जिससे प्रेम करते हो, वोही काम करो जिसमे आनंद आता हो, बस जिम्मेदारी निभाने के लिए किया गया काम और प्रेम ये दुनिया याद नहीं रखती।
कान्हा ने माथे पे बल देकर कहा, में कुछ समझा नहीं राधा, 
तब राधा ने अपना लास्ट बट नोट दी लीस्ट वाला मास्टर डायलॉग मारा, और जो बात राधा ने कही उसके बाद आप भी विचार करने को मजबूर हो जायेंगे ……………राधा ने अपनी अंतिम बात कुछ यू रखी
मतलब यह है कान्हा कि आज भी धरती पर जाकर देखो अपनी द्वारकाधीश वाळी छवि को ढूंढते रह जाओगे,  हर मंदिर में मेरे साथ ही खड़े नजर आओगे आज भी मै मानती हूँ लोग गीता के ज्ञान की बात करते हैं उनके महत्व की बात करते है मगर धरती के लोग युद्ध वाले द्वारकाधीश पर नहीं प्रेम वाले कान्हा पर भरोसा करते हैं गीता में मेरा दूर दूर तक नाम भी नहीं है पर आज भी लोग उसके समापन पर " राधे राधे" करते है"

विचार कीजियेगा कि शादी के बाद बदल जाने के तर्क वितर्क में भगवान् भी जीत न पाये तो क्या आप जीत पाएंगे ??

Saturday, 25 January 2014

पत्नियां ............. तब और अब

डिस्क्लेमर : इस लेख के पात्र, घटनाये, और सन्दर्भ काल्पनिक भी हो सकते है(जिसके चान्सेस कम है ), और यह लेख लिखते समय किसी भी पशु के साथ कोई  दुर्व्यवहार नहीं किया गया है means no animal is hurt during writing of this article . और यह लेख सम्पूर्णतः एक पति के दृष्टि से लिखा गया है तो कोई नारी जो पत्नी भी है, कृपया आगे न पढ़े।

पत्नियां ............. तब और अब 

पत्नी, बीवी,  अर्धांगिनी, जीवनसंगिनी, वाइफ या बेग़म , ऊपर  वाले कि इस बेहतरीन रचना पर कई बड़े धुरंधरो ने बड़ी बड़ी बातें कही, लिखी, गायी , और सही भी है।
पत्नियों पर लिखी सारी रचनाओ को संकलित किया जाये तो इससे बड़ा महा-काव्य कुछ न होगा, मेने भी सोचा कि इस ऐतिहासिक विषय पर चोरी छुपे कुछ लिखा जाये(चोरी छुपे किसलिए, यह आप समझ ही गए होंगे).

जैसा कि मेरे लेख के  विषय  से ही समझ आता है कि में यहाँ  भिन्न काल खंडो कि पत्नियों कि तुलना करने कि जुर्रत करने जा रहा हूँ।
अगर हम पुरातन युग कि बात करे तो रजा-महाराजाओ के ज़माने में पत्नियां आज कि पत्नियों कि तुलना में बिलकुल अलग हुआ करती थी, उनकी तुलना हम आधुनिक पत्नियों से नहीं कर सकते, तब कोई राजा या सेनापति कही लड़ाई को जाते तो पत्नियों को मालूम होता था कि या तो हार के मूह काला करा के आयेंगे या जीत के किसी के साथ मूह काला करके आयेंगे। तब के राजा लोग तो जितनी बार युद्ध जीत के आते २-४ नयी रानियां साथ ले आते, अब आज के जमाने में यह कहा सम्भव है इसलिए मध्यकालीन युग कि पत्नियों को प्रणाम करके हम आगे बढ़ते है।

आगे बढ़ने से पहले एक बात  बता दू कि पत्नियां किसी कि भी हो , किसी भी कालखंड या देश कि हो सबमे एक बात कॉमन होती है , और वो है पति पे शक करना।  जी हाँ दोस्तों , दुनियां भर कि पत्नियां खाना, टीवी देखना, घूमना फिरना और यहाँ तक कि शौपिंग करना भी छोड़ सकती है पर अपने पति पर और किसी दूसरी औरत पर शक कि निगाह से देखना नहीं छोड़ सकती।



आईये तुलना करते है आज से १५ -२० साल पहले कि पत्नियों कि  आज कि पत्नियों से , तब कि बात थोड़ी अलग हुआ करती थी, तब पत्नियां ज्यादातर घरेलु हुआ करती थी, घरेलु से तात्पर्य है कि होम मेकर्स हुआ करती थी,  इसलिए ज्यादातर समय घर पर या मोहल्ले में अड़ौस पड़ौस कि औरतो के बिच ही गुजारना पसंद किया करती थी।  उस समय टीवी पर इतने सारे चेनल्स कि भरमार भी न थी और न ही इतने सारे "एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स" वाले सिरिअल्स आते थे फिर भी बीवियां अपने शक का चूरन ढूंढ ही लेती थी , कहा से मिलता था ये चूरन ?? यह बात जानने के लिए चलते है श्रीमती मेहता के  यहाँ , श्रीमति मेहता जब भी अपने पति के कपडे धोती है या धोबी को देने के लिए निकालती है तो एक एक शर्ट को किसी प्रशिक्षित स्निफर कि भांति सूंघती है , भाई जब शर्ट मैला है तो धोने में देना ही है, सूंघना क्यों? रिसर्च करने पर पता पड़ा कि पत्नियां(इन्क्लुडिंग मिसेज़ मेहता) सूंघ कर देखती थी कि पति कि शर्ट में से कही किसी महिला परफ्यूम कि खुशबू तो नहीं आ रही या कही किसी कपडे में कोई लम्बा बाल या लिपस्टिक के निशाँन तो नहीं । तो आप समझे उस ज़माने कि पत्नियां शर्ट सूंघ कर अपने लिए "शक" का चूरन तलाशती थी, यही नहीं फिर अगर थोडा समय मिला तो पड़ौस में श्रीमती शर्मा के यहाँ गपशप में हिस्सा लिया जाता , उस गपशप में मोहल्ले या बिल्डिंग कि सारी सभ्य महिलाएं इकट्ठी होती और जो महिला किसी कारण से न आ पाती तो वो बेचारी ,आयी हुयी सारी महिलाऒ कि चर्चा का विषय बनती।
वैसे  क्या चर्चा होती है श्रीमती शर्मा कि महफ़िल में ? जानने के लिए चलते है ऐसी ही एक महफ़िल में। ………

श्रीमती शर्मा:  सुना तूने वो शीला है न , अरे वोही बी विंग में दूसरे माले वाली, जो बड़ी स्टाइलिश ड्रेसेस पहनती है , वो अपने मिस्टर खन्ना के ऑफिस में ही जॉब करती है, कई बार मिस्टर खन्ना के साथ ही आती जाती है, मिसेज़ खन्ना को थोडा ध्यान देना चाहिए।

ओफ्फ्फहो ---------

ऐसी बातें तो  उस समय कि पत्नियों के लिए दिमाग में रखे हुए कच्चे माल  में  भरपूर मात्रा में तड़का लगाने के लिए काफी होती थी, शीला जैसी स्टाइलिश औरते मेरे पति के ऑफिस में भी तो जॉब करती होगी , और वो उस दिन रात को कितनी देर से भी आये थे घर , सन्डे को भी कभी कभी ऑफिस जाते है , हाय कोई भला सन्डे को काम करता है क्या ? और भी न जाने कितनी घटनाओ को सीधे अपनी "शक" कि निगाहो से देखना शुरू कर देती थी उस समय कि पत्नियां।  वैसे भी पुरानी छोटी छोटी घटनाओ के  टुकड़ो  कि HD रिकॉर्डिंग महिलाओ के दिमाग कि "हार्ड ड्राइव " के किसी फोल्डर में हमेशा सुरक्षित रहती है.

अब बात करते है आज २१वी  शताब्दी कि पत्नियों कि, आज इनके पास समय ही नहीं है फिजूल कि चर्चाओ का, क्योंकि आज  कि पत्नियां ज्यादातर काम  -काजी किसम कि होती है, सुबह उठते से दफतर को जाती है शाम को आके थक हार के खाना खाके सो जाती है, फिर भी "शक का चूरन" इन्हे भी मिल ही जाता है , वो भला कैसे ?
अब यह कपडे तो नहीं धोती अपने पति के जो कि उनको सूंघ के देखे और कोई "सुराग" हाथ लग जाये, ना ही इतना समय कि यह जान पाये कि पड़ौस में मिसेज़ शर्मा का घर है या मिसेज़ देशपांडे का, फिर भी मेरे प्यारे दोस्तों इन्हे इनके शक के कीड़े के लिए खुराक मिल ही जाती है।
आज टीवी पर इतने चैनल्स कि भरमार है कि उसमे दिखाए गए किसी भी सिरिअल को अपनी निजी जिंदगी से जोड़ने में इन्हे ज्यादा वक़्त नहीं लगता , और सिरिअल भी कैसे कैसे , "इमोशनल अत्याचार" जिसमे शो का सूत्रधार पूरी कोशिश करता है कि बने बनाये रिश्तो में किसी तरह दरार पड़  जाये  , या "बालिका वधु" जिसमे नायक को पता ही नहीं होता कि वो प्यार किससे करता है और शादी किस से करना चाहता है या "क्राइम पेट्रोल दस्तक" जहा अनूप सोनी हर नारी को यह अहसास दिलाता है कि आप एक अबला नारी हो, सावधान रहना और किसी से नहीं तो अपने पति से ही , रही सही कसर "सनसनी" पूरी कर देता है , "ध्यान से देखिये अपने पति को , कही वो आप से चीटिंग तो नहीं कर रहा". और भी बहुत सारे ऐसे शोज़ है जिनके बारे में लिखने बैठूंगा तो २-४ भागो में यह लेख पूरा होगा, बहरहाल आप समझ गए होंगे कि हमारे घर में रखा टीवी नामक डब्बा   पत्नियों  के "चूरन" का  कितना बड़ा जरिया है।

अब बात करते है आज के ज़माने के सबसे बड़े औजार कि , जो कि पत्नियों के दीमागी शक के कीड़ो कि खुराक का  पूरा का पूरा खज़ाना है , आप सही समझे में बात कर रहा हूँ मोबाइल कि, अब पत्नियों को आपके शर्ट, बैग, लैपटॉप या पर्स चेक करने कि कोई जरुरत नहीं है, बस दिन में २ बार आपका मोबाइल चेक कर लिया तो कुछ न कुछ तो मिल ही जाता है, किस्से आपने व्हाट्सप्प पे चैट कि , किसके FB PIC को लाइक किया , किसके कमेंट पर आपने :) :) स्माइली भेजा etc etc. और जब शक वाले कीड़ो को इतनी सारी खुराक मिलेगी तो सोचिये जरा कि कीड़े कितने बलवान होके अटैक करेंगे ?


इसलिए पति महोदय , ध्यान से देखिये ,आपके दुश्मन आपके घर में ही मौजूद है , कही ४० इंच  तो कही ५२ इंच कि साइज़ में , कही जेली बीन तो कही आइस-क्रीम सैंडविच के रूप में , सावधान रहिये अपने इन ज़ालिम दोस्तों से जो आपकी पीठ पीछे आपकी मासूम पत्नी को उसके "शक" कि खुराक मुहैया कराते है।



तो दोस्तों पत्नियां तो पत्नियां ही होती है, किसी भी ज़माने कि हो, किसी भी देश कि हो, शक के साथ साथ अपने पति को 24/7 प्यार भी करती है।

ओफ्फ्फ माफ़ कीजियेगा आज का पत्निपुराण यही खत्म करता हूँ, चोरी छुपे ज्यादा लिख नहीं पाउँगा, कीबोर्ड कि खट खट से मेरी पत्नी कही यह न समझ ले कि किसी के साथ चैटिंग कर रहा हूँ.

मेरे ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया और ऐसे ही आते रहिये , हौसला अफजाई करते रहिये, पढ़ते और पढ़ाते रहिये। जयहिन्द।



कार्टून: इन्टनेट से साभार




Thursday, 12 September 2013

Future of India....भारत का भविष्य




दोस्तो आज कल जहा देखो वहाँ राजनैतिंक चर्चाएँ होती दिखाई दे रही है, हर कोई कॉंग्रेस, BJP की बातें करता मिलता है, लोगो को राजनीति मे इतनी रूचि पहले कभी नही हुई होगी जितनी अब हो रही है|
आजकल तो बच्चे भी चोर-पोलीस का खेल ना खेल के के कॉंग्रेस-बीजेपी का खेल खेलने लगे है.

अभी कुछ दीनो पहले मेरे 7 साल के भतीजे ने मुझ से पुछा की चाचा अगले साल चुनाव है और अगर फिर से कॉंग्रेस जीत गयी तो हमारा प्रधान मंत्री हमारे जैसा होगा, है ना? मेने पूछा बेटा वो कैसे? तुम्हारे जैसा कैसा होगा? तो वो तपाक से बोला की हमारी टीचर कहती है की अगर कॉंग्रेस जीती तो राहुल गाँधी हमारा प्रधानमंत्री होगा और वो बिल्कुल हमारे जैसा है, उसे भी पोगो चेनल पे छोटा भीम देखना अच्छा लगता है, वो उसकी मम्मी की आगे पीछे ही घूमता रहता है, मम्मी के मना करने पर भी बाहर दूसरे लोगो का दिया हुआ खाना खा लेता है, इसलिए वो हमारे जैसा ही हुआ ना…..??
 में क्या कहता, मेने कहा हाँ बेटा, वो तुम्हारे जैसा ही है|
अब उस नन्हे से बचे को कैसे कहे की वो तुमसे भी गया गुज़रा है….
परंतु इस बात ने मुझे यह सोचने पे विवश कर दिया की अगर सच मे अगली सरकार फिर से कॉंग्रेस की बन गयी ( जो की होना संभव है), और सच मे राहुल गाँधी प्रधानमंत्री बन गया तो देश का क्या द्रश्य होगा??



सबसे पहले तो जैसे माँ ने उसका सपना पूरा किया फुड सेक्यूरिटी बिल लाकर, वैसे बेटा अपना सपना पूरा करेगा एक बहुत ही महत्वाकांक्षी योजना, “वाइफ सेक्यूरिटी बिल” लाकर|
जी हाँ, देखिए अब यह लोग कहते है की देश मे 67 करोड़ जनता ऐसी है जिसे पेट भर खाना नही मिलता तो यह लोग फुड सेक्यूरिटी बिल ले आए, अब देश मे अगर लिंग अनुपात की चर्चा करे तो यह भी बहुत कम है 1000 पुरुषो पर 940 महिलाएँ, याने की  6% पुरुष बेचारे ऐसे है जो विदाउट वाइफ बिताते है अपनी लाइफ.
बेचारे राहुल गाँधी जैसे ही कितने पुरुष होंगे जो 40 की उमर पार कर गये परंतु अब तक वाइफ नही मिली, इसीलिए राहुल बाबा का सबसे बड़ा सपना ये ही है, संसद मे वाइफ सेक्यूरिटी बिल को कैसे भी करके पास करवाना, ताकि उनके जैसे कई पुरुष जो बगैर वाइफ के जीवन बसर कर रहे है उन्हे भी घर बसाने का मौका मिले.
अब आप पूछेंगे की  इस बिल को लागू( इंप्लिमेंट) कैसे करेंगे, तो मित्रो जैसे फुड सेक्यूरिटी बिल लागू होगा वैसे ही यह भी हो जाएगा.
ज़्यादा कुछ नही कर पाए तो वेट्रेस इम्पोर्ट करवा लेंगे इटली से…..


राहुल बाबा के दीमाग मे और भी काई योजनाएँ कुलबुला रही है जिन्हे वो जल्द से जल्द लागू करवाना चाहते है जैसे की:
१. दूरदर्शन को बंद कर के पोगो चैनल को राष्ट्रीय चैनल घोषित किया जाए|
२. कौन बनेगा करोड़पती मे सारे सवाल वही पूछे जाए जिनका जवाब राहुल बाबा को पता हो, मतलब KBC के प्रतियोगियों और MTV Roadies के प्रतियोगियों मे कोई अंतर नही रहेगा|
३.हमारे देश मे बिकने वाले सारे शब्दकोषों ( Dictionaries) से भ्रष्टाचार, ग़रीबी, अपराध, बलात्कार, आतंकवाद और काला पैसा जैसे शब्दो को हटाया जाएगा, और अगले 15 August के भाषण मे दावा किया जाएगा की हमने ऐसी तमाम चीज़ो को देश से हटा दिया है जो देश की तरक्की मे बाधक है|
४. पप्पू नाम के लोगो के लिए विशेष अवॉर्ड घोषित किए जाएँगे, अवॉर्ड लेने के लिए आपको अपनी कक्षा 5वीं की मारक्शीट दिखानी पड़ेगी जिसपे आपका नाम पप्पू अंकित होना चाहिए|
५. विशेष क़ानून बनाया जाएगा उन लोगो के लिए जो फ़ेसबुक पर पप्पू जोक्स शेर करते है|
६. राहुल बाबा को मोदी से बहुत डर लगता है, वो सोच रहे है की अगर प्रधानमंत्री बन गया तो सबसे पहले मोदी से कैसे निपटा जाए, उसके लिए मास्टर प्लान है राहुल के पास, वो गुजरात को एक अलग “देश” का दर्जा देने वाले है और फिर मोदी को इंडिया का वीज़ा नही देंगे, इससे कॉंग्रेस की 2 बड़ी समस्याएँ हल हो जाएगी, एक तो पाकिस्तान की आधी बॉर्डर गुजरात शेयर करेगा, और दूसरी बड़ी समस्या मोदी|
बहुत ही क्रांतिकारी सोच है भाई,.... नही?
७. पहली एप्रिल को विश्व पप्पू दिवस मनाया जाएगा|
१०. पप्पू भाई साब यह भी सोच रहे है की सारे उत्तर-पूर्वी राज्यो (नॉर्थ-ईस्ट स्टेट्स) को Join कर दिया जाए और एक संयुक्त राज्य बना दिया जाए , आप कहेंगे की कितना नेक ख़याल है बंदे का, पर इसके पीछे कारण यह है की इनको सारे स्टेट्स का नाम तक नही पता है, कोई पूछ ही ले तो क्या कहेंगे??

ऐसे ही और कई नेक ख़याल इनके दिल मे घर कर बैठे है जो यह देश के राजकुमार इस देश मे इंप्लिमेंट करना चाहते है…

कुछ आपको पता हो तो बताईए !!
...........................................................................................................................Image source: Internet